9 महीने का बच्चा

Question: meri beti 9month ki ho gyi h..but kuch bi ni khati h m bhut presan hu..uska weait bi 6kg se or imporment ni ho rha h.

1 Answers
सवाल
Answer: ऐसे में कुछ खाद्य पदार्थों का यूज करके आप अपने बच्चे का वजन बढ़ा सकते हैं ,बच्चे को आप आलू से बनी चीजें खिला सकते हैं बॉयल्ड आलू भी खिला सकते हैं आलू वजन बढ़ाने के लिए उपयोगी होते हैं यह कार्बोहाइड्रेट ऊर्जा का अच्छा स्रोत है शकरकंद फाइबर पोटेशियम विटामिन से भरपूर होते हैं इन्हें खाने से वजन भी बढ़ता है बच्चे को दूध में मिक्स करके दिया जा सकता है ,केला एनर्जी का बेहतरीन स्रोत है दूध में मैच करके इसे दें ,दाल में प्रोटीन होता है दाल का पानी बच्चों को अवश्य पिलाना चाहिए
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: Meri beti 9month ki h or 7kg weight h... Kuch khati ni h or milk bi bhut km peeti h... Ab 2 din se loosemotion shuru ho gye h.. uske masoore bhi phul rahe hain.Kya kru koi upay btaye plz
उत्तर: हेलो डियर आपके बेबी के दांत निकलने वाले हैं इसकी वजह से आपके बेबी अच्छे से खा पी नहीं रही है और बेबी को लूज मोशन भी हो रहा है दांत निकलने पर बेबी को पतले पतले दस्त होते हैं ऐसे में भी खाने पीने का भी मन नहीं करता है लेकिन आपको अपने बेबी को बहला-फुसलाकर कुछ ना कुछ खाना खिलाते रहना चाहिए , जब बेबी के दांत निकलते हैं तो मसूढो में खारिश होने की वजह से बेबी कुछ भी मुह में डाल लेते है और साफ सफाई न होने की वजह से बेबी के पेट मे बैक्टिरिया होने की वजह से बेबी को उल्टी और दस्त होने लगता है , ऐसे में आपको बेबी को दाँत आने पर साफ टीथर देना चाहिए ताकि बेबी उसको चबाये और दांत आराम से आ जाये , उल्टी दस्त होने पर बेबी की डब्लू एच् ओ का ors घोल पिलाये , इससे बेबी को आराम मिल जाएगा , बेबी को अपना फीड दे ताकि बेबी को सारे पौस्टिक तत्व मिल सके , ऐसे में पतली मूंग की खिचड़ी भी खिला सकती हैं , डॉक्टर की राय लेकर ग्राइप वाटर भी दे सकती हैं , बेबी को अच्छे से deit देते रहे ताकि बेबी को अच्छे से सारे तत्व मिल सके!
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mujhe gastric problem h or ab jab se m pregnent hue hu bhut jyada ho rhi hu khati hu to bhi or nhi khati hu to bhi m bhut presan hu krpya kuch upay btaeye
उत्तर: आहार जैसे चावल, गाजर, हरी पत्‍तेदार सब्जियां, साबुत अनाज और होल ग्रेन फाइबर को बहुत अच्‍छा स्रोत है, जो पाचन तंत्र में पानी को अवशोषित कर आंतों के माध्‍यम से आहार को आगे बढ़ाते हैं। इस तरह से आहार में फाइबर की भरपूर मात्रा से मल त्‍याग को नियमित रखने में मदद मिलती है। लेकिन फाइबर को आहार में शामिल करते धीरे-धीरे शामिल करें, क्‍योंकि आपके शरीर को इसकी आदत नहीं होती है। एक या 2 घंटे में थोड़ा-थोड़ा खाएं जरूर। गर्भावस्‍था के दौरान तनाव नहीं लें. टेंशन होने से पेट में दर्द और ऐंठन हो सकती है. गर्भावस्‍था में शरीर में पानी की कमी हो जाती है और इस कारण पेट फूल जाता है. ऐसे में समय-समय पर पानी पीते रहें.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: meri beti 17 mhine ki ho gyi h kuch khati nhi sirf mera dudh piti h
उत्तर: हेलो डियर आप परेसान ना हों छोटे बच्चे अकसर खाने को लेकर बहुत परेसान करते है इसलिए आप भुक लगने पर ही बेबी को खानें के लिए दें कभी कभी बेबी रोज एक ही जैसा टेस्ट के खाने से बोर हो जाते है इसलिए कुछ अलग खिलाने की कोसिसि करें लिक्विड चीज़ें दें जैसे की ताजे फ़लो का जूस इस्से बेबी का पेट भि भेड़ेगा ऑर ताकत भि मिलेगी कुछ भि खिलाते टाइम बेबी का दयान किसी खिलोने या कुछ ऑर में लगवा सकती है जिस्सर बेबी खेलने में बिजी रहे तो आप उस वक्त खाना खिला सकें एक ही बार में जादा खिलाने की कॉशस ना करें थोड़ी थोड़ी करके खिलाते रहें
»सभी उत्तरों को पढ़ें