3 months old baby

mera baby green poti kr rha h pls help me

सवाल
हैलो डियर---स्तनपान करते समय शुरुआती 6 महीने में बच्चों के पार्टी का रंग सरसों के पेस्ट के समान पीला दूध जैसा फटा काले रंग का चिपचिपा या फिर हरा रंग का हो सकता है। इसमें घबराने वाली कोई बात नहीं ऐसा बच्चे की पॉटी इसलिए होता है क्योंकि बच्चे मां के दूध पर निर्भर होते हैं।और उन्हे गैस बनने कि समस्या होती हैइससे बचने के लिये जो स्तनो में पहला पतला दूध आता हैउसे निकाल देने के बाद स्तनपान करवाना चाहीये क्योंकी इससे बच्चे को परेशानी होती है।इसके लिये स्तनपान के बाद बच्चे को डकार जरूर दीलवाना चाहीये।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera bacha green poti kr rha h plz mujhe btaye kyu ho rha h
उत्तर: छोटे बच्चों के साथ ऐसा बहुत ही नॉर्मल है. 6 महीने तक आप उनकी पार्टी के रंग में परिवर्तन देखेंगे इससे आप परेशान ना हो| नवजात में पॉटी के रंग में बदलाव का कारण लैक्टोज होता है, क्योंकि, इस समय शिशु का शरीर दूध से मिलने wale लैक्टोज (दुग्ध शर्करा) को अच्छे से पचा नहीं pata. जिस कारण उसके पेट में सामान्य से अधिक गैस और पानी तैयार होने लगता है, जो हरे या काले रंग के पॉटी के रूप में सामने आता है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mara beta green poti kr rha h mai kya kru
उत्तर: सुरुवाती में बच्चे को लेकर बहुत टेंशन होता है हर माँ को लेकिन इसमें डरने वाली कोई बात नहीं है बाछे का porty आपके खाने के ऊपर और उसका digestiveसिस्टम पर निर्भर रहता है अगर वो दिन में ६-७बार कर रहा haiतो नार्मल है और सुरुवाती माँ बच्चे के पोर्टय का रंग हरा पीला या बुरा हो तो सबीनॉर्मल है लेकिन पॉटी सफ़ेद या फिर कला हो रहा है तो नार्मल नहीं है आप तुरंत डॉक्टर'स को बताये
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera bachha kl se baar baar green poti kr raha h pls help i m very worried pls suggest any home remedies।।।
उत्तर: ग्रीन कलर की potty का मतलब होता है आपके बेबी को cuff है .. उन्हें हाल hi में सर्दी खासी हुई होगी ..cuff जो बेबी बहार नही निकाल पते to gatak lete हैं जो पेट से पचते हुए potty के dwara बहार निकल jata है . आप बच्चे को भाप dilaye जिससे उनके सीने मि cuff नही jamegi .. और पेट से होते हुए पती से निकल जायेगी ऐगर यह samsya jyada लम्बी चल रही है बार बार दस्त jese हरी potty होरी है तो ये किसी प्रकरण का इन्फेक्शन भि हो सकता है जिसके लाइए आपको डॉक्टर से मिल्क सलाह लेनी चाहिए जरुरत pade टु वो आपको स्टूल टेस्ट मतलब potty टेस्ट भी कराने बोल सकते हैं .. आप अपना दूध अच्छे से पिलाते रहिए ...हम छोटे बच्चों को ऊपर से कुछ भी नहीं दे सकते उन्हें सिर्फ आप अपना दूध पिलाते रहिए। हर 2 घंटे में बच्चे को दूध पिलाने की कोशिश कीजिए जिससे उनकी बॉडी डी हाइड्रेट नहीं होंगी और डकार जरूर दिलाते रहिए। बार बार पॉटी होने की वजह किसी प्रकार का इंफेक्शन हो सकता है इसलिए आप उन्हें जल्द से जल्द डॉक्टर के पास लेकर जाइए इससे डॉक्टर उन्हें देखकर आपको बेहतर सलाह देंगे
»सभी उत्तरों को पढ़ें