Few weeks old baby

Question: Meri delivery 31 ko hui thi tab tak blooding aa aya bad bich me 3/4 day nahi aya aj achank se suru ho gaya jab ata oani ke jeshe ata he kpde bhi bigda jate inta ata hai kya karu mera sijar huva to taka bhi dukhta hai

1 Answers
सवाल
Answer: डिलीवरी के बाद आप को कम से कम 1 हफ्ते 15 दिन या फिर महीने दिन तक भी ब्लीडिंग हो सकती है। यह शुरुआत में ज्यादा और धीरे-धीरे कम होती जाती है। अगर आपको 1 महीने के बाद भी ब्लीडिंग हो रही है, तो आप अपने डॉक्टर से मिल सकती हैं। डॉ आपको चेक करके आपको बेहतर सलाह देंगे ।इसमें घबराने की बात नहीं है। आप भोजन में पौष्टिक आहार लीजिए जिससे आपको जो ब्लड loss हो रहा है, वह मेंटेन होता रहेगा और आपको कमजोरी नहीं आएगी। इसलिए आप अपने खानपान में विशेष ध्यान रखें। ब्लीडिंग ज्यादा होने के कारण बहुत ज्यादा कमजोरी आ जाती है अगर ब्लीडिंग बहुत ज्यादा हो रही है तो तुरंत आप अपने डॉक्टर से सलाह ले सकती हैं क्योंकि यह धीरे-धीरे कम होती जानी चाहिए।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: hello mam meri cegeriyan delivery 31 january ko hui thi मुझे periads abhi bhi halka bhure rang ka discharge aa rha hai aisa kb tak hoga pls btaye
उत्तर: hello दिलबरी के इतने लंबे समय तक अगर लगातार डिस्चार्ज हो रहा है तो यह अच्छा नहीं है इससे इंफेक्शन का डर है आप डॉक्टर से जरूर सलाह लें अपने साफ सफाई का और खान-पान का ध्यान रखें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mere sas sasur muje bot preshan krte hai or abhi jab se me pregnet hui hu tab se mera svabhav chid chida pan aa gya hai me kya kru kuchh samj nahi ata hai or gussa bhi bahot ata hai muje kya kru
उत्तर: प्रेगनेंसी में शरीर में बहुत से बदलाव होते हैं . इंटरनल होते हैं शरीर के बाहर भी दिखते हैं . उसमें एक गुस्सा भी है इसमें कि हमें बहुत चिड़चिड़ा होती है छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा आ जाता है . यह बहुत ही नॉर्मल है आप आराम से रहें गुस्सा ना आए इसके कोशिश करें ऐसे बहुत से प्रेगनेंसी के samay kerne wale योगा है जो आप करें. उससे आपको आराम मिलेगा. आप पानी पिए और अब जब भी आपको गुस्सा आए आप एक से 10 तक गिनती कहें| थोड़ा ठंडा पानी पिए जब आप प्रेगनेंट होती हैं तब यह बहुत जरूरी है कि आप अपना आहार पौष्टिक है. इससे आपको और आपके होने वाले बच्चे को पौष्टिक तत्व मिलेंगे. प्रेग्नेंसी में कुछ अधिक कैलोरी की जरूरत होती है. प्रेगनेंसी में सही आहार का मतलब है -आप क्या खा रही हैं ?ना कि कितना खा रही हैं? जंक फूड का सेवन ज्यादा ना करें. isme कैलोरी ज्यादा है पोष्टिक तत्व कम या ना के बराबर होते हैं. फोलिक एसिड आपको 1 ट्रिमस्टर में ही चालू करदेना चहिये। फ़ोलिक एसिड का होने वाले बच्चे की ग्रोथ में बहुत बड़ा योगदान रहता है। फ़ोलिक एसिड विटामिन है ।विटमिन B 9। ये आपको खाने पिने में फॉलेट नाम से मिलेगा । बाबी के इस्पीनलकार्ड के चारो और पॉलिब पेरत को सही तरीके से बंद करता है।वाहा गप नहीं आने देता। मा के लिए भी बहुत जरुरी है ।विटमिन B 12 के साथ मिलकर हेअल्थी रेड सेल्स बाँटा है। folic acit ke liye ye khaye. ब्रोकली ऐस्पैरागस खट्टे फल हरी पत्तों वाली सब्जियां ओकरा फूलगोभी भुट्टा गाजर 1) दूध और डेयरी के ले सकती हैं. मलाई वाला दूध दही छाछ घर का पनीर इन सब में कैल्शियम प्रोटीन और विटामिन बी12 बहुत होता है. 2) सभी अनाज ,दालें . इन सब में प्रोटीन बहुत अच्छा होता है. 3) पेय पदार्थों में आप पानी bahut piyen.खास करके आप साफ पानी joki फ़िल्टर किया हुआ. ताजे फलों का रस ले. डिब्बाबंद juis nahi le. इसमें शक्कर की मात्रा बहुत ज्यादा होती है. 4) वसा और तेल . वेजिटेबल ऑयल का वसा एक अच्छा स्रोत है क्योंकि इसमें संतृप्त वसा अधिक होता है. इन सभी चीजों के साथ आप डॉक्टर की सलाह मानें .जो भी टेस्ट किए हैं दिए गए हैं उन्हें करवाएं समय पर. दवाइयां समय पर ले और नींद पूरी. खाना जो भी खाएं अच्छे से चबाकर खाएं. प्रेगनेंसी के समय मिल्क प्रोडक्ट calcium और प्रोटीन बहुत जरुरी होता है। डेयरी प्रोडक्ट प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए सबसे बेहतर होता है। जैसे अंडा, चीज, दूध, दही और पनीर मां और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद होता है। कैल्शियम भी पर्याप्त मात्रा में होती है जो फीटस के बोन टिशू के विकास के लिए आवश्यक होता है। प्रोटीन की मात्रा काम होने से बच्चे की ग्रोथ में बहुत अंतर आता है। प्रोटीन जरूरी पौशाक तत्वों में से है। बच्चे का विकास और एम्निओटिक टिशू का कार्य प्रोटीन पर निर्भर करता है। गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन की kaam मात्रा बच्चे के sahi विकास में बाधा पहुंचा सकती है और इससे शिशु का वजन भी कम हो सकता है। यह बच्चे के बढ़ते मस्तिष्क पर नकारात्मक प्रभाव भी डाल सकता है।  बस एक मुट्ठी नट्स प्रोटीन की अपनी दैनिक आवश्यकताओं को पूरा कर सकता है। नट्स जैसे बादाम, मूंगफली, काजू, पिस्ता, अखरोट और नारियल में उच्च मात्रा में प्रोटीन की मात्रा होती है जो बच्चे के विकास के लिए जरूरी होता है। बीज जैसे कद्दू, तिल और सूरजमुखी में भी प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में होती है।  इनमें से कई ऐसे हैं जिनमें प्रोटीन की मात्रा बहुत अधिक होती है जैसे- मूंग, काले और फवा बिन्स, मसूर, मटर और चना. ओट्स में प्रोटीन बहुत उच्च मात्रा में पाई जाती है .
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Meri shaadi 26 sep. 2017 ko hui thi or shadi k ek month bad mujhe pregnancy rah gai or in case 3rd month yani jan. me mera miscarrige ho gya or uske baad mujhe period thik se nahi aa rahe hai pregnancy se pehle 5 days tak bleading hoti thi or jab se miscarrige hua hai tab se 1 ya 2 din hi rehte hai only period. Mene doctor ko bhi dikha liya hai or 2 months hoge me dwaai le rahi hu iski par usk bad bhi mujhe oeriod sahi se nahi ho rahe hai plzzz tell me ki me kya kru me bahut tension me hu
उत्तर: हेलो डियर ये तो बडे़ दूख की बात है की आप का मिसकैरेज हो गया है आप ने अगर डॉक्टर को दिखाया और आपकी मेडिसिन चल रही है तो आप बिल्कुल भी परेशान ना हो हो सकता है पीरियड सही से आने में थोड़ा समय लग sakta hai आपको अगर थोड़ा ही पर हर मंथ आता है पीरियड तो ठीक है कोई बात नही है आप कुछ अपनी दवा और इलाज करवा कर देख ले
»सभी उत्तरों को पढ़ें