10 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mera 10 week chal raha h or mere leg or back me pain ho raha h kya karu plz ans ....

3 Answers
सवाल
Answer: hello dear प्रेग्नंसी में कमर और पैरो मे दर्द होना आम बात है इसलिए आप परेशान मत हो जैसे-जैसे गर्भावस्था में आपका गर्भ बढ़ता है और बच्चे का आकार बढ़ता है वैसे-वैसे नसों में खिंचाव पैदा होने लगता है जिसकी वजह से कमर और पैरो में दर्द होने लगता है यह हारमोनल परिवर्तन के कारण भी होता है। कमर दर्द को दूर करने के लिए आप निम्न उपाय अपना सकती हैं ज्यादा देर तक एक ही स्थिति में ना बैठे संतुलित और पौष्टिक भोजन लीजिए ज्यादातर देर तक एक ही अवस्था में ना लेटे थोड़ी थोड़ी देर पर करवट बदलते रहे कमर दर्द दूर करने के लिए आप कुछ एक्सरसाइज और योगा भी कर सकती हैं कमर दर्द को दूर करने के लिए आप अपने कमर की मालिश सरसों के तेल से कीजिए। और पैर का दर्द ठीक करने के लिए आप निम्न उपाय कर सकती है *आप रोज़ सुबह टहलने जाया करिये। *आप अपने पैरों की सीकाई फिटकारी डाले गुन्गुने पानी से कर सकती है *आप सरसो के तेल में अज्वाइन लेहसुन ड़ालकर पकाइये और ठण्डा होने पर उससे पैरों की मालिश कीजिये आपको बहुत आराम मिलगा *आप पैरों की थोड़ी स्ट्रेचिंग करके भी उसका दर्द दूर कर सकती है।
Answer: हेलो डियर प्रेगनेंसी में पैरों तक पर्याप्त रक्त संचार न हो पाने के कारण उसमें ऑक्सीजन की कमी से पैर दर्द होने लगता है। यह घुटनों, और पैरों की उँगलियों में भी होता है। कभी कभी पैर सुन्न पड़ सकता है।बदलते हॉर्मोन्स लेवल से पैरों में दर्द होता है। जैसे गर्भाशय का आकार बढ़ता है उस प्रकार बदन की निचली मांसपेशियां ढीली पड़ने लगती हैं। इस कारण महिलाओं में पैर दर्द होता है। बढ़ते वज़न के कारण उसकी पैरों की हड्डी पर प्रभाव पड़ता है जिससे मांसपेशियों और पैरों में दर्द होता है। पैरों के दर्द से बचने के लिए पैर की उँगलियों को हलके हाथ से दबाएं। साथ ही गुनगुने तेल से मालिश करें! यह धीरे धीरे बेहतर परिणाम देगा। गर्भावस्था में ऊँची हील की सैंडल न पहनें। आरामदायम फ्लैट्स और ढीली चप्पलें पहनें। इनसे भी आपके पैरों और एड़ियों को आराम मिलेगा।
Answer: हेलो डिअर, प्रेग्नेंसीय में कमर और पैरो में दर्द होना यूट्रेस बढ़ जाने पर ज्यादा भार होने की वजह से भी होता है , जब आपके बेबी के आकार बढ़ने लगता है तब सारा वजन आपके कमर और पैरो पर पड़ता है , ऐसे में पैरो में खिंचाव भी होने लगता हैं आप इसके लिए कुछ ऐसा कर सकते है आप कमर और पैरों की सिकाई गर्म पानी को बोतल में भर कर ऊपर से एक कपड़ा डाल कर सकते है आप अपने कमर और पैरों की सरसो के तेल से मॉलिश करने से भी दर्द कम हो जाता है दर्द होने पर ज्यादा चले फिरे नही बल्कि आराम करे कोई भी भारी सामान ना उठाये या फिर कोई भी भारी भरकम काम भी ना करे ।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera 17 week chal raha h aaj mera back me bhut pain ho raha h kya karu
उत्तर: अगर आपको बैक पेन की प्रॉब्लम है तो यह एक आम समस्या होती है लेकिन इसकी वजह से बच्चे को किसी प्रकार की परेशानी नहीं होती इसको लेकर आप चिंता ना करें| आपका वजन सामान्य से अधिक है या फिर पहले भी गर्भवती हो चुकी हो तो pithदर्द होने की संभावना अधिक रहती है| अगर आप नियमित हल्का-फुल्काexerciseर करते हैं तो इसे आपकी मांसपेशियां मजबूत होती है जिसकी वजह से आपको दर्द का सामना नहीं करना पड़ता अगर pithमें दर्द हो तो आप मालिश भी करवा सकती है और सोने के समय आप हमेशाअपने pithके नीचे तकिया लगाकर करवट लेकर लेने से pith दर्द कम करने में मदद मिलती है। जब pith दर्द बहुत ज्यादा हो तो ऐसे में आप गर्म पानी से नहा सकते हैं इसे भी बहुत ज्यादा राहत मिलती है। आप pithदर्द के लिए reliefजेल का इस्तेमाल कर सकती है जैसे की volini इसे भी आप को राहत मिल जाता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hello mera 6 month chal raha h or mere back pain bhut ho raha h m kya karu
उत्तर: प्रेगनेंसी के मंथ में पेट के बहुत ज्यादा बहार निकल जाने से हमारे कमर पर जोर पड़ता है जिससे कमर दर्द, पीठ दर्द, पैर दर्द, पसलियों मे दर्द की शिकायत होती है। वजन बढ़ जाने की वजह से पैरो में भी दर्द रहता है। आप करवट लेकर लेफ्ट साइड करके सोय। दोनो पैरो के बीच में तकिया लेकर सोये। इससे बहुत आराम मिलेंगा। आप सरसो के तेल से हलकी हलकी मालिश भी कर सकती है। कमर के दर्द पीठ और पैरो के दर्द के लिए सरसो का तेल बहुत फायदेमंद रहता है। आप थोड़ा जयाद अराम किया कीजिए. जयाद देर खड़े होकर और जयाद झुक कर काम करना अवोइड कीजिए .. खाने पीने मे पोष्टिक अहर लीजिए अगर दर्द कमज़ोरी से हुआ तो वह खाने पीने में धयान देन से ही ठीक हो जायेगा.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा 8 महीना cःal रहा ः और आज मेरे वजाइना में बहुत पेन हो रहा h में क्या करूं
उत्तर: हेलो डियर प्रेगनेंसी में प्राइवेट पार्ट में दर्द होना नॉर्मल है जैसे जैसे बेबी की ग्रोव्थ बधती है तो यूट्रस का साइज़ भी इन्क्रीज होने लगता है और पेल्विक हिस्से की मांसपेशियों पर दबाव पड़ने लगता है और प्राइवेट पार्ट में दर्द होने लगता है प्राइवेट पार्ट का दर्द दूर करने के लिए आप ज्यादा देर तक एक जगह पर खड़ी ना रहे और ना ही ज्यादा देर तक कहीं पर बैठे। आप एक करवट में भी ना सोए ।रोज सुबह थोड़ी देर के लिए टहलने जाए ।इससे आपको प्राइवेट पार्ट के दर्द में आराम मिलेगा। इससे आपके बेबी को कोई प्रॉब्लम नही होगी।
»सभी उत्तरों को पढ़ें