Question: mera c sec hue 15 din ho gye h mje abi kya diet apnani chahiye or kya ni

2 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर, डिलीवरी चाहे नॉर्मल हो या सी सेक्शन दोनों ही केस में सबसे ज्यादा आपको खाने पीने का बहुत ध्यान रखना होता है क्योंकि इस टाइम आपकी बॉडी बहुत weak होती है और आप को रिकवर होने में भी थोड़ा टाइम लगेगा इसलिए हमेशा सलाह दी जाती है कि स्पाइसी फूड ऑइली फूड जंक फूड ब्रेड पिज़्ज़ा मसालेदार खाना ज्यादा मीठा खाना खट्टा खाना कम से कम 2 महीने तक avoide करना चाहिए| आपको कब्ज की प्रॉब्लम रहती है इसका मतलब आप जो खा रही हैं वह आपका easily डाइजेस्ट नहीं हो रहा है इसलिए सबसे पहले तो आप थोड़ी थोड़ी देर में कुछ ना कुछ खाती रहे एक बार भी बहुत सारा खाना मत खाइए सोने se 1 या 2 घंटे पहले आप खाना खाइए, खाने के बाद थोड़ी सी वॉक जरूर करें खूब पानी पीजिए खाने के साथ सलाद जरूर खाएं सलाद में खीरा टमाटर मूली गाजर इन सब को अपने खाने में जरूर शामिल करें| बेबी को जब भी feed karaye अपने कंधे पर लेटा कर ऊपर से नीचे हाथ से जरूर सहलाइए जिससे उसको डकार आए जब उसको डकार आएगी तभी समझना चाहिए उसने जो feed किया है डाइजेस्ट हुआ है| सोते टाइम हींग को पानी में मिलाकर उस पानी कॉटन से उसके पेट पर लगाइए जिससे उसकी गैस में भी काफी आराम मिलेगा |
Answer: हेलो डियर आपको डिलीवरी के बाद खाने पीने का बहुत ख्याल रखना होगा आप 2 mahino tak pine में अजवाइन पानी ले तो आपकी बॉडी के लिए अच्छा होगा आप पीने में अजवाइन के पानी को गर्म करें और जितनी बार भी पिए गुनगुना ही पी इससे आप के अंदरूनी घाव जल्दी सूख जाते हैं आप खाने में सादा खाना ले ज्यादा ऑइली फूड ना ले आप जितनी बार भी खाना खाएं कम कम खाएं और बार बार खाएं 3 महीने तक खाने में खट्टी चीजें बिल्कुल भी ना ले..ऑर अपने बेबी को 6 मंथ तक केवल अपना hi दूध पिलाने की कोशिश करे . घी खाने से आप के बॉडी मे ताकत आती है . और घी से आप के टाँकें भी जल्दी तिक होते है . इसा लोगो का मान्ना है . घी हमेशा देसी घी गाय का ही उपयोग करे तभी फ़ायदा होगा ..ok
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: 3 din hue h mera c section s baby girl hue mujhe mere diet list m ky ky khana chahiye
उत्तर: Best Diet After C Section..... Drawing a diet plan, with what to eat after caesarean delivery and what to avoid, can be tricky and should be planned carefully. The diet should be a mix of foods which will supply essential nutrients in current quantities to the mother. Listed below are items which should be included in a mother’s food after C section for speedy recovery and nutrition fulfilment: Protein, Minerals and Calcium Rich Food... Proteins help in the growth of new tissue cells which fasten the healing process. Food items rich in protein facilitate repair of tissues and maintain muscle power post the surgery. Calcium, on the other hand, helps in strengthening bones and teeth, relaxation of muscles, aids blood coagulation and prevents osteoporosis. During breastfeeding, 250 to 350 mg of calcium is transferred to the new-born baby. Low-fat dairy products such as skimmed milk, low-fat yoghurt, cheese, beans and dried peas are excellent reservoirs of proteins and vitamins. Pulses are rich in protein content..... Sesame seeds are rich in iron, copper, calcium, phosphorous and magnesium. Whole Grain Foods..... Whole grain foods such as pasta, brown bread and brown rice should form a part of your diet as they are rich in carbohydrates which help to maintain energy levels and breast milk production.  Vitamin Rich Foods..... Vitamins are rich in anti-oxidants and help in repairing tissues. Vitamins assist production of collagen in the body which help in building new scar tissues, ligaments and skin. Vegetables like broccoli, spinach and fenugreek leaves are good sources of vitamins A and C, dietary calcium and iron. Vegetables and fruits like oranges, papayas, watermelons, strawberries, grapefruits and sweet potatoes are rich in vitamin C, which helps in combating infections and strengthening immunity. Fibre Rich Foods..... Fibre is a necessary nutrient which is required to avert constipation and ensure hassle-free bowel movements. Constipation can delay the healing process by putting pressure on wounds and incisions. Raw fruits and vegetables add roughage to the diet and help to relieve from constipation. Oats and Ragi are high in fibre content and also rich sources of carbohydrates, calcium, proteins and iron. Lentils, green grams and pulses can also be included in the diet for their protein and fibre content. Easy To Digest Foods.... The body accumulates excessive gas after giving birth. Mothers should be careful not to eat food items that cause gas and constipation. During the period after C section, you should avoid consumption of junk food and carbonated drinks and consume food items such as soup, cottage cheese, broth, yoghurt and other items which are easily digested by the body. Iron Rich Foods.... Iron helps to maintain haemoglobin levels and regain blood lost during the delivery process. Iron also aids in the functioning of the immune system. Food items such as egg yolk, red meat, oysters, beef liver and dry fruits are a rich source of iron.  Fluids.....  such as coconut water, low-fat milk, non-citrus juices, herbal teas, buttermilk and soup are a good source of essential nutrients. You should also consume 8 to 10 glasses of water daily. Liquids such as calcium-fortified drinks, low-fat yoghurt and milk improve your breast milk supply, which is an essential component of the baby’s daily diet. Caffeinated drinks such as coffee, tea and energy drinks should be avoided as they can enter the breast milk and affect your baby’s sleep. Dairy Products..... Low-fat dairy products such as skimmed milk, low-fat yoghurt and cheese provide a good dose of protein, calcium and vitamins B and D. These minerals are essential for nursing mothers, and at least 500ml of dairy products should be consumed daily. Vegetables and Fruits..... While all fruits and vegetables are beneficial for new mothers, green veggies are especially good as they are loaded with vitamins, iron and calcium. Besides beans, spinach and broccoli, it is a good idea to include lotus stems and fenugreek in a meal plan. Mushrooms and carrots are good sources of protein for vegetarians. Breastfeeding mothers can benefit from the antioxidant properties of blueberries and the goodness of vitamin-c rich citrus fruits. Other Foods to Include in Diet.... Besides the foods listed above, including many of the spices, and condiments which are a part of Indian cooking help a new mother cope with the physical demands childbirth puts on her. Cumin, fenugreek, turmeric, ginger and garlic, and carom seeds (ajwain) are some spices which have medicinal properties. While some like ajwain are antibacterial and antifungal, others like turmeric help reduce inflammation. Which Foods to Avoid After Caesarean Delivery?. Avoid spicy food as they can cause gastric trouble and the baby might also get the flavour in the milk..... Carbonated drinks and citrus juices should not be consumed as they can cause gas...... Consumption of caffeinated drinks such as coffee and tea should be restricted as these are diuretics and the caffeine can cause problems in baby’s growth..... Alcohol should be avoided as it can interfere with the mother’s ability to breastfeed and impair baby’s growth and development. Stay away from foods that form the gas. Food items such as urad dal, chola, chawali, rajma, channa, besan, pickles, green peas, dry peas and vegetables like cauliflower, cabbage, bhindi, broccoli and onions should be avoided for at least 40 days from the day of delivery. Cold and uncooked food should be excluded from the menu..... Fermented, fried and fast food should be avoided completely..... Avoid ghee and rice for the first 3-4 days after a c section.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera period miss hue 15 din ho gye h pregnancy test positive h...kya docter ko dikhana chahiye abhi
उत्तर: गर्भावस्था के समय मां और बच्चे का ख्याल रखना बहुत जरूरी होता है मां की पहली देखभाल तो खुद पर निर्भर करता है लेकिन बच्चे के स्वास्थ्य के बारे में जानने के लिए हमें कुछ जांच करानी पड़ती है गर्भावस्था के दौरान शरीर में काफी परिवर्तन होते हैं जिनकी निगरानी करना बच्चे और मां के स्वास्थ्य के लिए बहुत ज्यादा आवश्यकता है इसलिए हमें समय समय पर चेकअप करवाना चाहिए बच्चे के जन्म से पहले जो परीक्षा में होता है उसे एंटी नेटल केयर कहा जाता है iska udesya यही होता है कि बच्चे के स्वास्थ्य के बारे में जानना प्रेगनेंसी में सबसे पहले स्क्रीनिंग टेस्ट 15 से 20 हफ्ते के दौरान करवाने चाहिए जिससे कि बच्चे की रीढ़ की हड्डी के बारे में हमें पता चलता है इस समय आप बच्चे में होने वाले डांस एंड उनके बारे में भी पता कर सकते हैं जो क्रोमोसोम में जींस होते हैं उनके द्वारा माता पिता के गुण बच्चों में ट्रांसफर होते हैं इन क्रोमोसोम में गड़बड़ी की वजह से उनको डाउन सिंड्रोम होने का चांस रहता है इसलिए 15 से 20 सप्ताह के दौरान एक बार जांच करानी जरूरी होती है गर्भवती महिला की सबसे पहली जांच उसके पहले तिमाही में होता है जिसमें डॉ आपके मासिक धर्म चक्र पिछला गर्भाधारण , सेवन करने वाली दवाइयों और आपके जीवन शैली के बारे में पूछते हैं इस समय आपका वजन BP हृदय की गति यह सब मापा जाता है जो की बहुत जरूरी होता है दूसरी तिमाही में भी आपके यूरिन टेस्ट अल्ट्रासाउंड और आपका ब्लड टेस्ट किया जाता है जिससे कि आपका हीमोग्लोबिन का स्तर और आपके बच्चे की स्थिति के बारे में जाना जाता है तीसरी तिमाही में जब महिला गर्भवती के अंतिम चरणों में पहुंच जाती है तो आपकी सेहत आप प्रेग्नेंसी के अनुसार डॉक्टर आपको हर दो और 4 हफ्ते में हास्पिटल आने के लिए कहते हैं आज जब 36 सप्ताह की शुरुआत से जब तक डिलीवरी नहीं हो जाती तब तक आपको हमेशा जांच करवाते रहना चाहिए कि इस दौरान आपका और आपके बच्चे पर पूरा ध्यान रखा जाता है इस दौरान भी अल्ट्रासाउंड कराया जाता है जिसमें प्लेसेंटा की स्थिति बच्चे का विकास और एमनियोटिक द्रव के स्तर की जांच की जाती है इस लास्ट महीने में आपको और बच्चे के लिए खांसी से बचाव के लिए एक vaccine लगाई जाती है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mje khasi a rhi h c sec hua h 9 din ho gye h abi tanke ni kte h isse tanko pr to koi asr ni hoga plz rply me mai kya kru
उत्तर: hello सूखी खांसी को दूर करने के लिये आपको दिन में 1 चम्मच शहद 3 बार लें तो आपको राहत मिलेगी। शुद्ध शहद में ऐसे एंजाइम होते हैं जो खांसी से राहत दिलाते हैं 1 गिलास गरम पानी में 1 चम्मच नमक मिला कर सुबह शाम गरारा करने से सूखी खांसी में आराम मिलता है। जब आप नमक मिले पानी से गरारा करते हैं तो गले का दर्द और खांसी ठीक होने लगती है।  काली मिर्च को पीस कर घी में भूनकर खाने से गले को आराम मिलता है और सूखी खांसी से राहत मिलती है। तुलसी, काली मिर्च की चाय सूखी खांसी को दूर करने में सबसे अच्छी मानी जाती है। आधा कप पानी उबालें, उसमें 1 छोटा चम्मच हल्दी और 1 छोटा चम्मच पिसी काली चिर्म का मिक्स कर लें। इसे उबालें और फिर इसे धीरे धीरे इसका सेवन करें। यह करने से जल्द ही आपको आराम मिलेगा गले मे और सूखी खांसी खत्म हो जाएगी। 2 चम्मच नींबू के रस में 1 चम्मच शहद मिक्स कर के इसे दिन में चार बार लें। इससे गले की खराश दूर होगी और आपको सूखी खांसी से राहत मिलेगी लहसुन एक एंटीबैक्टीरियल है 1 कप पानी में दो या तीन लहसुन की कलियों को उबालें। जब पानी हल्का ठंडा हो जाए तब इसमें शहद मिला कर पीने सेसूखी खांसी में जल्द आराम मिलता है। आधा चम्मच प्याज के रस में 1 छोटा चम्मच शहद मिक्स करें और इसे दिन में दो बार लें।, अगर आपको ज़्यादा दिन तक खांसी रहे, तो उसे डॉक्टर से संपर्क करें।     
»सभी उत्तरों को पढ़ें