29 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mera sevan month chal rha hai, baby ka vajan kam hai, diet me kya lena chahiye

2 Answers
सवाल
Answer: आपके बच्चे के लिए भ्रूण वृद्धि में मदद कर सकती है। दूध-प्रति दिन 200-500 मिलीलीटर का न्यूनतम सेवन, भ्रूण भार पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। कैल्शियम का अच्छा स्रोत; आपके बच्चे के लिए एक पोषक तत्व उतना ही महत्वपूर्ण है। दही (दही)।  कॉटेज पनीर (पनीर) या पनीर  दालें- हम कुछ सब्जियों को दाल में जोड़ सकते हैं। बोतल गोरड / टोरी / पालक / चुलाई की तरह। इस तरह का एक संयोजन लौह और प्रोटीन आवश्यकताओं दोनों का ख्याल रख सकता है स्प्राउट्स-ब्लैक चाना / मुंग / लोबिया स्प्राउट्स भी शामिल किए जा सकते हैं क्योंकि वे न केवल प्रोटीन प्रदान करते हैं बल्कि ये लोहा में समृद्ध होते हैं। सोयाबीन मटर, बीन्स- यह आपको प्रोटीन, बी कॉम्प्लेक्स विटामिन, फोलिक एसिड और आयरन, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, पोटेशियम और कॉपर जैसे खनिज प्रदान करेगा। चिकन-चिकन / कम वसा वाली मछली जैसे दुबले मांस शामिल हैं।  अंडे- एक शाकाहारी मां के लिए मांस खाने के बजाय प्रोटीन के समान रूप से अच्छे स्रोत के लिए एक और विकल्प अंडा है। अंडे विशेष रूप से अच्छी गुणवत्ता वाले प्रोटीन और विटामिन ए, डी और लौह जैसे खनिजों का स्रोत हैं। हरे पत्ते वाली सब्जियां - सरसन, चुलाई, बाथुआ, चना साग, फूलगोभी, काले, पत्तियां लोहा में समृद्ध हैं। पालक- पालक फोलिक एसिड का भी अच्छा स्रोत है। भ्रूण के मस्तिष्क के विकास के लिए फोलिक एसिड महत्वपूर्ण है  गाजर, मीठे आलू कद्दू- ये आपके आहार में शामिल होने के लिए सब्जियों का एक और सेट हैं।  खट्टे फल - विशेष रूप से नारंगी विटामिन सी और फोलिक एसिड और आहार फाइबर में समृद्ध है, जो गर्भावस्था में सामान्य कब्ज से बचने में मदद करता है।  नट - बादाम जैसे मूंगफली, मूंगफली भी आपके आहार में जोड़ दी जा सकती है।  दलिया, ब्राउन चावल, मिलेट को गर्भवती महिलाओं के आहार में परिष्कृत अनाज को प्रतिस्थापित करना चाहिए। पूरक - लौह, फोलिक एसिड पूरक शिशु के जन्म भार भी बढ़ा सकता है।
Answer: डायट में आप सब कुछ लें सकते है जैसे फ़लो के जूस , फल हरी सब्जियां ,अंकुरित मूंग दाल चने अण्डे आदि
  • avatar
    Pragati Srivastava705 days ago

    पनीर aur वाइट वाला sweets

समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा 7 मंथ chal रहा है मुझे क्या डाइट लेनी चाहिए .... मेरा हीमोग्लोबिन भी kam है
उत्तर: ऐसे खाद्पदार्थ जो आयरन,फोलिक एसिड, ओमेगा-3 फैटी एसिड और कैल्शियम से भरपूर होते है, उनका सेवन करें। यह आपके बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए बहुत जरूरी है। जैसे एवोकाडो, ब्रोकोली, ग्रीन बीन्स, पत्तागोभी, पालक, मेथी , गाजर, दही , पनीर, ड्राई फ्रूट्स , बादाम, मूंगफली, बटर ,कद्दू के बीज़, बीन्स, ब्रेड, चावल, स्ट्रॉबेरी,केला, खजूर,ले सकती हैं। शरीर में आयरन की मात्रा बढ़ाने के लिए आपको विटामिन सी भी लेना चाहिये, जैसे संतरा, टमाटर, निम्बू। चाय-कॉफ़ी से बिलकुल ही परहेज़ रखे, क्योंकि यह शरीर में आयरन को अवशोषित होने से रोकता है। कैल्शियम से भरपूर खाद्पदार्थ बच्चे की हड्डियों और उसके दाँतों के लिए बहुत आवश्यक हैं। जैसे टोफू ,सोयाबीन,दही ,बादाम ,सालमोन मछली।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: muje 6 month chal rha h konsi exercise kerna chahiye aur diet m kya lena chahiye
उत्तर: हेलो आप 6 महीने प्रेगनेट है आप इस समय ऐसे योगा करे की आपके पेट पर ज़्यादा दबाव ना बने आपको कुछ ऐसे आसन करना चाहिए जो पैरो को मजबूत बनाते हो और पैरों में ब्लड cerculation ब़डाते हो जिसके कारण आपको पैर में दर्द और स्वेलिंग की शिकायत ना हो आप ज़्यादा थका dene वाले आसन ना करे आप ब्रीदींग एक्सर्साइज कर सकती है जो आपके अन्दर से एनर्जी dega आप ऐसे योगा करे जो kandhe और पीठ को मजबूत बनाये बिना पेट में दबाव डालें बिना आप कुछ योग ट्राइ कर सकती है जैसे तितली आसन को गर्भावस्था के तीसरे महीने से कर सकते है| शरीर के लचीलेपन को बढ़ाने के लिए यह आसन किया जाता है|गर्भावस्था में अनुलोम विलोम आसन करने से शरीर में रक्त का संचार बढ़ता है। इसे करने से रक्तचाप नियंत्रित होता है| प्रेगनेंसी में तनावरहित रहने के लिए इस आसन को जरूर करना चाहिए|गर्भावस्था के दौरान शवासन करने महिलाओं को मानसिक शांति मिलती है| यह एक बेहतरीन Pregnancy Yoga है| इस आसन की खासियत यह है की इसे करने से शिशु का विकास अच्छी तरह होता है आपको इस समय ऐसा आहार लेना चाहिए जिसमें एक्स्ट्रा calorie हो .एक बार में बहुत ज़्यादा खाने से अच्छा है कि पूरे दिन में थोड़ी थोड़ी देर में थोडा थोडा खाएं ताकि आपके बच्चे के विकास के लिए उसे पूरा पोषण मिल सके। आगे प्रेगनेन्सी में हेमोग्लोबिन का लेवल सही होना चाहिए रेड मीट, बीन्स, अंडे, सीड्स और चांवल का सेवन करके आप आयरन और प्रोटीन की आवश्यकता को पूरा कर सकती हैं।डेयरी उत्पाद जैसे दूध, योगर्ट और खाद्य उत्पाद जैसे ओटमील और सालमोन में कैल्शियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसका सेवन करे कैल्सीअम के पाचन के लिए मैग्नीशियम से भरपूर खाना खाएं बादाम, ओटब्रान, ब्लैक बीन्स , जौ, चुकंदर, कद्दू के बीज आदि मैग्नीशियम के अच्छे स्त्रोत फ़ोलिक ऍसिड का भी सेवन करे ओटमील, पत्तागोभी या हरी पत्तेदार सब्जियां तथा फल जैसे स्ट्रॉबेरीज़ और संतरे आदि में फोलिक एसिड पाया जाता है कब्ज़ की प्रॉब्लम ना हो इसलिये आपको अपने आहार में सब्जियां, फल, दालें और साबुत अनाज शामिल करना चाहिए और पानी भरपूर पीये हार्टबर्न, हाथों और पैरों में सूजन आना, थकान और कब्ज़ आदि समस्याएं हो सकती इसलिये ऑयली स्पाइसी ना खाएं नमक का सेवन कम करे कोल्ड ड्रिंक ना पीये
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा 4तो मंथ चल रहा ः मुझे डाइट में क्या क्या लेना चाहिए जिज से मेरा बेबी हेल्दी हो
उत्तर: हेलो डियर आपको 16 वीक की प्रेगनेंसी चल रही है प्रेग्नेंसी के दौरान आपको अधिक से अधिक आयरन कैल्शियम व फॉलिक एसिड युक्त आहार का भोजन करना बेबी के शारीरिक व मानसिक विकास को बढ़ाने में आपकी मदद करता है अपने भोजन दूध, दही, दूध, पनीर , ड्राई फूट्स, केला मोसम्मी, संतरा ,कीवी, आडू ,अनार ,खजूर, ब्रोकली ,अखरोट पत्ता गोभी, गाजर ,शिमला, टमाटर ,लगभग सभी प्रकार की हरी सब्जियां सलाद अंकुरित, अनाज, मछली, एग्स विभिन्न प्रकार के विभिन्न प्रकार के फल पपाया, पाइनएप्पल को छोड़कर आप ले सकती हैं फलों का जूस ,मिक्स वेजिटेबल सूप इत्यादि अपने भोजन में शामिल कर करें जिससे आपको पर्याप्त मात्रा में आयरन ,कैल्शियम, विटामिंस, मिले जो कि बच्चे के ब्रेन बॉडी डेवलपमेंट में आपकी मदद करेंगे | भोजन के अलावा आपको पर्याप्त मात्रा में पानी की भी उतनी ही आवश्यकता होती है इसलिए 10 से 12 गिलास पानी जरूर पिएं नारियल पानी का भी उपयोग आप बॉडी को हाइड्रेट करने के लिए कर सकते हैं|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mera 5 th month chal rha hai to muje kesar dudh kis month me lena chahiye
उत्तर: हेलो डियर आप प्रेग्नेन्सी में केसर वाला मिल्क दूसरे तिमाही से ले सकती है अपनी प्रेग्नेंसीय में अपना अच्छे से ख्याल रखे तो ये आपके और आपके होने वाले बेबी के किये बहुत ही अच्छा है प्रेंनसीय में केसर वाला दूध आपको बहुत ही फायदा करेगा 1) गर्भावस्था में केसर का दूध पीने से अपच, कब्ज शिकायत नही होती है 2) इस दौरान रोज रात को केसर वाला दूध पीने से आपकी पाचनक्रिया ठीक रहती है 3) प्रेग्नें य में केसर दूध पीने से आपके हड्डियों का दर्द काफी हद तक हो जाएगा इससे हड्डिया मजबूत रहती है 3)गर्भवस्था में केसर का ज्यादा मात्रा में सेवन कभी नही करना चाहिए कज़र कि तासीर गर्म होती है जिससे गर्भपात होने का खतरा हो सकता है 4) अगर आपका बेबी मूवमेंट कम कर रहा है तो रोज केसर दूध पीने से बेबी का मूवमेंट जल्दी होने लगता एल
»सभी उत्तरों को पढ़ें