11 weeks pregnant mother

Question: mera do bar aborshan huva he kiuki mere baby ko

सवाल
Answer: हेलो डियर अपना प्रशन पूरा करके लिखें ताकि हम सभी आपकी मदद कर पाए
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera do bar aborshan huva he ab me 10 week pregnent hu kya savdhani rakhu
उत्तर: हेलो डियर जितना हो सके घर का बना ताजा खाना खाए और खाना बहुत ही पौष्टिक खाएं जिससे कि बच्चा हेल्दी हो आप अपने खाने में ड्राई फ्रूट्स सभी तरह की दालें हरी सब्जियां दूध दही पनीर आदि के सब शामिल करें प्रेग्नेंसी के दौरान किसी खास चीज को खाने का दिल ज्यादा करने लगता है। ऐसे में किसी एक ही चीज को बार-बार खाने के बजाय बाकी चीजों को भी खाने में शामिल करें। -ज्यादा तला-भुना और मसालेदार खाना न खाएं। इससे गैस और पेट में जलन हो सकती है। जो भी खाएं, फ्रेश खाएं। बाहर के खाने से इंफेक्शन होने का खतरा होता है, इसलिए बाहर खाने से बचें। साथ ही डॉक्टर की बताई गई दवाई टाइम से लीजिए खूब अच्छे से पानी पीने जितना हो सके एक्टिव रहने की कोशिश करें और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि बिल्कुल किसी भी बात की टेंशन नहीं ले किसी की बात को मन से ना ही लगाए जितना हो सके खुश रहे सब कुछ बहुत ही अच्छा होगा बेबी बहुत अच्छी हेल्दी होगा ध्यान रखें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Madam mera 2 bar aabotion huva he aiesa kyu huva hoga
उत्तर: बार बार गर्भपात होने के कई कारण होते हैं जैसे क्रोमोसोम्स के विसंगति होने की वजह से ,दो क्रोमोसोम्स की जगह कभी-कभी 3 क्रोमोसोम्स फ्यूज हो जाते हैं ,जिससे कि गर्भपात होने की संभावना बढ़ जाती है या फिर बच्चे में कोई दोष रह जाता है बहुत अधिक वजन बढ़ने के कारण भी गर्भपात हो जाता है, किसी प्रकार का संक्रमण हो जाने पर भी गर्भपात हो जाता है। गर्भधारण करने के बाद बहुत अधिक भारी काम करने से भी गर्भपात हो जाता है ।बहुत अधिक सीढ़ियां चढ़ने उतरने से भी गर्भपात हो जाता है ।बहुत अधिक उछल-कूद नहीं करनी चाहिए उस से भी कर पाते हो जाता है ।यह मुख्य कारण है जिनकी वजह से अक्सर गर्भपात हो जा
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mere baby ko kbj huva hai plz koi upay do
उत्तर: hello dear जब बच्चों को ठोस शुरू होता है, तो उसे रोज पूप करना चाहिये 1 दिन गैप हो जाए तो कोई बात नही लेकिन यह मुश्किल नहीं होना चाहिए क्योंकि यह कब्ज की शुरुआत हो सकती है। आहार में चावल, केले, गाजर आदि जैसे कम फाइबर भोजन की कमी के कारन ऐसा होता है। 1.कुछ दिनों के लिए kheer आदि जैसे अन्य दूध के बने सामान बेबी को ना दें। 2.छिलके के साथ ऐप्पल प्यूरी, और prunes रस के साथ नाशपाती प्यूरी दें। 3.. रात में किशमिश भिगो दें और अगली सुबह उसका पानी दें। 4.. अनार का छिलका पानी में उबालें और वह पानी दें। 5.. ओट्स और बहुत सारे पानी जैसे समृद्ध फाइबर आहार शामिल करें। 6. गर्म तेल के साथ बच्चे के पेट मालिश। 7. गर्म पानी स्नान। 8. बेबी के आहार में दही, सलाद, मक्खन शामिल करें। 9. अधिक तरल आहार।
»सभी उत्तरों को पढ़ें