19 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mera pair bahot dard krta h kya kru bister se ut nhi pati hu

0 Answers
सवाल
अभी तक इस सवाल का कोई जवाब नहीं है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera pair bhut dard krta h
उत्तर: हेलो यह गर्भावस्था में होने वाली सामान्य समस्याओं में से एक है। जब शरीर को दिन के दौरान पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं मिलता या आप पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं पीतीं, तब पैरों में दर्द होता है khud k aur बच्चे के वेट का दबाव बढ़ने के कारण पैरो में दर्द होना आम ह.यह आम तौर पर दूसरी तिमाही में महसूस होता है और जैसे जैसे आपकी प्रेग्नेंसी बढ़ती है ये और भी बदतर होता जाता है आप ज़्यादा ना chale सपोर्ट ले के chale आप गुनगुन सरसों के ऑयल से पेरो की मालिश कर सकती है आप गुनगुन पानी में पैर डाल सकती है आपको राहत मिलेगी आप पानी खूब पीये और आराम करे healthy डायट टाइमली ले प्रोटीन कैल्सीअम से भरपूर जैसे ढूध पनीर दही ड्राइ फ्रूट्स sabjiya दाल खुब खाये कुछ समय के लिए धुप में ज़रूर जायें .थकान होने वाले काम न करें। पर्याप्त आराम करें ताकि ऐंठन से बच सकें। केले, कच्चे एवोकाडो, पके हुए आलू, पका हुआ पालक और मलाईरहित दूध ka sevan kare.यदि दर्द लगातार हो रहा है और सूजन या लालिमा आ रही है तो डॉक्टर से बात करें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera hanth pair daily bahot dard krta h mai kya kru
उत्तर: hello डियर,,, aap 24 week ki preganet hai.. प्रेगनेंसी में हार्मोन चेंजएस के कारण ,hanth,pair,शारीरिक दर्द होना एक बहुत ही आम बात है इसलिए बिल्कुल भी परेशान ना हो हाथ पैर के दर्द को दूर करने के लिए आप गुनगुने सरसों तेल से हाथ पैर की हल्की मसाज करा सकते हैं इससे खून का संचरण बढ़ता है हाथ पैर दर्द में कमी आती है| गुनगुने पानी से नहाए गुनगुने पानी के नहाने से मांसपेशियां रिलैक्स होती हैं और हाथ पैर दर्द में कमी आती है | हल्दी वाला दूध या गुनगुना दूध सोने के पहले पिए जिससे मांसपेशी रिलैक्स होकर आपको आराम पहुंचेगा ,घुटनों के पास तकिया रखकर सोएं, अत्यधिक हलचल ना करें ,शारीरिक श्रम के काम ना करें | संतुलित भोजन 10 से 12 क्लास पानी पीकर अपने आप ko हाइड्रेट रखें |
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mere pairo me bahot dard hota h jab bister pr letati hu to sari raat pair dard krta h
उत्तर: हैलो डियर-कभी-कभी मांसपेशियों और हड्डियों पर पड़ने वाले दबाव के कारण पैरो मे दर्द के साथ सूजन और ऐंठन भी हो सकती है यह दर्द और सुजन बच्चे के जन्म के साथ ही खत्म हो जाता है यह कभी किसी तो कभी किसी पैर में होता है यह परेशानी ज्यादातर प्रेगनेंसी में महिलाओं को होता ही है यह दर्द गर्भाशय में बच्चे के बढ़ने के कारण पड़ने वाले दबाव के कारण होता है दर्द से राहत के लिए आप पैरों और तलवों में हल्के गुनगुने सरसों तेल से मालिश ले सकती हैं नमक कम खायें।पैर के नीचे तकिया लेकर सोऐं। दर्द वाले की स्थिति में आप ज्यादा देर तक चले नहीं ना खड़े हो आपको आराम करना चाहिए और आपको फ्लैट आरामदायक नरम चप्पले पहननी चाहिए।
»सभी उत्तरों को पढ़ें