40 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mujhe kabhi कभी pet aur kamar me dard hota hai ये kya dilivery najdeek hone ke sanket hai pairon me bhi dard hota rahta hai

2 Answers
सवाल
Answer: प्रेगनेंसी की पूरी अवधि ४०वीक्स मानी जाती है। बहुत से बच्चे ३७वीक से ४० वीक के अंदर पैदा हो जाते है। वीक्स आपके पीरियड के पहले दिन से काउंट किय जाते है। लास्ट लास्ट के month मे आप कुछ बातों का खास ध्यान रखिए। बच्चे का मूवमेंट दिन में कम से कम 15baar होना जरुरी हैं कभी कभी बच्चे सोते रहते हैं. यदि आपको मूवमेंट मेहसुस नहीं हो रही है तो आप ठंडा पानी पीजिए अपने पेट me हाथ फेरते रहिये... अगर कुछ मूव मेंट ना दिखे तो डॉ को जरूर दिखाए. लास्ट लास्ट प्रेग्नेन्सी में बच्चे का सर पेल्विक एरिया मि फिक्स होने लगता है जिससे बेबी का मुवमेंट थोड़ा कम या अलग लग सकता है. आप किसी भि प्रकार का वेजिनल लीकेज को नोटिस करते रहिए । जिससे आपको पता चलेगा अगर आपका वाटर लीक होगा तब और किसी भी प्रकार का डिस्चार्ज होगा तब आपको डॉ से संपर्क करना है।।।सफेद डिस्चार्ज नार्मल है उसमें घबराने की बात नहीं है।।। आप अपने बेबी के लिए एक हॉस्पिटल बैग तैयार कर लीजिये जिसमे कुछ जरुरी सामान रखना होगा जेसे बच्चे के २।।३ सेट धुले कपडे और धुप में अच्छे से सुखाय हुये।।।आपके २।।३ सेट फीडिंग वाले गाउन दो तीन पैर अंडर गारमेंट ।।जरूरी हॉस्पिटल के डॉक्युमेंट्स।।diaper ।।बेबी वाइप ।।एक टॉवल और बेबी को ढाक्ने और cuddle करने के लिए ब्लंकेत।। अगर किसी भी प्रकार का तेज़ पेट में दर्द होता है तो अपने डॉ से मिलिये।।यह लेबर पेन भी हो सकता है।।। आप अच्छा सन्तुलित खाना लीजिये।।खुश रहिये और अपने बेबी का वेट कीजिये।
Answer: 🙏अभी हो सकता है कुछ दिनों में आपको लेबर पेन चालू हो जाए क्योंकि अभी आपका डिलीवरी डेट आना बाकी है डिलीवरी डेट के 8 से 10 दिन ऊपर नीचे की डिलीवरी हो जाता है इस में आप बिल्कुल ना घबराए इसमें डरने वाली कोई बात नहीं। जैसा कि आपका डिलीवरी डेट बहुत पास आ गया है तो आपको ध्यान रखना चाहिए आपको लेबर पेन कभी भी स्टार्ट हो सकता है आपको कोई भी दर्द कोई स्त्राव को अनदेखा नही करना चाहीये।लेबर पेन के कुछ लक्षण हैं जिससे आप अंदाजा लगा सकती हैंकि आपको लेबर पेन हो रहा है --- डिलीवरी पेन MC के दर्द जैसे होता है जो धीरे-धीरे बढ़ता जाता है इस में पेट और कमर पर भी दर्द होता है बेचैनी लगती है। पेट के निचले जगह पर है एंठन और दर्द महसूस होता है।शरीर कांपने लगता है। डिलीवरी पेन धीरे-धीरे बढ़ता जाता है अगर आप का दर्द बढ़ रहा है तो आपको तुरंत डॉक्टर के यहां जायें। अगर आपको पेन न भी हो रहा हो तब भी आपको डाक्टर से कंसल्ट करना चाहिए । Take care💐
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: dilivery najdeek hone ke sanket kya hai ?
उत्तर: waterfaal hona baar baar bathroom toliet aana kamar ya pet में lagataar pain delivery date pass hai apki agar koi भी परेशानी lagti hai kisi बडे़ ki help le dr ko consult kre
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मुझे बहुत दर्द रहता है नाभि के नीचे और पैर और कमर में बहुत ज्यादा दर्द रहता है क्या करूँ
उत्तर: हेलो डियर जैसे-जैसे प्रेगनेंसी बढ़ती है वैसे-वैसे किसी किसी को लेफ्ट साइड तो किसी को राइट साइड थोड़ा मीठा मीठा दर्द महसूस होने लगता है ऐसा इसलिए होता है क्योंकि बच्चे का निरंतर अंदर वेट बढ़ रहा है जिसकी वजह से पेट पर और कमर पर भार पड़ता है और इसी वजह से दर्द होता है आपको जिस साइड में दर्द है उस साइड में ना सोकर जिस साइड में दर्द नहीं हो रहा है उस साइड पर सोए बहुत देर तक कभी भी खड़े नहीं रहे बहुत देर तक बैठे नहीं रहे पैरों को कभी लटका पर नहीं बैठना चाहिए थोड़ा बहुत दर्द रहना प्रेगनेंसी में बिल्कुल नॉर्मल है क्योंकि अंदर यूट्रस फैल रहा होता है जिसकी वजह से हम को यह दर्द होता है पर यदि दर्द बढ़ने लगे या कोई और प्रॉब्लम होने लगे तो डॉक्टर से जरूर कंसल्ट करें डियर इस दौरान पीठ में दर्द होना बहुत आम है. एक ही अवस्था में बहुत देर तक बैठने या खड़ी होने से बचें बाल्म लगाकर गरम पानी से सिकाई कर लिजिए। हल्का काम ओर थोड़ा बहुत घुमने भी जाइए। केल्शियम कि टेबलेट जो डॉक्टर ने दि हैं वो लिजिए समय पर। प्रेग्नेंसी में ऐसा होता है। गर्म पानी से सिकाई करें। रात को सोते समय पैरों के नीचे तकिया लगाकर सोये।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mujhe potty nhi hoti hai barabar aur kamar dard pet dard bhi hota hai kya karu
उत्तर: आप कुछ घरेलू उपचार है , कर के देखें राहत मिलेगी अगर फिर कुछ फर्क नही पडा तो आप डॉक्टर से एक बार दिखा दो . मुनक्‍का में कब्‍ज नष्‍ट करने के तत्‍व मौजूद होते हैं। 6-7 मुनक्‍का रोज रात को सोने से पहले खाने से कब्‍ज समाप्‍त होती है। इसके अलावा सुबह उठने के बाद बिना कुछ खाए हुए, 4-5 दाने काजू के और 4-5 दाने मुनक्‍का के साथ खाइए, इससे कब्‍ज की शिकायत समाप्‍त होगी। ईसबगोल पेट की लगभग हर समस्या का इलाज हो सकता है। ये गर्भावस्था के दौरान कब्ज दूर भागने के लिए यह बहुत लाभकारी होता है। ऐसी अवस्था में एक ग्लास गर्म दूध में एक चमच्च ईसबगोल मिलकर पी जायें। नियमित रूप से ऐसा करने से पेट की ये समस्या बिल्कुल ठीक हो जाती है। पेट का भार लगातार नीचे की ओर होता है, इसलिए इस समय मांसपेशियों का पर दबाव ज्‍यादा होता है महिला के अंदर हर समय हो रहे हार्मोन में बदलाव भी दर्द का कारण बनते हैं दर्द को अगर कम करना है तो रात को सोते समय पीठ के बजाय करवट लेकर ही सोएं कमर पर कम दबाव पडें, इसके लिए अपने घुटनों के नीचे तकिया लगाकर सोएं, अपने घुटनों के बीच तकिया लगाकर सोने से भी आप कमर दर्द से बच सकते हैं इस समय हल्‍के तथा ढीले-ढाले कपड़े पहनने चाहिये, टाइट कपड़े पहनने से शरीर में खून का दौरा कम होने लगता है और इसी कारण मांसपेशियां दर्द होने लगती हैं, इसलिए सूती के आरामदायक कपड़े ही पहनने चाहिये, इसी के साथ हाई हील चप्‍पलें या जूते भी कमर की मांसपेशियों पर असर डालते हैं, जिस कारण दर्द होता है.
»सभी उत्तरों को पढ़ें