8 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mujhe potty nhi hoti hai barabar aur kamar dard pet dard bhi hota hai kya karu

1 Answers
सवाल
Answer: आप कुछ घरेलू उपचार है , कर के देखें राहत मिलेगी अगर फिर कुछ फर्क नही पडा तो आप डॉक्टर से एक बार दिखा दो . मुनक्‍का में कब्‍ज नष्‍ट करने के तत्‍व मौजूद होते हैं। 6-7 मुनक्‍का रोज रात को सोने से पहले खाने से कब्‍ज समाप्‍त होती है। इसके अलावा सुबह उठने के बाद बिना कुछ खाए हुए, 4-5 दाने काजू के और 4-5 दाने मुनक्‍का के साथ खाइए, इससे कब्‍ज की शिकायत समाप्‍त होगी। ईसबगोल पेट की लगभग हर समस्या का इलाज हो सकता है। ये गर्भावस्था के दौरान कब्ज दूर भागने के लिए यह बहुत लाभकारी होता है। ऐसी अवस्था में एक ग्लास गर्म दूध में एक चमच्च ईसबगोल मिलकर पी जायें। नियमित रूप से ऐसा करने से पेट की ये समस्या बिल्कुल ठीक हो जाती है। पेट का भार लगातार नीचे की ओर होता है, इसलिए इस समय मांसपेशियों का पर दबाव ज्‍यादा होता है महिला के अंदर हर समय हो रहे हार्मोन में बदलाव भी दर्द का कारण बनते हैं दर्द को अगर कम करना है तो रात को सोते समय पीठ के बजाय करवट लेकर ही सोएं कमर पर कम दबाव पडें, इसके लिए अपने घुटनों के नीचे तकिया लगाकर सोएं, अपने घुटनों के बीच तकिया लगाकर सोने से भी आप कमर दर्द से बच सकते हैं इस समय हल्‍के तथा ढीले-ढाले कपड़े पहनने चाहिये, टाइट कपड़े पहनने से शरीर में खून का दौरा कम होने लगता है और इसी कारण मांसपेशियां दर्द होने लगती हैं, इसलिए सूती के आरामदायक कपड़े ही पहनने चाहिये, इसी के साथ हाई हील चप्‍पलें या जूते भी कमर की मांसपेशियों पर असर डालते हैं, जिस कारण दर्द होता है.
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mujhe halka रीसव ho raha hai kya aur pet aur kamar me dard bhi hai
उत्तर: hello आठवें नवें महीने में पेट की साइज बड़ी हो जाती है और ज्यादा देर तक एक ही पोजीशन में रहने से पेट पर खिंचाव पड़ता है और दर्द होने लगता है ज्यादा देर तक खड़े रहने से पेट नीचे लटकता है जिसके कारण पसलियों में और सीने में भी दर्द होता है बच्चा पूरा डेवलप हो चुका होता है जिसके कारण उसके लिए पेट में जगह कम होती है इस समय बेबी का मूवमेंट बहुत कम हो जाता है और जब वह मूवमेंट करता है तो वह शरीर के आंतरिक अंगों से टकराता है जिसके कारण ही पेट और चेस्ट में दर्द होता हैऔर कभी कभी डिस्चार्ज भी होता है।आप परेशान ना हो।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mere kamar aur pith mai dard hota hai kya karu
उत्तर: हेलो प्रेग्न्सी में होर्मोन चेंजेज और माँ और बच्चे के बढ़ते वेट के कारण गर्भाशय पर दबाव पड़ता है जिसके कारण आसपास के अंग पर भी प्रेशर पड़ता है जैसे कमर पीठ पैर हाथ पेट etc प्रेग्नेन्सी में कमर , पीठ में दर्द होना तो समान्य है इसके लिए आप प्रॉपर सपोर्ट लें के बैठे lलंबे टाइम के लिए ना बैठे l रेस्ट करे , धीरे धीरे हलकी हलकी एक्सर्साइज करे l कमर और पीठ मे सरसों के ऑयल से हलकी मालिश भी लें सकती है आपको आराम मिलेगाl आराम करे lआप गरम पानी की बॉटल से सीकाइ भी कर सकती है आपको आराम मिलेगा सोते समय सपोर्ट ले के सोएं और तकिया ना लगायें एक ही postion में ना सोएं करवट बदलते रहे कमर पर कम दबाव पडें, इसके लिए अपने घुटनों के नीचे तकिया लगाकर सोएं, अपने घुटनों के बीच तकिया लगाकर सोने से भी आप कमर,पीठ दर्द से बच सकते हैं इसी के साथ हाई हील चप्‍पलें या जूते भी कमर की मांसपेशियों पर असर डालते हैं, जिस कारण दर्द होता hai.हेवी saaman ना उठा ये हलकी हलकी एक्सर्साइज करे जिसके कारण आपको बैक पेन में राहत मिलेगी सूर्य के प्रकाश में20 से 25 मिनट बैठे सन रेज से मिलने वाले विटामिन डी आपके कमर , पीठ में दर्द ko kam karne और बच्चे के विकास में हेल्पफूल है पानी भरपूर पीये स्ट्रेस ना ले
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mujhe kabhi कभी pet aur kamar me dard hota hai ये kya dilivery najdeek hone ke sanket hai pairon me bhi dard hota rahta hai
उत्तर: प्रेगनेंसी की पूरी अवधि ४०वीक्स मानी जाती है। बहुत से बच्चे ३७वीक से ४० वीक के अंदर पैदा हो जाते है। वीक्स आपके पीरियड के पहले दिन से काउंट किय जाते है। लास्ट लास्ट के month मे आप कुछ बातों का खास ध्यान रखिए। बच्चे का मूवमेंट दिन में कम से कम 15baar होना जरुरी हैं कभी कभी बच्चे सोते रहते हैं. यदि आपको मूवमेंट मेहसुस नहीं हो रही है तो आप ठंडा पानी पीजिए अपने पेट me हाथ फेरते रहिये... अगर कुछ मूव मेंट ना दिखे तो डॉ को जरूर दिखाए. लास्ट लास्ट प्रेग्नेन्सी में बच्चे का सर पेल्विक एरिया मि फिक्स होने लगता है जिससे बेबी का मुवमेंट थोड़ा कम या अलग लग सकता है. आप किसी भि प्रकार का वेजिनल लीकेज को नोटिस करते रहिए । जिससे आपको पता चलेगा अगर आपका वाटर लीक होगा तब और किसी भी प्रकार का डिस्चार्ज होगा तब आपको डॉ से संपर्क करना है।।।सफेद डिस्चार्ज नार्मल है उसमें घबराने की बात नहीं है।।। आप अपने बेबी के लिए एक हॉस्पिटल बैग तैयार कर लीजिये जिसमे कुछ जरुरी सामान रखना होगा जेसे बच्चे के २।।३ सेट धुले कपडे और धुप में अच्छे से सुखाय हुये।।।आपके २।।३ सेट फीडिंग वाले गाउन दो तीन पैर अंडर गारमेंट ।।जरूरी हॉस्पिटल के डॉक्युमेंट्स।।diaper ।।बेबी वाइप ।।एक टॉवल और बेबी को ढाक्ने और cuddle करने के लिए ब्लंकेत।। अगर किसी भी प्रकार का तेज़ पेट में दर्द होता है तो अपने डॉ से मिलिये।।यह लेबर पेन भी हो सकता है।।। आप अच्छा सन्तुलित खाना लीजिये।।खुश रहिये और अपने बेबी का वेट कीजिये।
»सभी उत्तरों को पढ़ें