24 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mere left leg m aur ussi said hip m buht dard h kuch batai

3 Answers
सवाल
Answer: गर्भावस्था के सुरूवात से लेकर अंतिम चरण तक पैरों तथा किसी एक पैरों और तलवों में दरद होना सामान्य है ।यह जादातर महीलाओं को होता है। गर्भ में पल रहे शिशु केकारण गर्भाशय का भार पैरों पर पड़ने लगता है।इससे पैरों को अधिक भार झेलने के दरद और सुजन भी हो सकती है जो शिशु जन्म के बाद खतम हो जाता है।दरद से बचने के लिये पैर के तलवों को गुनगुने तेल से मालीश करें और कम चले जादा देर तक खड़े न रहें आराम करें ऊंची हील न पहने आराम दायक फ्लैट चप्पलें पहनें इससे आपके पैरों को आराम मीलेगा। गर्भावस्था मे कमर दरद-----आपका वजन सामान्य से अधिक है या फिर आप पहले भी गर्भवती हो चुकी हैं, तो आपको पीठ दर्द होने की संभावना अधिक रहती है।आपकी मांसपेशियों में थकान और अस्थं पर आपके शरीर एवं शिशु का वजन पड़ने से होने वाले हल्के खिंचाव के कारण होता है।  आपको कम उचाई या फ्लैठ चप्पलें पहनें पैरो मे गुनगुने तेल हल्की मालीश लें
Answer: गर्भवस्था के दौरान बहुत साडी परेशानिओ से गुजरना पड़ता है उनमे से ये पैरो में दर्द प्रमुख समस्या है और ये दर्द रात में और बढ़ जाता है इस समय वजन बढ़ जाने के कारन पैरो में दर्द होता इससे आपका पुरे शरीर का वजन पैरो पर पड़ता है और पैरो में थकन होती है इस दौरान आपका गर्भाशय का आकर बढ़ जाता है जिसके कारन पैरो कि नसे डाब जाती है और वह तक ब्लड अच्छे से नहीं पहुँच पात इस दौरान आपके शरीर में मैग्नेसीउम्, पोतसीउम्, कैल्सियम कि कमी हो जाती है इससे कारन दर्द होता है दरद से रहतpane का सबसे अच्छा उपाय एक्सरसाइज है स्ट्रेचिंग करना आपको सुबह शाम लाभदायक होगा पईड़ो के दर्द से रहत paneके लिए आप रात में सोने से पहले हलके गरम पानी मी३०मिनट डूबकर रखे बहुत आराम मिलता है इस दौरान आप अपने पैरो को मोड़ कर ज्यादा देर नाबैथे
Answer: Don't worry kabhi kabhi pregnancy k kuch side effect hote h jese legs me swelling.. Legs sunn ho Jana . . need kam ana . e t c. Aap regular walk kreiye ar pero me sote time sarso k tel Ki malish kiya kriye . .
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: hlo mem mere left hip m aur left leg m bht pain h koi dikatt bali baat to nhi h mem
उत्तर: hello जैसे-जैसे प्रेगनेंसी का समय आगे बढ़ते जाता है बच्चे का भार बढ़ता है और उसका दबाव शरीर के निचले अंगों पर पड़ता है जिसके कारण दर्द होती है गलत पोजिशन पर सोने बैठने से ज्यादा देर तक खड़े रहने से या थकावट वाले कोई काम करने से हिप्स पर रक्त संचार बढ़ जाता है जिसके कारण निचले अंगो जैसे पैर जांघो कमर और कूल्हों पर दर्द होता है। इससे बचने के लिए आप सोने के दौरान अपने पेट के नीचे और पैरों के बीच में एक तकिया जरूर रखें। इससे बॉडी की पॉजिशन सही रहती है जिससे पेल्विक और साइटिका नर्वस पर कम प्रेशर पड़ता है। एक पेल्विक को स्‍पोर्ट करने वाली बेल्‍ट पहनें जिससे आपके पीठ के नीचे के हिस्‍से पर प्रेशर कम होगा और हिप्‍स और पैर में दर्द से कम हो जाता है। गुनगुने पानी से नहाना किसी भी दर्द से छुटकारा पाने का सबसे अच्‍छा इलाज है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: maim mere left side hip or leg me dard hota h जे.बी. mai krvat leti hu tb aisa kyuh
उत्तर: हेलो डियर प्रेगनेंसी में पैरों तक पर्याप्त रक्त संचार न हो पाने के कारण उसमें ऑक्सीजन की कमी से पैर दर्द होने लगता है। यह घुटनों, और पैरों की उँगलियों में भी होता है। कभी कभी पैर सुन्न पड़ सकता है।बदलते हॉर्मोन्स लेवल से पैरों में दर्द होता है। जैसे गर्भाशय का आकार बढ़ता है उस प्रकार बदन की निचली मांसपेशियां ढीली पड़ने लगती हैं। इस कारण महिलाओं में पैर दर्द होता है। बढ़ते वज़न के कारण उसकी पैरों की हड्डी पर प्रभाव पड़ता है जिससे मांसपेशियों और पैरों में दर्द होता है। पैरों के दर्द से बचने के लिए पैर की उँगलियों को हलके हाथ से दबाएं। साथ ही गुनगुने तेल से मालिश करें! यह धीरे धीरे बेहतर परिणाम देगा। गर्भावस्था में ऊँची हील की सैंडल न पहनें। आरामदायम फ्लैट्स और ढीली चप्पलें पहनें। इनसे भी आपके पैरों और एड़ियों को आराम मिलेगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेंre लेफ्ट हिप me बहुत दर्द रहता h
उत्तर: हॉट वाटर बोतल से सिकाई कीजिए आपको आराम मिलेगा और बिल्कुल सॉफ्ट मेट्रिक्स पर बैठी है
»सभी उत्तरों को पढ़ें