34 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: muje pairo me bhot dard hota he or rat ko nind bhi nai ati koi sujav kriye na plzzz

1 Answers
सवाल
Answer: hello डियर "aap 34 week ki pregnet hai...प्रेगनेंसी में पैर दर्द होना कॉमन है हार्मोन में बदलाव या शारीरिक परिवर्तन होने के कारण पैर में दर्द की स्थिति उत्पन्न हो जाती है आप कुछ घरेलू उपाय से पैर दर्द को दूर कर सकती हैं | एक ही पोजीशन में लंबे समय तक खड़े या बैठे ना रहे पोजीशन चेंज करते रहे |सरसों तेल में लहसुन को डालकर गर्म करें और इसी गर्म तेल से पैरों की हल्की हल्की मसाज kre..पैर को लटका कर ना बैठ |पौष्टिक व संतुलित आहार लें |हल्की धूप, मैं बैठे ,धूप से seविटामिन डी मिलता है जो की मांसपेशियों को मजबूत बनाता है |दूध ,पनीर, दही, सोयाबीन, हरी पत्तेदार सब्जियां आदि का प्रयोग भोजन में करें कैल्शियम में वृद्धि होगी ,जिससे आपके हड्डियों में मजबूती आएगी वशारीरिक दर्द में कमी होगी|रात को सोते समय पैर को खुली हवा में ना रखें |गर्म पानी में नमक डालकर कुछ समय तक पैरों को डूबा कर रखें इससे भी पैर दर्द में कमी आ सकती है|
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: muje rat ko nind nh ati or or pairo me dard hota hai.....
उत्तर: गर्भावस्था में निंद न आने का एक कारन घबराहट है जिसकी वजह से नींद आने में कठिनाई होती है। उन्हें लेबर पैन से भी बहुत डर लगता है। साथ ही पेट में दरद होने के कारण बेचैनी और असहजता महसूस होता रहता हैएसीडिटी गैस मरोड़आदी के कारन भी निंद नही आ पाती।निंद लेने के उपाय----- 1)तेलीय नमक मिर्च मसाला चटपटा खाने से दूर रहे। 2)सोने से पहले गुनगुने पानी से नहाए हल्की हल्की मसाज लें मनपसंद गाना सुने या बुक पढे़ जिससे नींद आने लगेगी 3)रोज सुबह-शाम हल्का वॉक करें 4)सोते समय पेट कमर और दोनों पैरों के बीच तकिया लेकर रिलैक्स होकर सोयें। 5)रात को कम से कम पानी पिए ताकि बार-बार उठ कर बाथरूम ना जाना पड़े और आपकी नींद खराब ना हो। 6)जागते समय अच्छी अच्छी किताबें पढे़ music सुने जिससे अच्छी निंद आयेगी। कभी-कभी मांसपेशियों और हड्डियों पर पड़ने वाले दबाव के कारण पैरो मे दर्द के साथ सूजन और ऐंठन भी हो सकती है यह दर्द और सुजन बच्चे के जन्म के साथ ही खत्म हो जाता है।यह कभी किसी तो कभी किसी पैर में होता है यह परेशानी ज्यादातर प्रेगनेंसी में महिलाओं को होता ही है। यह दर्द गर्भाशय में बच्चे के बढ़ने के कारण पड़ने वाले दबाव के कारण होता है दर्द से राहत के लिए आप पैरों और तलवों में हल्के गुनगुने सरसों तेल से मालिश ले सकती हैं नमक कम खायें।पैर के नीचे तकिया लेकर सोऐं। दर्द वाले की स्थिति में आप ज्यादा देर तक चले नहीं ना खड़े हो आपको आराम करना चाहिए और आपको फ्लैट आरामदायक नरम चप्पले पहननी चाहिए।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mere pairo me bahut dard hota hai jiske karan rat me nind nahi ati
उत्तर: Hello डियर , प्रेग्नेन्सी में पैरो पे सुजन आना आम बात है क्युकी बेबी का और आपका वेट पैरो पर भारी पडता है.बीच-बीच में उठें और थोड़ा चले-फिरें।घर में जब भी संभव हो अपने बाईं तरफ करवट लेकर लेटें क्योंकि इससे वीना कावा नस पर दबाव नहीं पड़ता। खूब सारा पानी पीएं। हैरत की बात यह है कि आप जितना ज्यादा पानी पीएंगी, उतना ही कम पानी आपका शरीर प्रतिधारित करेगा।नियमित व्यायाम करें, खासकर कि चलना-फिरना, तैराकी, प्रसवपूर्व योग या एक्सरसाइज बाइक का इस्तेमाल। पौष्टिक व संतुलित आहार खाएं और ज्यादा नमक वाले खाद्य पदार्थ जैसे कि जैतून, नमकीन, चिप्स और नमक वाले मेवे न खाएं। ये पानी प्रतिधारण को बढ़ा सकते हैं।अगर आपकी त्वचा में ज्यादा कसाव और दर्द न लगे, तो किसी से अपने टखनों और पैरों की मालिश करवाएं। मालिश के दौरान नीचे से ऊपर की तरफ घुटनों तक जाएं। इससे पैरों से तरल पदार्थ को हटाने में मदद मिल सकेगी।कोशिश करें कि आप खुश और निश्चिंत रहें! हालांकि, आपके सूजे हुए टखने शायद आपको असहज महसूस करा सकते हैं, मगर इडिमा एक अस्थाई स्थिति है, जो कि शिशु के जन्म के बाद दूर हो जाती है। ख्याल रखें डियर.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Muje 36 month start hua he kamar ke niche se pairo tak bhot dard ho raha he raat ko nind bhi nhi ati uthane bethane me bhi bhot taklif ho rahi he
उत्तर: dear ye normal h ap malish karo or walk karo 2time or gungune pani se nahao jada kam mat karo nind puri lo ap
»सभी उत्तरों को पढ़ें