13 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mere pero me sujan hone lgi h abhi mera 12 week h

2 Answers
सवाल
Answer: हेलो प्रेगनेंसी के दौरान होने वाले हाथ पैरों और चेहरे के सूजन को एडिमा कहते हैं। यह वाटर रिटेंशन के कारण होता है। जैसे-जैसे शिशु बढ़ता है तो उस का दबाव शरीर के निचले अंगों पर ज्यादा पड़ता है जिसके कारण निचले अंगों को ब्लड ले जाने वाली नसे दबती है। नसों के दबने की वजह से ही हाथ पैर चेहरे होंठ ब्रेस्ट नाक कूल्हों और आंखों के नीचे सूजन होता है। यह प्रेगनेंसी की एक आम समस्या है आपको बस थोड़ा एक्स्ट्रा केयर करने की जरूरत है जैसे कभी भी आप बैठे पर लटका कर ना बैठे। सोते समय हमेशा लेफ्ट करवट सोए इससे आपके निचले नसों पर दबाव कम पर पड़ता है। और ब्लड सरकुलेशन अच्छे से होता है। आप जितना ज्यादा पानी पिएंगे आपके लिए उतना ही अच्छा रहेगा। जब सूजन ज्यादा हो जाए तो सरसों के तेल या कोई भी तेल से पैरों की मालिश करवाएं। मालिश करवाते समय ध्यान रहे ऊपर से नीचे मसाज नहीं करना है नीचे से करते हुए ऊपर की डायरेक्शन पर लेकर जाना है। चेहरे पर ज्यादा सूजन होने से थोड़ा सरसो का तेल लगाकर गुनगुने नमक पानी से सेकाई करे । खाने में नमक की मात्रा धीरे धीरे कम करें। सुबह शाम वॉक करें। हल्के एक्सरसाइज भी करें
Answer: आप परेशान न हों पैरों में सुजन होने पर आप कुछ घरेलु उपाय कर सकती हैं। आप हल्के गुनगुने पानी में थोडा़ नमक डालकर अपना पैर डूबोकर कुछ देर बैठ सकती हैं इससे भी आराम मिलेगा अपने पैरों के बीच और नीचे एक तकिया रखकर सोयें सूजन और दर्द से राहत के लिए आप हीटिंग पैड का भी इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर आप किसी बोतल में गुनगुना पानी भरकर सिकाई भी कर सकती हैं इससे पैरों कर दर्द और सूजन तुरंत कम होने लगेगी. गर्भावस्था में शरीर में सूजन होने पर आप अधिक से अधिक आराम करें पानी और लिक्विड की मात्रा अधिक ले खाने में नमक की मात्रा कम करें कम चलें।गुनगुने पानी से नहायें हो सके तो हल्के गुनगुने तेल की मालिश लें जिससे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन सही ढ़ंग से हो और सुजन कम होगी।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mere hatho v pero me sujan aane lgi h kyo
उत्तर: हेलो डियर ,,,,aap 35 week ki pregnet hai..प्रेगनेंसी में हाथ पैरों का शरीर में सूजन आना बहुत ही नॉर्मल है सूजन हो सोडियम कीअधिकता लेना ,अधिक देर तक खड़े होकर काम करना,अत्यधिक काम कर लेना हो सकता है kuch upya se सूजन में कमी कर सकती हैं लंबे समय तक एक ही पोजीशन में खड़े हैं बैठे ना रहे बीच-बीच में पोजीशन चेंज करते रहे पापड़ ,अचार ,नमकीन , कोल्ड ड्रिंक ,आदि का सेवन कम करते हैं|पहनने वाले वस्त्र को अत्यधिक टाइट ना पहने ,इनरवियर व चप्पलें सॉफ्ट वह हल्की पहने |8 से 10 गिलास पानी का सेवन जरूर करें |हल्की वॉक एक्सरसाइज जरूर करें|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera 12 week chl rha h mere pero me sujan ke sath drd bhi h mujhe kya krna chahiye
उत्तर: प्रेगनेंसी में पैरों में दर्द होना बहुत ही कॉमन है इसमें घबराने की कोई बात नहीं है या अब बहुत सी महिलाओं को होता है प्रेगनेंसी में पैरों में दर्द होने का एक कारण हो सकता है कैल्शियम की कमी हल्का चलना-फिरना आपके और आपके होने वाले बच्चे के स्वास्थ्य के लिए बेहतरीन होगा सुबह शाम थोड़ा थोड़ा वॉक करें वॉक अप उतना ही करें जिसमें जिसमें आपको थकान महसूस ना हो गर्म पानी में आप थोड़ी देर अपने पैर डालें उस गर्म पानी में पहले थोड़ा सा नमक डालें फिर उस पानी से अपने पैरों की सिकाई करें अपने खाने-पीने का भी ध्यान रखें ,कैल्शियम रिच डाइट लें दूध दही पनीर यह सब अपने आहार में लें. सूजन के कारण हो सकते हैं जैसे कि गर्मियों की गर्मी ,अधिक देर तक खड़े रहना ,ज्यादा देर तक काम करना ,आहार में पोटेशियम की कमी कैफीन का अधिक सेवन सोडियम अधिक सेवन करना प्रेग्नेंसी में सूजन कम करने के लिए कुछ तरीके अपनाए जा सकते हैं लंबे समय तक खड़े या बैठे ना रहे अपने पैरों को चलाती रहें और पॉसिबल हो तो जब भी आप बैठे तब अपने पैरों को ऊपर उठाती रहे एक तरफ करवट लेकर सोए बाई तरफ करवट लेकर सोने से आपका किडनी भी दुरस्त रहेगा टाइट इलास्टिक वाले मोजे या स्टॉकिंग्स ना पहने आरामदायक शूज पहने अधिक से अधिक पानी पिएं नमक सीमित मात्रा में लें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mere pero me sujan h
उत्तर: हेलो डियर आप परेसान ना हों अकसर प्रेग्नेन्सी में पैर में सुजन हो जाते है ऐसे में कुछ उपायो के द्वारा आप सुजन कम कर सकती है अदिक से अदिक पानी पीएं इस अवस्था मे आप जितना अधिक पानी पिएगी उतना ही कम पानी आपका शरीर पतिधारित करेगा नियमित व्यायाम कारें जैसे चलना घूमना ऑर तऐरना सन्तुलित आहार लें ऑर नमक का कम से कम उपयोग करें नमकीन चिप्स ये सब पैकेट वाली चीज़ें ना खाएँ मलीस करवाएं पैरो की ऑर एक ही स्थिति में जादा देर खेड़े ना रहें सरीर को आराम दें जादा काम ना करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: helo mere pero me kafi sujan he mera 7 month start hone wala he
उत्तर: पैरों में सूजन में असरदार है अदरक का तेल अदरक दर्द निवारक दवाइयों में सबसे प्रमुख है| अदरक की सहायता से पैरों में दर्द और इसके साथ अगर पैरों में सूजन है तो उसे भी कम किया जा सकता है| पैरों में दर्द है तो आपको अदरक का तेल का इस्तेमाल करना होगा| अदरक का तेल लेकर अपने पैरों पर मसाज करें| कम से कम आधा घंटा रोजाना मसाज बेहद जरुरी है और अगर दर्द बहुत ज्यादा है तो दिन में दो बार मसाज करें| इसके अलावा, अदरक की चाय बनाकर इसके सेवन करने से भी शरीर में दर्द दूर होते हैं| जब तक दर्द दूर ना हो जाये तब तक रोजाना मसाज करें और सुबह शाम अदरक वाली चाय भी पियें| नीम्बू करता है सूजन कम जिन लोगों के पैरों में सूजन है या दर्द है उन लोगों को नींबू के रस का इस्तेमाल करना चाहिए| नींबू हर घर में मौजूद रहने वाली चीज़ है आपको बस इतना करना है कि एक बर्तन में थोड़ा पानी लें और इस पानी को गुनगुना कर लें| अब इस पानी में 2 चम्मच नींबू का रस मिला दें| इसके बाद इस रस को पी लें| अगर आपके पास शुद्ध शहद है तो इसमें थोड़ा शहद भी मिला लीजिये और इसका दिन में दो बार सेवन जरूर करिये| ठन्डे पानी में रखें पाँव एक बाल्टी या किसी खुले मुंह वाले बर्तन में ठंडा पानी भर लें| अब अपने पैरों को साफ़ करके इन बाल्टी में पैर डाल लें और आराम से कुर्सी पर बैठ जायें| कुछ देर तक पैर ठंडे पानी में ही रहने दें और आप कुर्सी पर बैठे रहें| इससे पैरों में रक्त का संचरण ठीक हो जाता है और पैरों में दर्द से तुरंत आराम मिलता है| इससे आसान और सस्ता तरीका दूसरा कोई हो ही नहीं सकता परन्तु अगर फिर भी आराम ना मिले तो अगला नुस्खा आजमाएं| गर्म पानी से पैरों की सिकाई पानी गर्म करके किसी बोतल में भर लें| आज कल मार्किट में सिकाई करने के लिए रबर की ख़ास बोतलें आती हैं जो सिकाई करने के लिए ही बनायी गयी होती हैं, आप उस बोतल का इस्तेमाल कर सकते हैं| पानी उतना ही गर्म करें जितना आप सह सकें| अब बोतल में पानी भरकर इससे पैरों की सिकाई करें| कोई जल्दबाजी ना करें, आराम से कम से कम 20 -30 मिनट तक सिकाई करें| इससे पैरों कर दर्द और सूजन तुरंत कम होने लगेगी| नीम के पत्तों करते हैं दर्द दूर नीम के पत्ते हर जगह आसानी से मिल जाते हैं| एक बर्तन में पानी गर्म करें और इसमें नीम के पत्ते डाल दें और तब तक उबालते रहें जब तक नीम के पत्ते अपना रंग ना छोड़ने लगें अर्थात पानी का रंग हरा हो जाना चाहिए| अब इस पानी से पत्तियां निकालकर इसमें थोड़ी फिटकरी मिला लें और इस पानी में कुछ देर तक अपने पैरों को डालकर रखें| नीम के अंदर बैक्टीरिया से लड़ने की शक्ति होती है, और यह दर्द निवारक का कार्य भी करता है| नाश्ते में खायें केला केले में भरपूर मात्रा में पोटेशियम होता है| अक्सर शरीर में पोटेशियम की कमी से भी पैरों में दर्द होने लगता है इसलिए रोजाना केले का सेवन करने से फायदा होता है| केले को रोजाना अपने नाश्ते में शामिल करें| इससे शरीर को एनर्जी भी मिलेगी और यह पैरों की अकड़न को भी दूर करेगा|
»सभी उत्तरों को पढ़ें