35 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: meri 9month chal raha hai aur mujhe sardi hui hai. mujhe kya karna chahiye, kya isse mere baby ko koi prblm hogi?

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर प्रेग्नेन्सी में मौसम परिवर्तन के कारण सर्दी होना नॉर्मल है क्युकी इस समय आपका इम्यूनिटी सिस्टम कमज़ोर हो जाता है और आपको सर्दी आसानी से हो जाती है और सर्दी के कारण गलें में दर्द भी होने लगता है ।इसके लिए आप निम्न घरेलू उपाय कर सकती है- 1) अदरक चाय सिंपल और असरदार उपाय है। 2) शहद का आधा चम्मच लें, नींबू की कुछ बूंदें और दालचीनी का एक चुटकी मिलाए और रोजाना दो बार लें। 3) गर्म पानी पीने से आराम मिलता है। 4) नमक के पानी मिक्स करके पिएँ । 5) शहद, नींबू का रस और गर्म पानी लें। 6) मसालेदार चाय - अपनी चाय तैयार करते समय तुलसी अदरक और काली पेपर पाउडर डाले। 7) आमला भी खा सकती हैं। इसमे विटामिन c होता है जो जुखाम के लिये बहुत लाभकारी होता है। 8) आप अदरक तुलसी मिश्रण खा सकती हैं। 9) आप शहद और अदरक ले सकती हैं।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mujhe 6 मंथ chal raha h aur aajkl mujhe hlka fever sar dard .aur sardi h. kya es se baby ko koi prblm ho sakti h kya
उत्तर: अगर शरीर का टेम्परेचर अगर 98 ये 99 है तो नार्मल है घर इससे बढ़कर 100.97 हो गया तो बुखार है महिला में कांपना, पसीना निकलना, सिरदर्द, डिहाइड्रेशन, मांसपेशियों में दर्द और थकान आदि लक्षण नज़र आते हैं। गर्भावस्था के दौरान, आपका इम्यून सिस्टम थोड़ा कमजोर हो जाता है क्योंकि यह आपकी और आपके बच्चे दोनों की रक्षा करने के लिए अतिरिक्त काम करता है। इसलि । इस दौरान बुखार आने के अन्य कारण भी हो सकते हैं पहली तिमाही में गर्भावस्था के दौरान आने वाला बुखार यदि हल्का होता है तो किसी समस्या का कारण नहीं होता है, लेकिन तेज़ तापमान या बुखार आपके बच्चे के लिए खतरनाक हो सकता है गर्भावस्था के दौरान बुखार, अजन्मे बच्चों के मुँह में दरार होने का खतरा बढ़ा सकता है। तीसरी तिमाही के दौरान आने वाले बुखार से बच्चे को कोई नुकसान नहीं पहुंचता, लेकिन केवल तब तक जब तक कि यह गर्भाशय के अस्तर से संबंधित न हो। लेकिन यह होना स्वाभाविक है इसलिए डरने की आवश्यकता नहीं है। 1 गर्म पानी से स्नान करें। यह आपके तापमान को कम करने में मदद करता है। ठंडे पानी का उपयोग बिलकुल न करें। 2 कम करने में मदद करता है। ठंडे पानी का उपयोग बिलकुल न करें। अधिक से अधिक तरल पदार्थों का सेवन करें अर्थात हाइड्रेटेड रहें। शरीर के तापमान को कम करने और ग्लूकोज और इलेक्ट्रोलाइट्स की कमी को पूरा करने के लिए नींबू पानी जैसे जूस का सेवन करें। 3 अधिक से अधिक आराम करें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mujhe sardi aur khasi hui h pachva mahina chal raha kya karna chahiye ki jaldi se aaram mil jaye
उत्तर: गुड मॉर्निंग मैम आप इस गर्भावस्था के दौरान घरेलू उपचार करें तो ज्यादा बेहतर होगा आप हर्बल चाय या गर्म पानी और नींबू के साथ शहद के दो चम्मच मिलाकर आपको काफी आराम होगा आप नमक और पानी के साथ गरारे करें पानी गर्म है यह आपके कफ को काफी हद तक बाहर निकालने में मदद कर सकता है स्टीम भी ले सकते हैं कफ को तुरंत ढीला करने में मदद करती है आप गर्म दूध में हल्दी डालकर पी सकते हैं उससे भी आपको बलगम में काफी आराम मिलेगा गर्म सूप इसमें आपको खांसी खांसी से राहत मिलेगी इसमें मौजूद प्याज लहसुन अदरक और काली में जैसे मसालेदार पदार्थ आपके गले को काफी आराम पहुंचाएंगे सूखी अदरक और काली मिर्च का मिश्रा चुरा एक अच्छी औषधि है आप इसमें मिश्री भी डाल सकती हैं आपको अपनी जीभ पर इससे जुड़े केवल एक छोटी चुटकी लगाने की जरूरत है इससे आपको काफी आराम मिल जाएगा प्रेग्नेंसी के समय हमें दवाइयों का सेवन कम से कम करना चाहिए खांसी के लिए मैं आपको कुछ घरेलू उपचार बता रही हूं जिससे काफी हद तक आपको आराम मिल सकता ह गर्म पानी में शहद और नींबू डालकर पिएं तुलसी अदरक की चाय भी फायदेमंद हो सकती है कोई भी दवाई डॉक्टर के बिना पूछे नहीं लेनी चाहिए सर्दी जुखाम खांसी की बहुत सी दवाइयों में ऐसे तत्व हो सकते हैं जिनका सेवन गर्भावस्था में नुकसानदेह हो सकता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mere baby ko sardi khasi ho gyi hai aur fever bhi to mujhe kya karna chahiye
उत्तर: हेलो द्वारा बिल्कुल भी टेंशन मत लीजिए बेबी को सर्दी खासी की परेशानी हो रही है तो आप अजवाइन की पुतली का इस्तेमाल कर सकते हैं अजवाइन को अच्छे से गर्म करके एक कॉटन के कपड़े में बांधकर उसे बेबी को सीख सकते हैं उसकी छाती पीट को सीख सकते हैं उसकी मां को भी उसकी खुशबू दे सकता है इसे बेबी को आराम मिलेगा और साथ ही साथ आप राई के तेल में अजवाइन हल्दी और लहसुन डालकर उसे अच्छे से गर्म कर ले और इस दिल को ठंडा करके बेबी के हाथ पैरों के तलवों पर मसले और बेबी के छाती और पीठ पर भी मालिश करें इस दिल से बेबी को राहत मिलेगी .. और इसे भी फर्क ना पड़े तो आप एक बार डॉक्टर की सलाह ले सकते है डियर अपना और बेबी का ख्याल रखना ..
»सभी उत्तरों को पढ़ें