3 महीने का बच्चा

Question: mera baby green potty kar rha h koi gharelu ilaj btaiye plz

1 Answers
सवाल
Answer: 6 महीने से छोटे बच्चे में अगर हरी पोटी हो तो घबराने की कोई बात नहीं है , छोटे बच्चों में होने वाली हरी पॉटी का सिर्फ एक ही कारण है वह है मां के दूध का शुरुआती हिस्सा पीना . मां के दूध के शुरुआती हिस्से में पानी की मात्रा ज्यादा रहती है जिससे बच्चों की प्यास बुझती है, पर कभी-कभी बच्चे सिर्फ शुरूआती हिस्सा पी लेते हैं जिसकी वजह से उनको न्यूट्रिशन कम मिलता है और पोटी का कलर हरा हो जाता है ,इसलिए आप कोशिश कीजिए कि बच्चे को एक साइड से अच्छी तरह से दूध पिलाएं ,अगर आपका बच्चा जल्दी दूध पीकर छोड़ देता है तो आप अपने दूध का शुरुआती हिस्सा निकाल सकते हैं ताकि बच्चे को बीच का दूध मिले जो कि बच्चे के लिए बहुत ही अच्छा है जिससे बच्चे का वजन बढ़ेगा और और पोटी का कलर मस्टर्ड येलो कलर का होगा|
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera baby bahut potty kar rha h plz kuchh ilaj bataye
उत्तर: अभी आपका बच्चा सिर्फ एक महीने का ही है. और इतने छोटे बच्चे दिन में ८- १० बार पॉटी करे या तो फिर 5-7 दिन में एक बार पॉटी करे दोनों बात नार्मल है. इसमें आप चिंता न करे. अभी बच्चे का digestive सिस्टम डेवेलोप हो रहा है तो ऐसा होता है. जरुरी ये है की बच्चे ठीक से दूध पिता हो.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mam mera Baby pani jaisi green potty kar rha h
उत्तर: हैलो डियर-स्तनपान करते समय शुरुआती 6 महीने में बच्चों के पार्टी का रंग सरसों के पेस्ट के समान पीला दूध जैसा फटा काले रंग का चिपचिपा या फिर हरा रंग का 5से 6बार हो सकता है। इसमें घबराने वाली कोई बात नहीं ऐसा बच्चे की पॉटी इसलिए होता है क्योंकि बच्चे मां के दूध पर निर्भर होते हैं।और उन्हे गैस बनने कि समस्या होती हैइससे बचने के लिये जो स्तनो में पहला पतला दूध आता हैउसे निकाल देने के बाद स्तनपान करवाना चाहीये क्योंकी इससे बच्चे को परेशानी होती है।इसके लिये स्तनपान के बाद बच्चे को डकार जरूर दीलवाना चाहीये।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera baby green potty kyu kar rha
उत्तर: हेलो डियर aapka baccha 6 मंथ ka है और ग्रीन कलर की potty कर raha है अगर ग्रीन कलर की potty के साथ बच्चे को कुछ और प्रॉब्लम ना हो रही हों तो ये नॉर्मल है बच्चे ने ठोस आहार खाना शुरु कर दिया है, तो जो भोजन वह खाता है, उसका मल उसी भोजन के रंग का हो सकता है।  बच्चे का डाइजेस्टिव सिस्टम सॉलिड फ़ूड खेने के लिए विकसित होता रहता है तो बच्चे के potty के कलर में बदलाव सम्भव है आप बच्चे को नयी नयी चीज़ें धीरे धीरे खिलायें एक साथ सब कुछ ना खिलायें अगर आप बच्चे को ब्रेस्ट मिल्क पिलाती है तो ज़्यादा देर तक फीडिंग करवायें बच्चे का हरा कलर आपके ब्रेस्ट से कम कैलोरी मिल्क निकलने के कारण भी हो सकता है स्तनपान के अंत में आने वाला वसायुक्त गाढ़ा दूध उसे पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल पा रहा। वसायुक्त यह गाढ़ा दूध बच्चे को उसकी जरुरत की अधिकांश कैलोरी प्रदान करता है और उसका पेट भरता है।  यदि आप बच्चे को एक निश्चित समय तक दूध पिलाकर स्तनपान करवाना बंद कर देती हैं, तो भी संभव है कि बच्चे को कैलोरी युक्त दूध न मिल पाए। इसलिए एक स्तन से स्तनपान पूरा कर लेने पर बच्चे के खुद उस स्तन को छोड़ देने का इंतजार करें। और इसके बाद ही उसे दूसरे स्तन से दूध पिलाएं। आप अपन खाना हेल्थी और संतुलित रखें ताकि बच्चे को पूरा पोषण मिल सकें और बच्चे को पानी की कमी ना हो बच्चे को 10 से 15 मिनट धुप में ज़रूर ले के जायें सूर्या का प्रकाश से मिलने वाले विटामिन D आपके बच्चे के विकास में हेअल्फुल होता है यदि bacche ki potty लगातार हरा ही bani रहे, तो उसे डॉक्टर को दिखाएं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera baby green colour ki potty kar rha hai koi problen toh nhi h
उत्तर: हाय डियर इसमें कोई टेंशन की बात नहीं है अगर आप बेबी को फॉर्मूला मिल्क पिलाती हैं तो बच्चे ग्रीन पॉटी कर सकते हैं और यदि आप बेबी को ब्रेस्टफीड करा रही हैं हरी सब्जियां जैसे पालक आदि खाती हैं तो बच्ची ग्रीन पॉटी कर सकती है कुछ लोगो का ये भी मनना है की बेबी को सर्दी हो जाए तो green पॉटी करते है। नॉर्मल है डोंट वरि। बेबी को ब्रेस्ट फ़ीड ही कराएं फॉर्मूला मिल्क ना दे 6 मंथ तक।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
Healofy Proud Daughter