20 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: meri kamar me dard h kal se kya karan h iska ??

2 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर , प्रेगनेंसी में कमर, पीठ में दर्द होना बहुत ही नॉर्मल बात है ,ज्यादातर महिलाओं में प्रेगनेंसी में कमर दर्द की शिकायत होती ही है कमर में दर्द होने का कारण एक तो हारमोंस में बदलाव होता है दूसरा पेट में बढ़ रहे भार का हो सकता है जिसके कारण मांस पेशियों में खिंचाव होता है और कमर में दर्द हो सकता है कमर, पीठ दर्द को कम करने के लिए आप कोशिश करें कि अपनी बाइ और सोए सीधे पीठ के बल ना सोए घुटनों के बीच में तकिया लगाकर सोने से भी आपको कमर दर्द में आराम मिलेगा अगर आप हाई हील की सैंडल , शूज पहनते हैं तो ना पहने यह भी एक कमर दर्द का कारण हो सकता है साथ ही प्रेगनेंसी में dheele सूती के कपड़े पहनने चाहिए जिससे शरीर में खून का प्रवाह आसानी से हो और हम अनेक तरह के दर्द से बचेगे
Answer: हेलो डियर प्रेगनेन्सी मे कमर दर्द होना norml है | बेबी का वजन बढ़ने की वजह से आप की body पर इसका सीधा असर पड़ता है जिस से कमर दर्द होना शुरू हो जाता है |जब भी आप को कमर दर्द हो आप पीठ के बल ना सो कर बाई करवट लेटें | किसी भारी सामान को ना उठाये | ढीलें ढ़ालें आराम दायक कपड़े पहनें | एक ही पोजिशन मे अधिक समय तक ना खड़े रहें और ना ही बैठे | गुनगुने सरसों के तेल से मालिश करें | गुनगुने पानी मे तौलिया डाल कर कमर पर लपेटे गरम पानी की बोतल से सेंकाई करें | हाई हील के जूते चप्‍पल ना पहनें |
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: aj meri kamar me or जनका me boht pain ho raha h iska kya karan h
उत्तर: पेट का भार लगातार नीचे की ओर होता है, इसलिए इस समय मांसपेशियों का पर दबाव ज्‍यादा होता है महिला के अंदर हर समय हो रहे हार्मोन में बदलाव भी दर्द का कारण बनते हैं दर्द को अगर कम करना है तो रात को सोते समय पीठ के बजाय करवट लेकर ही सोएं कमर पर कम दबाव पडें, इसके लिए अपने घुटनों के नीचे तकिया लगाकर सोएं, अपने घुटनों के बीच तकिया लगाकर सोने से भी आप कमर दर्द से बच सकते हैं इस समय हल्‍के तथा ढीले-ढाले कपड़े पहनने चाहिये, टाइट कपड़े पहनने से शरीर में खून का दौरा कम होने लगता है और इसी कारण मांसपेशियां दर्द होने लगती हैं, इसलिए सूती के आरामदायक कपड़े ही पहनने चाहिये, इसी के साथ हाई हील चप्‍पलें या जूते भी कमर की मांसपेशियों पर असर डालते हैं, जिस कारण दर्द होता है.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mere kamar me dard ho raha h kal se to ab meri dilevary hogi kya
उत्तर: डियर ...हर महिला का प्रसव अलग होता है. इसलिए यह बता पाना काफी मुश्किल है कि आपके प्रसव की शुरुआत कब होगी..प्रसव से पहले की अवस्था se आपको यह जानने में मदद मिल सकती है कि आपका प्रसव नजदीक है .. * माहवारी (पीरियड) आने से पहले वाली अनुभूति और ऐंठन के साथ लगातार पीठ के निचले हिस्से में या पेट में दर्द.. * दर्द भरे संकुचन, जो नियमित और छोटे अंतराल पर होने लगते हैं और बाद में और लंबे व प्रबल हो जाते हैं.. * एमनियोटिक द्रव के तेजी से बहने या रिसाव से आपकी झिल्ली फट सकती है। ऐसा कुछ भी हो, तो अपनी डॉक्टर से संपर्क करें.. *भूरे या खून सी रंगत का श्लेम aap ki yoni se agar nikal raha ho तो हो सकता है आपका प्रसव बहुत करीब हो या फिर इसमें कई दिन भी लग सकते हैं.. * पेट में गड़बड़ या दस्त.. *भावुक या मनोदशा में उतार चढ़ाव महसूस करना.. * bar बार नींद टूटना.. उपरोक्त मे से अगर आप को कोई भी समस्या लगें टु आप तुरन्त अपने डॉक्टर से समpaरक करे . ओके .. ऑल द बेस्ट .. डियर
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: muje kl se halka halka dard ho rha h kamar ke nichle hisse me iska ky karan h
उत्तर: हैलो डियर--जैसा कि आपका डिलीवरी डेट कंप्लीट हो गया है तो आपको ध्यान रखना चाहिए कि आपको लेबर पेन कभी भी स्टार्ट हो सकता है आपको कोई भी दर्द कोई रंग का स्त्राव को अनदेखा नही करना चाहीये। लेबर पेन के कुछ लक्षण हैं जिससे आप अंदाजा लगा सकती हैंकि आपको लेबर पेन हो रहा है --- डिलीवरी पेन MC के दर्द जैसे होता है जो धीरे-धीरे बढ़ता जाता है इस में पेट और कमर पर भी दर्द होता है बेचैनी लगती है। किसी भी रंग का स्त्राव अधिक मात्रा में होना पेट के निचले जगह पर है एंठन और दर्द महसूस होता है।शरीर कांपने लगता है कभी-कभी अचानक दस्त और हल्की उल्टी भी हो सकती है। अक्सर डिलीवरी डॉक्टर द्वारा दिए गए डिलीवरी डेट से 8से10 दिन ऊपर नीचे हो सकता है डिलीवरी पेन धीरे-धीरे बढ़ता जाता है अगर आप का दर्द बढ़ रहा है तो आपको तुरंत डॉक्टर के यहां जायें। अगर आपको delivery डेट कंप्लीट हो jane ke baad bhi पेन न भी हो रहा हो तब भी आपको डाक्टर से कंसल्ट करना चाहिए।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mere kamar me bohot dard hota hai iska kya karan ho skta hai डॉक्टर
उत्तर: हेलो डियर इस दौरान पीठ में दर्द होना बहुत आम है. एक ही अवस्था में बहुत देर तक बैठने या खड़ी होने से बचें बाल्म लगाकर गरम पानी से सिकाई कर लिजिए। हल्का काम ओर थोड़ा बहुत घुमने भी जाइए। केल्शियम कि टेबलेट जो डॉक्टर ने दि हैं वो लिजिए समय पर। प्रेग्नेंसी में ऐसा होता है। गर्म पानी से सिकाई करें। रात को सोते समय पैरों के नीचे तकिया लगाकर सोये।
»सभी उत्तरों को पढ़ें