गर्भावस्था की तैयारी

Question: मेरा पीरियड 11 मे को आया था इज बार नहीं आया ह ,कुछ दिनों से वीकनेस,पैरों में दर्द,पेट और बैक पेन हो रहा ह ,जी घबरा रहा ह,बॉडी गरम भी हो रही ह ये सब किस वजह से हो रहा ह

0 Answers
सवाल
अभी तक इस सवाल का कोई जवाब नहीं है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: aaj kal mere pet me hamesha dard rehta h ye kis wajah se ho rha h
उत्तर: हेलो डियर हल्का फुल्का पेट दर्द तो आपकौ पूरी प्रेग्नंसी मे ही होगा ।जैसे-जैसे प्रेग्नन्सी बढ़ती है बेबी का वजन भी बढने लगता है और baby की ग्रोव्थ के बढ़ने के साथ-साथ उतरुस में मांसपेशियों में खिंचाव पैदा होने लगता है जिसकी वजह से पेट दर्द जैसी प्रॉब्लम होने लगती है ।कभी कभी पेट दर्द गैस या कब्ज की वजह से भी होता है। पेट दर्द को दूर करने के लिए आप निम्न उपाय अपना सकती हैं- आप लगातार एक ही स्थिति में खड़ी ना रहे ,ना ज्यादा देर तक कहीं पर बैठे ।संतुलित और पौष्टिक भोजन ही करें । ज्यादा से ज्यादा मात्रा में पानी पिए । तनाव मुक्त रहें । जमीन पर पैरों को मोड़ कर ना बैठे । एक ही स्थिति में ज्यादा देर तक ना सोए। और अगर आपको ज्यादा पेट दर्द हो रहा है तो आप तुरंत ही अपने डॉक्टर से मिलें ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरको बार बार यूरिन इन्फेक्शन हो रहा है ये किस वजह से हो रहा होगा
उत्तर: हेलो डियर महिलाओं में मूत्रमार्ग बहुत छोटा होता है और मुख बाहर की ओर खुला होता है एवं एनस ( गुदा) के बिल्कुल समीप होता है। यही कारण है कि जीवाणु बहुत ही आसानी से शरीर के अंदर ब्लैडर में प्रवेश कर जाते हैं।और यूटीआई इनफेक्शन हो जाता है यौन सम्बन्ध के समय साफ सफाई का ध्यान नहीं रखना यूरिन इन्फेक्शन होने का एक बड़ा कारण है। डियर आप नीचे दिए गए टिप्स को फॉलो करें आपको यूटीआई से जल्दी ही राहत मिलेगी :- पानी और तरल पदार्थों का सेवन ज्यादा करना चाहिए। हर 1 घंटे में पेशाब लगना जरूरी है इसलिए दिनभर में लगभग 10-12 गिलास पानी पीना चाहिए। तेज आई पेशाब को रोके नहीं, जब भी पेशाब लगे, तुरंत जाएं वरना यूटीआई होने का खतरा बढ़ जाएगा। पेशाब रोकने के कारण भी यह संक्रमण फैलता है। हमेशा कॉटन फैब्रिक के ही अंडरगारमेंट पहनें, जिससे त्वचा हमेशा सूखी बनी रहे और बैक्टीरियल फॉर्मेशन न हो। रोज नहाना और पर्सनल हाइजीन रखने से इस बीमारी से दूर रहा जा सकता है। खानपान की स्वच्छता का ध्या रखना भी जरूरी है। गंदी जगह पर बनाया गया खाना खाने से भी यह परेशानी हो सकती है। खाने का संक्रमण खून में मिल जाता है जिससे यूरिनरी कॉर्ड संक्रमण हो सकता है। यूटीआई की समस्या सफाई न रखने के कारण ज्यादा होती है। इसलिए संक्रमण से बचने के लिए शरीर की साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए। अपना टॉइलट हमेशा साफ-सुथरा रखें। डॉक्टर के बताये अनुसार पूरी दवा लेनी चाहिए। ठीक हो गए ऐसा समझ कर दवा बीच में छोड़नी नहीं चाहिए।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: kuch dino se pairo me bhot dard ho raha h....
उत्तर: हेलो डियर प्रेगनेंसी में पैरों तक पर्याप्त रक्त संचार न हो पाने के कारण उसमें ऑक्सीजन की कमी से पैर दर्द होने लगता है। यह घुटनों, और पैरों की उँगलियों में भी होता है। कभी कभी पैर सुन्न पड़ सकता है।बदलते हॉर्मोन्स लेवल से पैरों में दर्द होता है। जैसे गर्भाशय का आकार बढ़ता है उस प्रकार बदन की निचली मांसपेशियां ढीली पड़ने लगती हैं। इस कारण महिलाओं में पैर दर्द होता है। बढ़ते वज़न के कारण उसकी पैरों की हड्डी पर प्रभाव पड़ता है जिससे मांसपेशियों और पैरों में दर्द होता है। पैरों के दर्द से बचने के लिए पैर की उँगलियों को हलके हाथ से दबाएं। साथ ही गुनगुने तेल से मालिश करें! यह धीरे धीरे बेहतर परिणाम देगा। गर्भावस्था में ऊँची हील की सैंडल न पहनें। आरामदायम फ्लैट्स और ढीली चप्पलें पहनें। इनसे भी आपके पैरों और एड़ियों को आराम मिलेगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें