2 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: hmara pahla sptah h or hmare pet m jaln bhut hoti h kyo

1 Answers
सवाल
Answer: पेट में जलन के कई हो सकते हैं लेकिन एसिडिटी मेन हो सकता है आप कुछ उपाय अपनाकर इसे अवश्य कम कर सकते हैं एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही के सेवन से आपको एसिडिटी में आराम होगा केला खाने से भी एसिडिटी में आराम मिलता है तैलीय मसालेदार भोजन खट्टे फल चॉकलेट कॉफी यह सब खाद्य पदार्थ एसिडिटी को बढ़ाने के लिए जाने जाते हैं इसलिए इनसे दूरी बनानी चाहिए टोमेटो केचप डिब्बाबंद चीजें ना खाएं क्योंकि इनमें प्रिजर्वेटिव्स यूज करते हैं जो कि एसिडिटी को बढ़ाते हैं इस समय आप को यह सब चीजें अवॉइड करनी चाहिए फिर भी आराम ना हो तो डॉक्टर से जरूर कंसल्ट करें
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: yoni me jaln kyo hoti h
उत्तर: आपको यूरिन इन्फेक्शन की प्रॉब्लम हो रही है जिस कारण योनि में जलन हो रही है । ऐसी स्थिति में आपको अधिक से अधिक तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए । 10 से 12 glass पानी प्रतिदिन पीना चाहिए और नारियल पानी का सेवन भी प्रतिदिन करना चाहिए आपको अपनी योनि की साफ सफाई पर विशेष ध्यान देना चाहिए । उसे अधिक देर तक गिला ना छोड़ें । गीला हो जाता है तो तुरंत आपको कपड़े चेंज करने चाहिए और अजवाइन का पानी उबाल कर रख ले उस्से योनि को 2 -3 बार साफ़ करे । आपको जल्द ही अराम मिल जायेगा ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: pet me jaln bhut hoti hai
उत्तर: कृपया पानी का प्रयोग अधिक्तम मात्रा में करें जूस का सेवन भी करें थोड़े थोड़े समय अन्तरल में भोजन करती रहें भूख के करन भी पेट में जलन होती है dabh पानी भी पियें बहुत ही लाभदायक होता है .
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hmara 7 mant chal rha hai hme bhut jaln padti hai shine me or bhut pain hai kamer m
उत्तर: गर्भावस्था में सीने में जलन----- गर्भावस्‍था के दौरान सीने की जलन की समस्‍या तीसरी तिमाही यानी 6 महीने के बाद होती है। सीने और गले में जलन, मुंह में खट्टा और अम्‍लीय स्‍वाद, आदि इसके प्रमुख लक्षण हैं। जैसे-जैसे बच्चे का विकास होने लगता है, वैसे-वैसे वह पेट के अंदर के अंगों को ऊपर की ओर ढकेलने लगता है, जिसके कारण पेट में एसिडिटी और जलन की समस्या शुरु हो जाता है। घरेलू उपचार के जरिये इस समस्‍या का दूर किया जा सकता है।  (1)गर्भावस्‍था के दौरान सीने में होने वाली जलन को दूर करने के लिए बादाम का सेवन कीजिए। प्रोटीनयुक्‍त बादाम में तेल पाया जाता है, जो एसिडिटी की समस्‍या को दूर करने में सहायक है (2)अदरक के सेवन से पाचन शक्ति बढ़ती है। सीने में जलन के इलाज में भी बहुत कारगर यह अदरक। ताजा अदरक को चबाने या अदरक वाली चाय पीने से पेट की समस्‍या दूर होती है  (3)दही पाचन तंत्र में सुधार करता है, जिससे खाना आसानी से पच जता है। इसका सेवन करने से गर्भावस्‍था के दौरान पेट संबंधित समस्‍या होने की संभावना कम रहती है(4)एलोवेरा में सीने की जलन को कम करने और एसिडिटी से तुरन्‍त राहत प्रदान करने की अद्भुत क्षमता पायी जाती है। एलोवेरा जूस को पानी में मिलाकर इसका सेवन कर सकते हैं। इससे पेटमें जलन सभी प्रकार की समस्‍यायें दूर होती हैं। इसका सेवन गर्भावस्‍था के दौरान किया जा सकता  (5)गर्भावस्‍था के दौरान अगर सीने में जलन हो तो नींबू के रस का सेवन कीजिए। एक लीटर पानी में एक छोटा चम्‍मच नींबू का रस और दो चम्‍मच शहद अच्‍छे से मिला लीजिये इससे पाचन क्रिया सुधरती है और एसिडिटी भी नहीं होती। यह सीने की जलन दूर करने का अच्‍छा तरीका है।  (6)सामान्‍यतया सौंफ का सेवन अगर किया जाये तो पेट संबंधी किसी भी प्रकार की समस्‍या नहीं होती है। । गर्भावस्था मे कमर दरद-----आपका वजन सामान्य से अधिक है या फिर आप पहले भी गर्भवती हो चुकी हैं, तो आपको कमर दर्द होने की संभावना अधिक रहती है।आपकी मांसपेशियों में थकान और अस्थं पर आपके शरीर एवं शिशु का वजन पड़ने से होने वाले हल्के खिंचाव के कारण होता है।  आपको कम उचाई या फ्लैठ चप्पलें पहनें पैरो मे गुनगुने तेल हल्की मालीश लें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mere sine me bhut jaln hoti h
उत्तर: एसिडिटी शरीर में हार्मोनल और शारीरिक बदलाव के कारण होती है आप कुछ उपाय आजमा कर इसे कम करने का प्रयास अवश्य कर सकती हैं जैसे कि तेलिया मसालेदार भोजन ,चॉकलेट खट्टे फल, कॉफी यह सभी खाद्य पदार्थ एसिडिटी को बढ़ाने के लिए जाने जाते हैं इस समय आप इन्हें अवॉइड करें पानी पिएं टोमेटो केचप डिब्बाबंद चीजें ना खाएं इनमें प्रिजर्वेटिव्स यूज़ करते हैं एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही का सेवन एसिडिटी और का सदियों पुराना इलाज माना जाता है कुछ लोगों का मानना है कि केला खाने से भी इसमें फायदा होता है फिर भी अगर आपको आराम नहीं होता है तो आप अपने डॉक्टर से भी परामर्श ले सकते हैं
»सभी उत्तरों को पढ़ें