36 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mra 9tह मंथ चल रहा h मुझे हल्का शुगर हाँ में क्या क्या डाइट लूँ शुगर कंट्रोल करने के लिए

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर ... आपको अपने खाने पर कंट्रोल करना पड़ेगा . आपको मीठी चीजें बिल्कुल नहीं खानी . आप प्रोटीन की मात्रा वाला भोजन खाएं . हरी सब्जियां और फल अधिक मात्रा में खाएं डॉक्टर की सलाह से आप वाक और योगा कर सकती हैं.
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: म month chl रहा h ...... bhut weakness hoti h ..... km krne k lie kya diet lu
उत्तर: aap ek healthy pregnancy diet Lijiye jisse aapko weakness nahi Lagegi.. आपको गर्भावस्था के दौरान कुछ और अधिक कैलोरी की भी ज़रूरत hoti hai। गर्भावस्था में सही आहार का मतलब है-आप क्या खा रही हैं, न की कितना खा रही हैं। जंक फूड का सेवन सीमित मात्रा में करें, क्योंकि इसमें केवल कैलोरी ज्यादा होती है और पोषक तत्व कम या न के बराबर होते हैं।  प्रत्येक दिन विविध भोजन खाएं: दूध और डेयरी उत्पाद: मलाईरहित (स्किम्ड) दूध, दही, छाछ, पनीर। इन खाद्य पदार्थों में कैल्शियम, प्रोटीन और विटामिन बी -12 की उच्च मात्रा होती है। अगर आपको लैक्टोज असहिष्णुता है, या फिर दूध और दूध से बने उत्पाद नहीं पचते, तो अपने खाने के बारे में डॉक्टर से बात करें।  अनाज, साबुत व पूर्ण अनाज, दाल और मेवे:अगर आप मांस नहीं खाती हैं, तो ये सब प्रोटीन के अच्छे स्रोत हैं। शाकाहारीयों को प्रोटीन के लिए प्रतिदिन 45 ग्राम मेवे और 2/3 कप फलियों की आवश्यकता होती है। एक अंडा, 14 ग्राम मेवे या ¼ कप फलियां लगभग 28 ग्राम मांस, मुर्गी या मछली के बराबर मानी जाती हैं।  सब्जियां और फल: ये विटामिन, खनिज और फाइबर प्रदान करते हैं। मांस, मछली और मुर्गी: ये सब केंद्रित प्रोटीन प्रदान करते हैं। पेय पदार्थ: खूब सारे पेय पदार्थों का सेवन करें, खासकर पानी और ताजा फलों के रस का। सुनिश्चित करें कि आप साफ उबला हुआ या फ़िल्टर किया पानी ही पीएं। घर से बाहर जाते समय अपना पानी साथ लेकर जाएं या फिर प्रतिष्ठित ब्रांड का बोतल बंद पानी ही पीएं। अधिकांश रोग जलजनित विषाणुओं की वजह से ही होते हैं। डिब्बाबंद जूस का सेवन कम ही करें, क्योंकि इनमें बहुत अधिक चीनी होती है ।  वसा और तेल : घी, मक्खन. नारियल के दूध और तेल में संतृप्त वसा (सैचुरेटेड फैट) की उच्च मात्रा होती है, जो की अधिक गुणकारी नहीं होती। वनस्पति घी में ट्रांस फैट (वसा) अधिक होती है, अत: वे संतृप्त वसा की तरह ही शरीर के लिए अच्छी नहीं हैं। वनस्पति तेल (वेजिटेबल तेल) वसा का एक बेहतर स्त्रोत है, क्योंकि इसमें असंतृप्त वसा अधिक होती है।  समुद्री मछली और समुद्री नमक या आयोडीन युक्त नमक के साथ-साथ डेयरी उत्पाद आयोडीन के अच्छे स्त्रोत हैं। अपने गर्भस्थ शिशु के विकास के लिए आपको अपने आहार में पर्याप्त मात्रा में आयोडीन शामिल करने की आवश्यकता है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hii mera 9th mnth chl rha h .is tym me mujhe nrml delivery k liye kya kya krna chiye aur diet me kya kya khana chiye??
उत्तर: सबसे पहली और इंपॉर्टेंट बात यह है कि आपको प्रेग्नेंसी से रिलेटेड सारी बातों के बारे में जानना बहुत जरूरी होता है ..क्योंकि ऐसे में अगर आप को पहले से पता होगा सब चीजों के बारे में तो आपको टेंशन थोड़ा कम होगा और उस चीज का उपचार भी आप खुद से कर सकते हैं। इसलिए हो सके तो प्रेगनेंसी में आम जानकारी इकट्ठी करें। दूसरी बात आपको खान-पान में बहुत ज्यादा ध्यान रखना पड़ता है आप जितना ज्यादा स्वस्थ रहेंगे बच्चा उतना ही स्वस्थ रहेगा नॉर्मल डिलीवरी में भी आपको उतना ही आसान होगा इसलिए आपको हेल्दी खाना है और हेल्दी रहना है। समय se आप का खाना बहुत मायने रखता है आप अपने खाने में आयरन कैल्शियम फोलिक एसिड प्रोटीन विटामिंस यह सारे चीज शामिल करें ।आप को हेल्दी रखने में हेल्प करेगा आप हो सके तो बहुत ज्यादा पानी पिया क्योंकि प्रेग्नेंसी के समय आपके शरीर को पानी की बहुत ज्यादा जरूरत होती है पानी का उपयोग आपके शरीर में सांस साथ आपके बच्चे के शरीर में bhi jaruri hai... और आप एक्सरसाइज भी करें अपने डॉक्टर की सलाह से क्योंकि इस टाइम वजन के बढ़ जाने से थोड़ा दिक्कत होता है अगर आप डेली एक्सरसाइज करते रहेंगे तो उसे आपके शरीर के सारे मसल्स भी बहुत स्ट्रांग रहेंगे जिससे आपको नॉर्मल डिलीवरी के लिए हेल्प मिलेगी। प्रेग्नेंसी के समय आप ज्यादा स्ट्रेस ना ले और हो सके तो आप खुश रहें और दूसरों से अपनी बात शेयर करें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hllo mam mera 9th month chl rha ha..halka pani aane lga ha...iska kya mtlb hua...
उत्तर: हेलो हेलो डिअर ,। बधाई हो आप्को डिअर प्रेग्नन्सी में यह होना सामान्य है डिअर और डिलीवरी के टाइम यह और भी बढ़ जाती है अगर आपके वाइट डिस्चार्ज की प्रॉब्लम ज्यादा बढ़ जाती है या इसमें कोई गंध आती है या फिर ये वाइट हलके भूरे रंग का होता है तो चिंता का विषय है इस परिस्थिति में आप डॉक्टर से जरूर मिले आप टेंशन मत लीजिये और अपना खान पान का ध्यान रखे टेक केयर डिअर
»सभी उत्तरों को पढ़ें