34 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mera 31 week pragnancy h. muje kal dr ne delivery k liye bola h. koi problem to nhi h

2 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर आपके डॉक्टर ने अगर डिलिवरी के लिए कहाँ है तो हो सकता है की आपकी कण्डिशन वैसी हो आप डॉक्टर की सलाह को मानें हो सकता है की आपको कोई प्रॉब्लम है इसलिए आपकी डिलिवरी के लिए डॉक्टर इतनी जल्दी डिलिवरी के लिए बोल रहें है आप वैसा ही करे क्या आपने डॉक्टर से पूछा है की डॉक्टर क्यू डिलिवरी के लिए बोल रहें है
Answer: सामान्यता प्रेगनेंसी 40 विक्स 10 दिन आगे पीछे होती है . डिलीवरी कब होगी ?इस बात पर निर्भर करता है कि आप की प्रेग्नेंसी हेल्दी है कि नहीं .आप इसमें परेशान ना हो डॉक्टर से सलाह करें डॉक्टर की बताई हुई सलाह को माने संतुलित पौष्टिक आहार लें. अच्छा सोचो अच्छा ही होगा .
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera prso ultrasaund krwaya tha too dr ne bola ki bchhe k naal k sath jo fali hoti h vo niche h koi problem to nhi hogi
उत्तर: आप बिल्कुल भी घबराए नहीं और डॉक्टर के निर्देशों का ध्यान से पालन कीजिए.. Placenta एक ऐसा ऑर्गन है जो बच्चे को माता से ब्लड सप्लाई करता है और न्यूट्रीशन पहुंचाता है। इसकी पोजीशन यूट्रस में कहीं भी हो सकती है यह तो ऊपर छतरी के सामान रहेगा या आगे या पीछे या फिर कभी कभी किसी किसी केस में yeh नीचे की ओर भी अटैच हो जाता है। लो प्लेसेंटा होने की स्थिति में ज्यादातर माताओं को आराम करने की सलाह दी जाती है, क्योंकि बच्चा जैसे-जैसे ग्रोथ करता है, उसका दबाव प्लेसेंटा पर पड़ता है और आपको कभी भी ब्लीडिंग स्पोटिंग होने की संभावना रहती है। इसलिए हमेशा माताओं को आराम करने की सलाह दी जाती है । इस केस में माताओं को ज्यादा झुक कर और ज्यादा देर खड़े रहकर काम नहीं करना चाहिए ज्यादा exertion वाले एक्सरसाइज और योगा और वाकिंग भी नहीं करनी चाहिए। लो प्लेसेंटा ज्यादातर स्कैन के द्वारा शुरुआती महीनों में ही पता चल जाता है यह प्रेगनेंसी के अंत अंत तक ठीक भी हो जाता है। क्योंकि हमारी यूटरस का साइज़ बढ़ता है और प्लेसेंटा नीचे से साइड की तरफ शिफ्ट हो जाता है। इसमें घबराने की कोई बात नहीं है इसमें आपको हमेशा नॉर्मल डिलीवरी अवॉइड करने की सलाह देते हैं क्यूकी प्लेसेंटा सर्विक्स को कवर करके रखता है और नॉर्मल डिलीवरी के केस में बच्चा पहले निकलना चाहिए उसके बाद प्लेसेंटा लेकिन लो प्लेसेंटा के केस में प्लेसेंटा पहले होता है और बच्चा बाद में इसलिए हमेशा सी सेक्शन करने की सलाह दी जाती है। डॉ इस समय पर इंटर कोर्स करने से भी हमेशा मना करते हैं पूरी प्रेगनेंसी में आपको अपना खास ध्यान रखना पड़ता है अब ज्यादा हैवी सामान भी नहीं उठाई है आराम कीजिए और पौष्टिक आहार लेते रहिए हल्की वॉक कर सकते हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: triple test dr ne bola h koi problem to nhi hoti bache ko dr ne tripke test kyo bola h karne ko
उत्तर: hello dear आप निश्चिंत रहें इस टेस्ट से बच्चे को किसी प्रकार की परेशानी नहीं होगी triple Marker test एक ब्लड टेस्ट है जो अक्सर गर्भावस्था के दौरान 15 से 20 सप्ताह के बीच गर्भवती स्त्रियों का किया जाता है यह टेस्ट में गर्भस्थ शिशु के बारे में बारीकी से जांच करने के लिए किया जाता है जिसके अंतर्गत 35 साल या उससे अधिक उम्र की औरतें आती है या फिर वह परिवार जिसको इतिहास में कई जन्म दोष हो या फिर गर्भवती स्त्री जिसे पहले मधुमेह हो और इंसुलिन का प्रयोग करती हो या फिर गर्भावस्था के दौरान गर्भवती स्त्री वायरल संक्रमण से ग्रसित हो triple Marker test se anuvanshik Vikar ke baare में भी अनुमान लगाया जाता है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: हेलो मैम क्या प्रेग्नस्य में गुड़ चना खा सकते है कोई दिक्कत तो नहीं है डॉक्टर ने बोला है खून की कमी ओके लिए
उत्तर: हेलो डियर आप प्रेग्ने ंसी के दौरान तो कुछ खा सकते हो आप प्रेग्नेंसी के दौरान जो भी खाओगे उसे मिट मात्रा में खाएं नियर जिससे आपको कोई परेशानी ना हो . अगर आपके शरीर में ब्लड की कमी है तो आप गुड़ चना खा सकते हो और आप अपने खाने में आयरन युक्त पदार्थों जैसे कि पालक ,सोया बीन, अंजीर , राजमा, चावल , मूंगफली , बीटरूट गाजर संतरा मौसंबी मछली इनका भी आप सेवन कर सकते हो इससे भी आपका हीमोग्लोबिन बढ़ने में मदद होगा . आपको डॉक्टर ने आयरन की गोली थी वह भी आपको भी लीजिए डियर अपना ख्याल रखें .
»सभी उत्तरों को पढ़ें