3 महीने का बच्चा

Question: mera beta 2 nahine 27 din ka ho gaya hai or usko bahut jyada green potty aa rhi h wo bahut baar potty krta h mujhe kya krna chahiye ki ye potty km krne lage

0 Answers
सवाल
अभी तक इस सवाल का कोई जवाब नहीं है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera beta 2 month 10 days ka h wo potty 2-3 din m ek bar krta h kya karu ..
उत्तर: हेलो डियर अगर बेबी को अपना दूध पिला रही है तो ये परेशान होने वाली बात नही है माँ का दूध पीने वाले बेबी 1 वीक मे 1 ही बार potty करते है | तब आप बेबी के पेट पर हींग का पेस्ट लगा सकती है नाभि के पास क्लॉक वऐज बेबी के पैरों ko साइकिल की तरह चलाये आराम मिलेगा |
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera beta 2 months 4 days ka hua h wo 3 din मे एक baar potty krta है
उत्तर: बच्चे को जब कई दिनों तक potty न हो तो चिंता होना स्वाभाविक है क्योंकि इससे बच्चे का health effect हो सकता है। इस स्थिति में एक चम्मच शहद में एक चम्मच गुनगुना पानी मिलाकर बच्चे को रात में सोने से पहले प्रतिदिन पिलाएं। सुबह जब बच्चा जगे तो उसे मल त्यागने के लिए बैठाएं। बच्चे को मल त्यागने में परेशानी नहीं होगी। यदि शहद देने के बाद बच्चा सिर्फ एक ही बार मल करता है तो यह खुराक आप दिन में भी उसे दे सकती hai नारियल का तेल सबसे अच्छा natural laxative माना जाता है तो बच्चे कोpotty krne me हो रही परेशानी को दूर करने में मदद करता है। इसके लिए आप किसी liquid में 2 मिलीलीटर ऑर्गेनिक नारियल का तेल मिलाकर बच्चे को पिलाएं। इसके बाद बच्चे को मल त्यागने में आसानी होगी। यदि बच्चे को मल त्यागने में दर्द होता है तो उसके गुदा (anus ) के पास नारियल का तेल लगाएं जिससे मल के दौरान बच्चे की नाजुक त्वचा छीलेगी नहीं और वह आसानी से मल कर सकेगा। यदि बच्चा 6 महीने से अधिक उम्र का हो तभी यह विधि अपनाएं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hlw mam mera baby 25 din ka wo ek baar m bahut potty krta dheeli yellow potty krta h kya y normal h
उत्तर: हैलो डियर-स्तनपान करते समय शुरुआती 6 महीने में बच्चों के पार्टी का रंग सरसों के पेस्ट के समान पीला दूध जैसा फटा काले रंग का चिपचिपा या फिर हरा रंग का 5से 6बार हो सकता है। इसमें घबराने वाली कोई बात नहीं ऐसा बच्चे की पॉटी इसलिए होता है क्योंकि बच्चे मां के दूध पर निर्भर होते हैं।और उन्हे गैस बनने कि समस्या होती हैइससे बचने के लिये जो स्तनो में पहला पतला दूध आता हैउसे निकाल देने के बाद स्तनपान करवाना चाहीये क्योंकी इससे बच्चे को परेशानी होती है।इसके लिये स्तनपान के बाद बच्चे को डकार जरूर दीलवाना चाहीये।
»सभी उत्तरों को पढ़ें