29 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: placenta maturation ग्रेड ओ का क्या मतलब ह

0 Answers
सवाल
अभी तक इस सवाल का कोई जवाब नहीं है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: पोस्टीरियर लो लाइंग प्लेसेंटा का क्या मतलब है?? कृपया बताएं।
उत्तर: पोस्टीरियर प्लेसेंटा का मतलब होता है जब आपका प्लेसेंटा गर्भाशय की पिछली दीवार से जुड़ जाता है। चिंता न करें क्योंकि यह सामान्य है और एक तरह से अच्छा भी है, क्योंकि जब आपका बच्चा बढ़ेगा, तो उसे गर्भाशय में अधिक स्थान की आवश्यकता होगी। इसलिए डिलीवरी के समय बच्चा आसानी से घूम सकता है और पोस्टीरियर प्लेसेंटा का सहारा लेकर प्रसव की स्थिति में आ सकता है। लो लाइंग प्लेसेंटा का मतलब है, प्लेसेंटा का गर्भाशय में नीचे की ओर आ जाना। इस स्थिति में बेबी के डिलीवरी में प्रॉब्लम हो सकती है और प्लेसेंटा बेबी से पहले बाहर आ सकता है। घबराएं नहीं क्योंकि आम तौर पर प्रसव का समय आते तक प्लेसेंटा ऊपर चला जाता है। कुछ मामलों में प्लेसेंटा नीचे ही रह जाता है, ऐसी स्थिति में प्रसव के समय अधिक ब्लीडिंग हो सकती है। इससे बचने के लिए पर्याप्त आराम करें। भारी वजन न उठाएं और चिंता न करें क्योंकि 32 वें सप्ताह में एक और यूएसजी से आपको प्लेसेंटा की स्टिक स्थिति पता चल जाएगी। 70% उम्मीद यही है कि तब तक प्लेसेंटा गर्भाशय में ऊपर की ओर चला जाएग। अगर आप को योनि में रक्त के धब्बे दिखाई दें या फिर पेट में अचानक से तेज़ दर्द हो, तो तुरंत ही आपको अपने डॉक्टर के पास जाना चाहिए। अपना ख्याल रखें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: placenta पॉस्टिरीएर ग्रेड 2 का किया मतलब है plz btaye
उत्तर: hello dear posterior placenta koi samasya nahi hai इस अवस्था में अपरा गर्भाशय की आगे की दीवार पर स्थित होती है अपरा अगर आगे की तरफ स्थित हो तो शिशु की हलचल सीमित कर देता है इसका मतलब यह होता है कि हो सकता है गर्भावस्था के दौरान आपको बच्चे की हलचल कुछ देर से महसूस हो जिन महिलाओं की अपरा की स्थिति में हो तो हो सकता है उनकी तुलना में आपको दूसरी तिमाही में शिशु की बहुत कम हलचल महसूस हो।।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: placenta राइट लेते पॉस्टिरीएर ,मिदलोवेर सेग्मेंट का क्या मतलब ह
उत्तर: हेलो डिअर इस अवस्था में भी शिशु का सर झुका होता है, लेकिन यहाँ उनका चेहरा आपके पेट की तरफ होता है। लेबर के पहले चरण में, लगभग 1/3 और 2/3 बच्चे इसी पोजीशन में होते हैं। डेलिवेरी से पहले अधिकतर बच्चे खुद को घुमा लेते हैं।शिशु के ऐसे पोजीशन में होने पर ज़्यादातर मायों को कमर दर्द(back pain) की तकलीफ होती है। इस स्तिथि में हो सकता है कि डिलीवरी में अनुमानित से ज़्यादा समय लगे।
»सभी उत्तरों को पढ़ें