6 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mujhe buth ninid ati h koi prrshni to nhi hogi na

1 Answers
सवाल
Answer: hello dear मै आपकौ बता दुं की सबकी pregnancy अलग-अलग होती है।किसी को जायदा नीद आती है तो किसी को कम ।लेकिन यैसा होना नॉर्मल है इसका मुख्य कारण हर्मोनल परिवर्तन होता है ।आप संतुलित और पौष्टिक भोजन लीजिए ज्यादा से ज्यादा मात्रा में पानी पीजिए टेंशन मुक्त रही है और अगर आपको नींद आती है और आपको लगता है कि आपको आराम करना चाहिए तो आप आराम भी करिए ।इससे आपके और आपके बेबी की हेल्थ पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ेगा।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mujhe buth ninid ati hai..mujhe koi dikt to nhi hogi na
उत्तर: हेलो प्रेगनेंसी के पहले 3 महीने बहुत तकलीफ दे हहोते हैं किसी को बहुत ज्यादा नींद आती है तो किसी को नींद आती ही नहीं किसी को बहुत भूख लगती है तो किसी को भूख ही नहीं लगती यह सब प्रेगनेंसी के दौरान होने वाले हार्मोन अल चेंजेज के कारण होते हैं प्रेग्नेंसी में 7 से 9 घंटे की नींद जरूरी होती है आप अच्छी हेल्थी डाइट लीजिए। बॉडी में शुगर की कमी होने से भी नींद आती है और बीपी लो होने से भी नींद बहुत आती है। आप ज्यादा से ज्यादा पानी पीजिए नारियल पानी पीने चाय कॉफी कोल्ड ड्रिंक अवॉइड करें सुबह शाम वाॅक पर जाएं। आराम मिलेगा
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mujhe bhut ulti hoti h ise delivery ke time koi presani to nhi hogi na
उत्तर: हेलो डियर उल्टी होने से आपकी प्रेगनेंसी के टाइम में प्रॉब्लम नहीं आएगीहार्मोन के बदलने की वजह से उल्टी होना बहुत ही नॉर्मल बात है और यह प्रेगनेंसी में किसी भी महीने तक हो सकता है कभी-कभी यह 3 महीने तक ही होकर बंद हो जाता है मगर कभी-कभी पूरे 9 महीने तक उल्टी हो सकता है और इससे आपके बेबी को कोई प्रॉब्लम नहीं होगी मगर इसके लिए आपको अपने खान-पान में खास ध्यान देना चाहिए ताकि आपको किसी तरह की कमजोरी ना हो सकेताकि आपका बेबी पूरी तरह स्वथ रह सके इसके लिए आप पूरी तरह से संतुलित आहार ले तथा उल्टी होने की स्थित मे कोशिश करे कि जादा तला भुनाना खाए जितना हो सके हल्का भोजन करे एक ही बार मे पेट भरकर ना खाऐ दिन भर मे थोढा थोढा करके खाऐ इससे आपका पेट जादा नही भरेगा और खाना को पचने मे आसानी होगी और आप जादा उल्टी होने से बच पाये।तथा तरल वस्तुओ का इस्तमाल जादा से जादा करे ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mem mujhe 3 month h or mujhe thariod bhi h to aage beby ko koi problam to nhi hogi na
उत्तर: थायराइड problem को कंट्रोल किया जा सकता है par इसके लिए सही इलाज और exercise important है थायराइड के कारण बच्चे के शारीरिक और मानसिक development पर प्रभाव पड़ता है इसलिए थायराइड का पता लगते ही प्रेग्नेंट वुमन को तुरंत इलाज शुरू कर देना चाहिए डॉक्टर के अनुसार सारी जांच कराते रहना चाहिए और medicines timely nd regular लेनी चाहिए साथ ही साथ प्रेगनेंसी के हर month में भी जांच कराते रहना चाहिए इससे होने वाले बच्चे पर थायराइड का कोई प्रभाव नहीं पड़ता, प्रेग्नेंट वुमन भी सुरक्षित रहती हैं
»सभी उत्तरों को पढ़ें