14 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: thayraid 0.086 positive h iske bare btay plss dr.n teblets di h vo le rahi hu plss koi problem to nahi h 14 week chal raha h

2 Answers
सवाल
Answer: Hello नॉर्मल थाइरॉइड स्टिमुलतिनग हार्मोस TSH प्रेग्नेन्सी के समय low रहता है नॉर्मल नोनप्रेगननसी लेवल के . 1st ट्रिमेस्टेर में 2.5 से कम रहता है .रेंज है 0.1 से 2.5 . 2nd ट्रिमेस्टेर में 0.2 से 3.0 तक . अगर प्रेग्नेंसी में थायराइड हो गया है तो परेशानी की कोई बात नहीं है डॉक्टर द्वारा दी गई दवाइयां को समय पर ले. समय-समय पर अपना ब्लड टेस्ट कराएं और ध्यान रखें कि आप डॉक्टर से सलाह करके ही थायराइड में सहायक होने वाले व्यायाम या एक्सरसाइज या कोई प्राणायाम करें. आमतौर पर pregnancy के दौरान थायरॉयड के इलाज में दवाओं के डोज बढ़ा दिए जाते हैं लेकिन बच्चे के जन्म के बाद इसे जरूरत के हिसाब से कम कर दिया जाता है। थायराइड आजकल ऐसी प्रॉब्लम है जो बहुत सी लेडीस को होती है ।परेशान मत होइए। हमारे गले में थायराइड ग्लैंड से होती हैं। जो शरीर से आयोडीन लेकर थाराइड हॉर्मोन्स बनाते हैं। यह हारमोंस शरीर में मेटाबॉलिज्म को बनाए रखने में मदद करते हैं। जब इन हारमोंस की मात्रा बढ़ती है या कम होती है तब थायराइड की प्रॉब्लम हो जाती है। जिससे हमारे शरीर में अंदर बाहर बहुत से बदलाव होते हैं । यह दो प्रकार के होते हैं १।हाइपो थायराइड और २।हाइपर थायराइड। थायराइड होने पर आप इन्हें अपने खाने में जरूर शामिल करें। मशरूम -मशरूम में सेलेनियम होता है । थायराइड को कंट्रोल करता है। अंडा -अंडे में भी सेलेनियम होता है। जो थायराइड कम करने में मदद करता है। आप रोज एक अंडा खाए। नट्स खाने से भी थाराइड हारमोंस में मदद मिलती है। आप नट्स में बादाम और अखरोट खा सकती हैं अगर आपको कोई कैलेस्ट्रोल प्रॉब्लम है तो। दूध -दूध पीने से थायराइड हारमोंस को कंट्रोल करने में बहुत मदद मिलती है ।रोज एक गिलास दूध जरूर पीना चाहिए। साबुत अनाज -साबुत अनाज रोज में खाने से थायराइड के साइड इफेक्ट से आप बच सकते हैं। मेथी -मेथी में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो थायराइड हार्मोन कंट्रोल करते हैं । इन सभी चीजों को अपने रोज के आहार में शामिल करें आपके थायराइड समस्या में बहुत आराम मिलेगा। थायराइड होने पर क्या नहीं खाएं । आयोडीन नमक -ऐसा नमक नहीं है जिस में आयोडीन की मात्रा ज्यादा हो।ऐसा कोई आहार ना ले जिसमें आयोडीन बहुत हो। चाय व कॉफी कम से कम ले । अल्कोहल बिल्कुल भी ना लें। वनस्पति घी या डालडा का प्रयोग ना करें। कैपिंग अपना ध्यान रखें .
Answer: ni bas khane pine ka dhyan rakho
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mem mera 23 week chal raha h do din se एसिडिटी ban rahi h कुछ bhi kha nahi paa rahe bhook bhi nahi लगती koi problem to nahi
उत्तर: अगर आपको बहुत ज्यादा एसिडिटी की परेशानी हो रही है इसके लिए आप कुछ घरेलू उपचार कर सकते हैं इसके लिए तो सबसे पहले अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देना होता है आप एक साथ भोजन ना करके थोड़ी थोड़ी मात्रा में भोजन करेंl इसके लिए आप नारियल का पानी पी सकते हैं नारियल का पानी एसिडिटी में बहुत ही लाभदायक होता हैl मूली का रसि या मूली की सब्जी भी एसिडिटी के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है इसे एसिडिटी से छुटकारा मिलती हैl मुनक्के को दूध में उबालकर खाने से भी एसिडिटी से राहत मिलती है इसके साथ-साथ यदि आप पुदीने की पत्ती को पानी में उबालकर उस पानी को ठंडा होने से पीने से भी एसिडिटी कम होता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hllo mam mera 40 week chal rha h abhi lever pain star ni hua h kase pta chlega iske bare me plss tell mr
उत्तर: Hello...dear हर महिला का प्रसव अलग होता है. इसलिए यह बता पाना काफी मुश्किल है कि आपके प्रसव की शुरुआत कब होगी..प्रसव से पहले की अवस्था se आपको यह जानने में मदद मिल सकती है कि आपका प्रसव नजदीक hai.... आप को प्रसव के पहले निम्न प्रकार की समस्या आ सकती है .... * माहवारी (पीरियड) आने से पहले वाली अनुभूति और ऐंठन के साथ लगातार पीठ के निचले हिस्से में या पेट में दर्द.. * दर्द भरे संकुचन, जो नियमित और छोटे अंतराल पर होने लगते हैं और बाद में और लंबे व प्रबल हो जाते हैं.. * एमनियोटिक द्रव के तेजी से बहने या रिसाव से आपकी झिल्ली फट सकती है। ऐसा कुछ भी हो, तो अपनी डॉक्टर से संपर्क करें.. *भूरे या खून सी रंगत का श्लेम aap ki yoni se agar nikal raha ho तो हो सकता है आपका प्रसव बहुत करीब हो या फिर इसमें कई दिन भी लग सकते हैं.. * पेट में गड़बड़ या दस्त.. *भावुक या मनोदशा में उतार चढ़ाव महसूस करना.. * bar बार नींद टूटना.. उपरोक्त मे से अगर आप को कोई भी समस्या लगें टु आप तुरन्त अपने डॉक्टर से समpaरक करे . ओके .. ऑल द बेस्ट .. डियर
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Muje 5th month chal raha hai aur 4 din se mai safar kar rahi hu koi problem to nahi hogi
उत्तर: हेलो डिअर , प्रेग्नेंसीय में ट्रेवेल करना न करे तो अच्छा ही है क्योंकि इससे आपके होने वाले बेबी के लिए रिस्की हो सकता है , सफर के दौरान उची नीची सड़क होने से आपको और आपके होने वाले बेबी को धक्का लग सकता है जो बड़ा ही जोखिम पूर्ण होता है , लेकिन कभी कभी ऐसे परिस्थितियां आ जाती है कि सफर मजबूरी में करना पड़ता है ऐसी परिस्थितियों में आप docter से सलाह लेकर ट्रेवल कर सकते है आप जब भी सफर करे तो ट्रैन,या कार का सफर कर सकती है ये सफर सेफ माना गया है ।.
»सभी उत्तरों को पढ़ें