4 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: muje bahot garmi si feel hoti h mera abhi 1 month chalu h pairo se jaise heat bahar nikalti h

0 Answers
सवाल
अभी तक इस सवाल का कोई जवाब नहीं है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: Mera 8th month chalu h muje pairo me dard hota
उत्तर: हेलो डियर आप परेसान ना हों पेट में बेबी होने के वजह से पूरा भार पैर पे ही पड़ता है इसलिए पैर में दर्द होता है आप पैर में गुनगुने तेल से मलीस करें ऑर उनचि हिल के सेन्दिल ना पहनें सिम्पल फ्लैट्स स्लीपर पहनें इस्से आपके पैरों ऑर एड़ियों को आराम मिलेगा व्यायाम करें ऑर मॉर्निंग वाक करें सोते टाइम पैर में तकिया लगाकर सोएं इसे आपको दर्द में कुछ आराम मिलेगा
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Hi mera beta abhi 1 month 15 days ka hai, use bahot garmi hoti hai use ghamoria bhi aa rahe hai to mai kya karu use bahot heat ho rahi hai
उत्तर: hello बच्चे के शरीर पर होने वाले दाने घमौरिया नहीं होती बच्चे जब पैदा होते हैं तो उनके स्किन पर एक रक्षात्मक परत होती है जिसे स्किन बैरियर भीकहते है। और यह बच्चे के स्क्रीन को बाहरी वातावरण मे एडजस्ट होने में मदद करता है । पैदा होने के कम से कम 15 दिन के बाद यह पेरत झड़ जाती है। पैदा होने के 15 दिन के अंदर अगर बच्चे को कोई भी तेल क्रीम या लोशन लगाई जाती है तो उसका स्किन पर एलर्जी हो जाता है जिसके कारण ऐसे दाने निकल आते हैं। इसलिए अगर आप बच्चे को कोई क्रीम लगा रही होंगी तो उसे कुछ दिनों के लिए बंद कर दें। बच्चों की स्किन बहुत सेंसिटिव होती है और उन्हें छूने या चूमने से भी इंफेक्शन के कारण दाने निकल आते हैं बच्चों के सोने पहनने ओढ़ने के कपड़ों में सफाई नहीं होने के कारण भी दाने निकल आते हैं ऐसे में बच्चे के सफाई का ध्यान रखना चाहिए और उन्हें जिस चीज से एलर्जी हो रही है उसे बंद कर देनी चाहिए और कोई माइल्ड बेबी लोशन यूज़ करे। थोड़े समय बाद बच्चे की यह समस्या अपने आप ठीक हो जाएगी बच्चे को अपना दूध पिलाती रहें क्योंकि दूध से ही बच्चे की इम्यूनिटी पावर स्ट्रांग होती है।L
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Muje abhi 3 mahina chalu hai or muje vomet bahot hoti hai.
उत्तर: hello dear प्रेग्नंसी मे उल्टी होना नॉर्मल है येह बॉडी मे होने वाले हर्मोनल परिवर्तन्ंं की वजह से होती है।यह लगभग 65% महिलाओं को प्रभावित करती है। कुछ महिलाओं को किसी भी लक्षण का सामना नहीं करना पड़ता है। अदरक का रस चाटने से उल्टी मे आराम मिलता है इसके अलावा आपको जब भी उल्टी मह्सूस हो तो curry पत्ता सूंघ सकती है।आप हरा धनिया पीस्कर उसका सेवन करिए इससे भी उल्टी आनी बन्द हो जाती है।आप निम्बू मे काली मिर्च काला नमक मिकस करके उसे चातिये इससे भी आपकौ आरांम मिलेगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Plain milk nhi piya jaata toh usme bournvita daal ke piti hun..is it safe..or esa lagta hai ki pairo ke talwo mein se bahot heat nikalti hai
उत्तर: hi dear, haan flavoured milk main Koi dikkat ni hai. aap pe sakti hai. And for foot burning or hot feed can be feel during pregnancy and in order to get some relief try home-care, as well as natural remedies for burning feet syndrome, are:  Diet: Increase your intake of essential fatty acids. Eat fish, nuts, flaxseed oil and avocados. Eat fresh fruits and vegetables, quality protein sources, organic dairy products and simple sugars. Staying hydrated is very important to help treat burning feet syndrome as lack of sufficient fluids can cause circulatory sluggishness and decrease the rise in body temperature. Comfortable Shoes: Wear shoes that don’t compress your feet and slow circulation. Make sure you have footwear that has supports your arches well and most importantly your shoes should be comfortable. Health Issues: Get yourself checked for liver congestion or kidney deficiencies. Both disorders can affect circulation and increase heat in the body. Also, get your blood sugar and thyroid levels checked. Hydrotherapy: Soak your feet in cold (not icy) water for 15 minutes. This will help provide relief to the tingling, numbness and swelling. Elevation: After a day’s work or even at work, try and lay on the floor or the couch with your feet raised. Use cushions to elevate your feet, keeping them above the level of your heart for about 15 minutes. This will help in clearing the congestion of blood pooling in the feet due to gravity, during the day. Lifestyle Changes: Start gentle exercises and activities that you like doing.  Herbs and Vitamins: B vitamins help to improve blood circulation and to address any potential nutrient deficiencies. Fish oil is a good source for of a potent anti-inflammatory for the cardiovascular system to decrease capillary congestion and support circulation.
»सभी उत्तरों को पढ़ें