8 महीने का बच्चा

Question: mere baby ko diaper rashesh h me kya kru

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर 8 महीने की बच्ची बहुत छोटी होती है और उसकी स्किन बहुत ही सॉफ्ट होती है इसलिए थोड़ी भी नमी यह सफाई की कमी से बेबी को रैशेज होना एक आम समस्या है इसमें आप बिल्कुल भी परेशान ना हो कुछ घरेलू तरीके से बेबी के रेसेस कम कर सकते हैं रैशैश को दूर करने के लिए आप विनेगर का भी प्रयोग कर सकती हैं प्रभावित स्थान पर विनेगर की कुछ बूंदें या रुई में भीगा कर आप मिलेगा लगा दे धीरे-धीरे रेसेस खत्म होने लगेंगी नारियल का तेल इन्फेक्शन को खत्म करने में बहुत ही महत्वपूर्ण होता है आप प्रभावित क्षेत्र पर नारियल का तेल तीन से चार बार लगाएं धीरे-धीरे रैशेज खत्म होने लगेगा| पेट्रोलियम जेली का प्रयोग भी बहुत अच्छा होता है पेट्रोलियम जेली को प्रभावित स्थान पर लगाने से रैशेज व फंगल इन्फेक्शन में कमी होने लगती है | टेक केयर
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mere baby ko diaper ke bhot rashesh aa gye hai kya krna hoga plz muje btaiye
उत्तर: हेलो डियर ,,बच्चों में डायपर रैश बहुत ही नॉर्मल है , विनेगर की कुछ बूंदें या नारियल का तेल ,पैट्रोलियम जेल एंटीसेप्टिक क्रीम ect. रैशेज पर लगा सकती है की बेबी की रेसेस कम होने लगेंगे कुछ समय के लिए बेबी को डायपर ना पहनाए और रैश वाली जगह को सुखा रखें|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Hlo frnds mere bby ko diaper se rashes ho gy h so kya kru
उत्तर: हेलो डियर अगर आप के बेबी को डायपर रशेस हो गए हैं तो आपको ध्यान रखना चाहिए की बेबी के डायपर ज्यादा देर तक गीले ना रहे आप समय-समय पर डायपर को बदलती रहे। जिसे बेबी को रेसेस होने की शिकायत बहुत कम हो जाती है डायपर रेसेस होने पर आप निम्न उपाय अपना सकती हैं बेबी के रेसेस वाली जगह पर नारियल का तेल लगाएं जिससे उसे बहुत आराम मिलेगा ।आप बेबी के रशेस वाली जगह पर दही को एक क्रीम की तरह लगाएं। इससे बच्चे को तकलीफ में आराम मिलेगा।  आप एक साफ कपडे, रुमाल या रुई की मदद से दूध को डायपर रैश वाली जगह पे लगाएं। डाइपर रैश से हुई सूजन को कम करने मैं दूध काफी मदद करता है। 
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mere baby ko rashes ho rhe diaper lagane se kys kru sardi bhot h diaper jaruri b hai lgana
उत्तर: देखिए बहुत लंबे समय तक डायपर के इस्तेमाल से बच्चों को यूरिन इन्फेक्शन होने की आशंका बनी रहती है इंफेक्शन के चलते बच्चे में चिड़चिड़ापन आ जाता है चिड़चिड़ेपन की वजह से ऐसे बच्चों के आगे चलकर आक्रामक होने की आशंका बढ़ जाती है कुछ सावधानियों को अपनाकर बच्चे को ज्यादा सुरक्षा दे सकते हैं डायपर को समय-समय पर चेक करते रहें 3 से 4 घंटे से ज्यादा वक्त के लिए डायपर ना पहना है चेंज करने के बाद बच्चे की त्वचा को अच्छी तरह साफ कर लें माइल्ड एंटीसेप्टिक से पूछने के बाद सूखा करे कोई दूसरा कपड़ा पहना
»सभी उत्तरों को पढ़ें