2 महीने का बच्चा

Question: mera baby 2month ka hai mughe apni diet m kya kya lena chahiye???

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर आपका बच्चा भी 2 महीने का है तो आपको सारे पोषक तत्वों की जरूरत है आप के दूध के जरिए यह बच्चे को सारे पोषक तत्व पहुंचेंगे आप हरी सब्जियां खाएं फल खाएं दूध पिए ड्राई फ्रूट खाएं अपने खाने में आप ghee भी जरूर शामिल करें इन सब से आपको काफी मदद मिलेगी और साथ ही साथ आप पानी का भी बहुत ध्यान रखें आप ज्यादा से ज्यादा पानी पिए दूध पिए दही ले अपने खाने में अगर आप नॉन वेजिटेरियन है और आप अंडा खा sakti hai.. खाने में आप सलाद जरूर शामिल करें सुबह के समय आप अंकुरित खाएं
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera sevan month chal rha hai, baby ka vajan kam hai, diet me kya lena chahiye
उत्तर: आपके बच्चे के लिए भ्रूण वृद्धि में मदद कर सकती है। दूध-प्रति दिन 200-500 मिलीलीटर का न्यूनतम सेवन, भ्रूण भार पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। कैल्शियम का अच्छा स्रोत; आपके बच्चे के लिए एक पोषक तत्व उतना ही महत्वपूर्ण है। दही (दही)।  कॉटेज पनीर (पनीर) या पनीर  दालें- हम कुछ सब्जियों को दाल में जोड़ सकते हैं। बोतल गोरड / टोरी / पालक / चुलाई की तरह। इस तरह का एक संयोजन लौह और प्रोटीन आवश्यकताओं दोनों का ख्याल रख सकता है स्प्राउट्स-ब्लैक चाना / मुंग / लोबिया स्प्राउट्स भी शामिल किए जा सकते हैं क्योंकि वे न केवल प्रोटीन प्रदान करते हैं बल्कि ये लोहा में समृद्ध होते हैं। सोयाबीन मटर, बीन्स- यह आपको प्रोटीन, बी कॉम्प्लेक्स विटामिन, फोलिक एसिड और आयरन, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, पोटेशियम और कॉपर जैसे खनिज प्रदान करेगा। चिकन-चिकन / कम वसा वाली मछली जैसे दुबले मांस शामिल हैं।  अंडे- एक शाकाहारी मां के लिए मांस खाने के बजाय प्रोटीन के समान रूप से अच्छे स्रोत के लिए एक और विकल्प अंडा है। अंडे विशेष रूप से अच्छी गुणवत्ता वाले प्रोटीन और विटामिन ए, डी और लौह जैसे खनिजों का स्रोत हैं। हरे पत्ते वाली सब्जियां - सरसन, चुलाई, बाथुआ, चना साग, फूलगोभी, काले, पत्तियां लोहा में समृद्ध हैं। पालक- पालक फोलिक एसिड का भी अच्छा स्रोत है। भ्रूण के मस्तिष्क के विकास के लिए फोलिक एसिड महत्वपूर्ण है  गाजर, मीठे आलू कद्दू- ये आपके आहार में शामिल होने के लिए सब्जियों का एक और सेट हैं।  खट्टे फल - विशेष रूप से नारंगी विटामिन सी और फोलिक एसिड और आहार फाइबर में समृद्ध है, जो गर्भावस्था में सामान्य कब्ज से बचने में मदद करता है।  नट - बादाम जैसे मूंगफली, मूंगफली भी आपके आहार में जोड़ दी जा सकती है।  दलिया, ब्राउन चावल, मिलेट को गर्भवती महिलाओं के आहार में परिष्कृत अनाज को प्रतिस्थापित करना चाहिए। पूरक - लौह, फोलिक एसिड पूरक शिशु के जन्म भार भी बढ़ा सकता है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: diet m kya lena chahiye
उत्तर: गर्भवती महिला को हमेशा पोषक तत्व से भरी हुई चीजों का ही सेवन करना चाहिए और हमेशा संतुलित आहार करना चाहिए गर्भावस्था में महिला जो कुछ भी खाती है उसका असर पेट में पल रहे बच्चे पर भी होता है इसलिए आप जब भी कोई नया और शामिल करते हैं उसे पहले आप डॉक्टर की सलाह जरूर लें उल्टा सीधा खाने से बचें| अगर आप कुछ भी सब्जी या फल खाते हैं तो उसे बिना धोए कभी ना खाएं सब्जियों को पकाने से पहले इसे अच्छी तरह पानी में धो ले। आपको गर्भावस्था के दौरान शराब या फिर धुम्रपान ऐसे चीजों का उपयोग नहीं करना है इससे गर्भपात होने की आशंका होती है। आपको फलों में पपीते का सेवन नहीं करना है खासकर कच्चा पपीता नहीं खाना है या गर्भपात कराता है| अगर आप चाय और कॉफी के आती होंगे तो इस दौरान आपको इसका सेवन नहीं करना होता गर्भावस्था के दौरान हमेशा कब्ज की शिकायत रहती है इसलिए कब्ज जैसी परेशानी को दूर करने के लिए आपको अपनी डाइट में फाइबर की मात्रा को बढ़ाना चाहिए इसके लिए आप पत्तेदार सब्जियां खजूर ब्राउन ब्रेड अजवाइन या फिर ब्राउन राइस का भी उपयोग कर सकते हैं प्रोटीन की सबसे ज्यादा जरूरत होती है इसलिए अपने शरीर में प्रोटीन की कमी ना होने दें इसके लिए आप प्रोटीन से भरा हुआ पोषक तत्व ले प्रोटीन प्राप्त करने के लिए आप दलहन वाली चीजों का उपयोग कर सकते हैं इसके अलावा आप ड्राई फ्रूट्स पनीर उबला हुआ चना सोयाबीन यह सब खा सकते हैं
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera baby 2month ka h mai apni diet m kya kya le skti hun??
उत्तर: आपको अपने डायट में लौकी की सब्जी सूप आदि आदि अपने डाइट में शामिल कर लेना चाहिए यह बहुत ही पौष्टिक और आपको जल्दी ही रिकवर होने में मदद करेगी अगर आपको भी पसंद है तो आपको भी भी खाना चाहिए कि खाने से आपकी हड्डियां मजबूत और जोड़ों के दर्द से राहत मिलेगी और मांसपेशियों में भी ताकत आएगी दूध दलिया का सेवन रोज करें इससे आप के दूध में वृद्धि होगी और यह बेहद पौष्टिक भी होता है आप चाहे तो फलों का जूस भी अपने डाइट में शामिल कर सकती हैं हो सके तो कुछ दिन तक आपको मिर्च मसाले का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे आपके बेबी को परेशानी हो सकती है मूंग की दाल हरी सब्जी का भरपूर सेवन करें ऐसी खानपान से दूर रहे जो गैस पैदा करती हैं क्योंकि इससे आपके बच्चे को परेशानी होगी आपको अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए क्योंकि इससे आप जल्दी रिकवर करेंगी और स्तनपान कराने में भी वृद्धि होगी
»सभी उत्तरों को पढ़ें