35 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mera 8 month chal raha mujhe khujli bahut hoti hai plz bataye mai kya karu

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर--- अक्सर गर्भावस्था में हार्मोनल चेंजेज और बॉडी के ज्यादा सेंसिटिव हो जाने की वजह से शरीर में खुजली होने की परेशानी होने लगती है गर्भावस्था में शरीर में होने वाली खुजली और रूखे पन से राहत पाने के कुछ घरेलू उपाय 1) बॉडी में देसी घी लगाने पर आपको खुजली से छुटकारा मिल सकता है 2) शरीर की जिस जगह पर अधिक खुजली हो रही हो या जलन हो रहा हो वहां पर आप चंदन का लेप लगा सकते हैं उसे भी आराम मिलेगा 3) सरसों तेल में थोड़ा सा पानी मिलाकर शरीर पर मालिश करने से भी खुजली से राहत मिलती है 4)नारीयल तेल मे़ कपुर मीलाकर पुरे शरिर में लगाने पर खुजली से आराम मीलता है। 5)आप शरीर में खुजली होने पर एलोविरा जैल युज कर सकती हैं ईससे जल्द राहत मिल जायेगी। अगर खुजली के साथ लाल चकते और परेशानी अधिक हो रही हो तो आपको डाक्टर से कंसल्ट करना चाहीये।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera private part me bahut khujli hota h plz bataye mai kya karu mera 7th month chal raha h
उत्तर: गर्भावस्‍था के दौरान महिलाओं के शरीर में ढेर सारे भौतिक परिवर्तन होते हैं। वेगिनल इचिंग यानी योनी में खुजली भी आम है, जो प्रेगनेंसी के दौरान होती है। ऐसे समय में वेगिनल में द्रव्‍य का स्राव अधिक होता है, जिस वजह से योनी का पीएच स्‍तर काफी बढ़ जाता है और जो आगे चलकर संक्रमण पैदा कर देता है। गर्भावस्‍था के दौरान किसी भी प्रकार का संक्रमण होने वाले बच्‍चे पर प्रभाव डाल सकता है। इस संक्रमण के दौरान गंध भी आती है। 1. प्रेगनेंसी के दौरान शरीर के साथ-साथ योनी को भी साफ रखें। यदि किसी भी प्रकार के द्रव्‍य का स्राव हुआ है, तो उसे ज्‍यादा देर तक छोड़ें मत। यदि द्रव्‍य से निकलने वाली गंध अधिक हो तो दिन में कम से कम दो से तीन बार कपड़े बदलें। 2. वेगिनल इचिंग गर्भावस्‍था के दौरान संभोग की वजह से भी पैदा होती है। इसलिए संभोग के पहले और तुरंत बाद वेगीना को अच्‍छी तरह से धोयें। 3. बार-बार यूरीन आने की वजह से भी यह संक्रमण हो सकता है। इसके लिए ज्‍यादा पानी का इस्‍तेमाल कर योनी को साफ रखें। 4. यदि संक्रमण बढ़ जाये तो पानी में बेकिंग सोडा डाल कर उससे वेगिना को साफ करें। क्‍योंकि बेकिंग सोडा पीएच स्‍तर को कम करता है। 5. बर्फ से सिकाई करने से काफी आराम मिलता है। इससे खुजली कम हो जाती है। 6. जरूरत पड़े तो वेगिनल पीएच परीक्षण करवायें। वो आप घर में भी कर सकती हैं। मेडिकल स्‍टोर में पीएच लेवल टेस्‍ट करने की किट उपलब्‍ध है। लेकिन यदि बहुत ज्‍यादा जलन हो तो डॉक्‍टर से जरूर सलाह लें। 7. यदि यूनीन के दौरान जलन होती है, तो उसका मतलब है कि संक्रमण बढ़ चुका है, लिहाजा ऐसे में डॉक्‍टर से सलाह लेने में देर मत करें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मैम मुझे बहुत जुखाम हुआ है अभी मेरा 8 व मंथ chal रहा है to बताएं मुझे क्या करना चाहिए
उत्तर: हाय डियर प्रेगनेंसी में हर महिला चाहती है कि वह सर्दी जुकाम से दूर रहे क्योंकि सर्दी जुकाम होना प्रेगनेंसी में बहुत ही परेशान करता है तुलसी के पत्ते को पानी में उबालकर अच्छी तरह उसमें एक थोड़ा सा नींबू डालकर आप उसको पिएंगे उससे आपको जुखाम खांसी में आराम मिलेगा और जो पहले से ही सर्दी जुखाम से पीड़ित हैं उनसे थोड़ा आप दूर ही रहिए आप अदरक का रस निकालकर उसमें थोड़ा सा शहद डालकर भी पी सकते हैं वह भी बहुत ही लाभकारी होता है किसी का भी यूज करा हुआ टावेल या नैपकिन यूज ना करें जितना हो सके अपने हाथ को साफ रखिए और काली मिर्च को थोड़ा सेक लें और उसको अच्छी तरह पीस लें और उसमें थोड़ा शक्कर डालकर आप लेंगे तो आपको उससे भी आपको बहुत कफ में राहत मिलेगी बस इन्हीं छोटी छोटी बातों का यदि आप ध्यान रखेंगे तो आप को जुखाम और खांसी से अपने आप को बचा सकते हैं !
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: 9 month chal raha hai mujhe sine me bahut jalan feel hoti hai plz upay bataye
उत्तर: कोशिश करें कि रात को आप सोने से करीब तीन घंटे पहले अपना भोजन कर लें। कई बार लेटने से भी छाती में जलन होने लगती है, रात को देर से भोजन करने पर, कोशिश करें कि खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही लेटें।एक कप अदरक की चाय भी आपको राहत पहुंचा सकती है।कि केला खाने से भी इसमें फायदा होता है।थोड़ी मात्रा में, लेकिन बार-बार भोजन खाती रहें। भोजन को अच्छी तरह चबाकर खाएं। भोजन के दौरान बहुत ज्यादा मात्रा में तरल पदार्थ न पीएं। गर्भावस्था के दौरान रोजाना आठ से 12 गिलास पानी पीना जरुरी है। तकिये लगाकर सोएं, ताकि आपके कंधे आपके पेट से ऊंचे रहें।जादा परेशानि होने पर डाक्टर से सलाह लें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें