गर्भावस्था की तैयारी

Question: NT NTD scan kab karaya jata h or kya yh krana jaruri hota h

1 Answers
सवाल
Answer: हेलों आप 10 वीक प्रेगनेट है एन.टी. स्कैन आप डॉक्टर की सलाह पर या खुद भी चाहें तो करवा सकती है यह करवाना जरूरी नही होता है एनटी स्कैन आमतौर पर बच्चे को जन्म देने से पहले कराया जाता है। हालांकि यह यह गर्भवती महिला की इच्छा पर निर्भर करता है कि वह एनटी स्कैन कराना चाहती है या नहीं। न्यूकल ट्रांसलुसेंसी स्कैन कराने से बच्चे के स्वास्थ्य जैसे एनीमिया, हृदय में समस्या और जेस्टेशनल डायबिटीज सहित बच्चे में डाउन सिंड्रोम के भी लक्षणों का पता चल जाता है। यह स्कैन प्रेगनेंसी की पहली तिमाहीमें कराया जाता है। एनटी स्कैन के माध्यम से बच्चे की सेहत एवं गुणसूत्र में असामान्यताओं के बारे में बहुत आसानी से पता चल जाता हैl एनटी स्कैन पूरी तरह से सुरक्षित है। इस स्कैन के दौरान गर्भवती महिला को किसी तरह का दर्द नहीं होता है। यह स्कैन कराने से गर्भवती महिला के बच्चे को भी कोई नुकसान नहीं होता है।यह स्कैन गर्भावस्था की पहली तिमाही में कराना ज्यादा फायदेमंद होता है क्योंकि इस दौरान बच्चे में कोई असमान्यता होने पर वह स्कैन में सही तरीके से पता चल जाता है ।एनटी स्कैन कराने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि गर्भावस्था के शुरूआत में ही बच्चे में डाउन सिंड्रोंम का निदान हो जाता है जिससे डॉक्टर से समय रहते ही इस समस्या के उपचार के लिए सलाह ली जा सकती है।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: N T scan karana jaruri hai aur ye kab karaya jata hai .?
उत्तर: Hello dear न्यूकल ट्रांसलुसेंसी स्कैन कराने से बच्चे के स्वास्थ्य जैसे एनीमिया, हृदय में समस्या और जेस्टेशनल डायबिटीज सहित बच्चे में डाउन सिंड्रोम के भी लक्षणों का पता चल जाता है। यह स्कैन प्रेगनेंसी की पहली तिमाहीमें कराया जाता है। एनटी स्कैन के माध्यम से बच्चे की सेहत एवं गुणसूत्र में असामान्यताओं के बारे में बहुत आसानी से पता चल जाता हैl एनटी स्कैन पूरी तरह से सुरक्षित है। इस स्कैन के दौरान गर्भवती महिला को किसी तरह का दर्द नहीं होता है। यह स्कैन कराने से गर्भवती महिला के बच्चे को भी कोई नुकसान नहीं होता है।यह स्कैन गर्भावस्था की पहली तिमाही में कराना ज्यादा फायदेमंद होता है क्योंकि इस दौरान बच्चे में कोई असमान्यता होने पर वह स्कैन में सही तरीके से पता चल जाता है ।एनटी स्कैन कराने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि गर्भावस्था के शुरूआत में ही बच्चे में डाउन सिंड्रोंम का निदान हो जाता है जिससे डॉक्टर से समय रहते ही इस समस्या के उपचार के लिए सलाह ली जा सकती है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: fetal echocardiography kiya hota h....yh test kb krana hota h ...kiya yh complusory h kiya
उत्तर: हेलो डियर भ्रूण इकोकार्डियोग्राफी एक अल्ट्रासाउंड परीक्षण है जो गर्भावस्था के दौरान अजन्मे बच्चे के दिल का मूल्यांकन करता है। इकोकार्डियोग्राफी दिल की संरचनाओं और कार्य का आकलन करती है। भ्रूण की इकोकार्डियोग्राफी जन्म से पहले दिल की असामान्यताओं का पता लगाने में मदद कर सकती है, डियर अगर आपको डॉक्टर ने यह टेस्ट करवाने के लिए कहा है तो बिल्कुल आप टेस्ट करवाएं और डॉक्टर के नियमों का सही से पालन करें जैसा डॉक्टर काहे बिल्कुल वैसा ही करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mam kya nt scan or doubl markr test krana jaruri h or kis टाइम pr krate h
उत्तर: हेलों एनटी स्कैन और डबल मार्कर स्कैन डॉक्टर पहले तिमाही में करने की सलाह देते है ं आप यह स्कैन डॉक्टर की सलाह से ही करवाएं यह स्कैन करवाना जरूरी नहींं हो ता है लेकि न इस स्कैन के बाद आप निश्चिंत हो सकते हैं कि आपके बच्चे का विकास सही से हो रहा है और उसमें किसी प्रकार के मान से प्रॉब्लम नहीं है न्यूकल ट्रांसलुसेंसी स्कैन कराने से बच्चे के स्वास्थ्य जैसे  एनीमिया, हृदय में समस्या और जेस्टेशनल डायबिटीज सहित बच्चे में डाउन सिंड्रोम के भी लक्षणों का पता चल जाता है। डबल मार्कर टेस्ट से इस टेस्ट के माध्यम से बेबी को डाउन सिंड्रोम तो नही है पता चलता है डाउन सिंड्रोम के साथ बच्‍चे को ये प्रॉब्लम हो सकती है जैसे असामान्य चेहरे की विशेषताएं, तिरछी आँखें और छोटे कान और बौद्धिक परेशानी का होना ।सुनाइ ना देना दिखाई ना देना हार्ट प्रॉब्लम,फ़ेफ़डो का कम विकसित होना ला यदि आप की उम्र 35 साल से ज्यादा है तो आप यह टेस्ट जरूर करवाएं
»सभी उत्तरों को पढ़ें