2 महीने का बच्चा

Question: mere baby ko kal tika laga hai 1.5 month का उसको फीवर a गया है dawai dene ke bawjood kya ye hota hai please jaldi batayein

1 Answers
सवाल
Answer: आप चिन्ता ना करे ये बिल्कुल नॉर्मल है ।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: कल mere बेबी ko 1.5 month ka tika lga उसको अभी 4th time फीवर हो rha hai jo unhone paracitamol di अस medicine se koi fark nai hua kya karu or uska sir garm hai
उत्तर: हेलो . डियर .. आप घबराये नही बेबी को बुखार होने पर बेबी के सर पर गीली पट्टी रखें .. और मुलायम कपडे ही पहनाये। और यदि आपका शिशु सो रहा हो तो आप जरुरत पड़ने पर हल्का ब्लैंकेट भी डाल सकते हो। पैरो को मसाज करने से आपके शरीर का तापमान भी नियंत्रित रहता है।अपने शिशु के पैरो के निचले भाग पर गर्म जैतून के तेल से मालिश करे। कम की उम्र के शिशुओ के लिए तुलसी लाभदायक साबित हो सकती है। इससे शरीर का तापमान भी कम होता है। यह नेचुरल एंटीबायोटिक और इम्यून बूस्टर का काम करती है। एक मुट्ठी तुलसी को 2 कप पानी में उबाले। उबालने के बाद उसमे थोड़ी सी शक्कर डाले और अपने शिशु को दिन में कुछ समय जरूर दे..or bukhar phir bhi kam na ho to docter ki salah se peracitamol de sakti hai...ok...dear take care your baby...
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: kya har bacche ko tika lagne ke baad fever ana jaruri hai...meri beti ko kal 9 month ka tika laga but usko fever nhi aya.....to kya tika affactiv nhi hoga???plz batae....
उत्तर: हेलो डियर जी नहीं ऐसा नहीं होता है हर बच्चों को टीका लगने के बाद परेशानी नहीं होती है आप चिंता ना करें , आपकी बेबी को कोई दर्द नहीं हो रहा है तो यह आम बात है चिंता ना करे वह हेल्दी है यह छोटे बच्चों कि इम्यूनिटी सिस्टम पर डिपेंड होता है , आपकी बेबी को कोई फीवर ऐसा कुछ नहीं हो रहा है तो इसका ऐसा मतलब नहीं है कि उसको टीके का कोई फर्क नहीं हुआ , ऐसा नहीं होता है आपका बेबी एकदम स्वस्थ है चिंता ना करें सभी बच्चों को ऐसा नहीं होता , अपना और अपने बेबी का ख्याल रखे और स्वस्थ रहे .
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mere baby ko कल tika laga aur uska bukhar aaj v hai kya ye normal hai
उत्तर: कई बच्चों को वॅक्सीनेशन के बाद बहुत पेन रहता है और जयाद पेन में बुखार भी आ सकता है .. आप बरफ़ को कपड़े मे लपेटे कर अपने बच्चे के पैर मे हल्का massag कीजिए .. एक दो दिन उनके पैर को बहुत ज्यादा ना हिलाएं . Wesse बच्चे खुद से पैर फ़ेक फ़ेक कर खेले ये भी उनके लिए बहुत अच्छा रहेगा .. अगर पेन के साथ बुखार भी है तो डॉक्टर ने दवाई दी होगी वो दे सकते हैं लेकिन अगर बुखार नही है तो आप मेडिसिन अवोइड ही कीजिए .. अगर बुखार 2.. दिन से ज़्यादा है तो डॉक्टर से मिलें
»सभी उत्तरों को पढ़ें