8 महीने का बच्चा

Question: mera baby 7month 20 day ka h wo jaldi kuch khata ni h kya kru

1 Answers
सवाल
Answer: मेरा बेटा 6मई को हुआ है ! मै उसे गाय का ढुध दे रही हूँ उससे उसे कब्ज़ हो रही है . और बो सातबे महिने मे हुआ है .. कब्ज़ के लिए क्या किया जाये ....
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera beta 7month ka h lekin wo kuch khata ni h or or wait bi bhot km h. me ky kru pls kuch btao
उत्तर: बच्चे के पोषण और विकास के लिए आपका चिंतित होना लाजमी है ऐसे में कुछ खाद्य पदार्थों का यूज करके आप अपने बच्चे का वजन बढ़ा सकते हैं बच्चे को आलू वजन बढ़ाने के लिए उपयोगी होते हैं यह कार्बोहाइड्रेट ऊर्जा का अच्छा स्रोत है शकरकंद फाइबर पोटेशियम विटामिन से भरपूर होते हैं इन्हें खाने से वजन भी बढ़ता है बच्चे को दूध में मिक्स करके दिया जा सकता है केला एनर्जी का बेहतरीन स्रोत है दूध में मैच करके इसे दें दाल में प्रोटीन होता है दाल का पानी बच्चों को अवश्य पिलाना चाहिए बच्चे को थोड़ी थोड़ी देर में कुछ ना कुछ खिलाते रहे इससे उसकी खाने की आदत में सुधार होगा बच्चे को खेल-खेल में भी खिलाएं उसका खाने के प्रति ध्यान आकर्षित करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mera bachha 3+ saal ka h wo thik se kuch b ni khata or bhut week bhi h kya kru??
उत्तर: हेलो डियर रियली आप का 3 साल का बेबी बहुत वीक है तो आपको उसे केले खिलाने चाहिए ड्राई फ्रूट के पाउडर बनाकर दूध में मिलाकर पीना नहीं चाहिए हरी सब्जियां खिलानी चाहिए एप्पल मिल्क शेक पिलाना चाहिए बनाना मिल्क शेक पिलाना चाहिए खजूर खिलाने चाहिए दलिया खिलाना चाहिए इससे बेबी का वजन अच्छे से बढ़ेगा यह अच्छे से खाना नहीं खा रहा है तो बेबी को खेलते वक्त खाना खिलाना चाहिए क्योंकि खेलने वक्त बेबी अच्छे से खाना खाते हैं अपना और बेबी का ख्याल रखना
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera baby 9 mhine ka h pr wo kuch nhi khata mein kya kru
उत्तर: हल्की बीमारियों से बच्चों का शरीर ठीक तो हो जाता है लेकिन उनके पाचन तंत्र को फिर से दुरुस्त होने में थोड़ा समय लगता है  शरीर में जिंक (zinc) के स्तर का कम होना जिन्हें भूख नहीं लगता है या फिर भूख कम लगता है उनके शरीर में जिंक की कमी भी पाई गई है।   जिंक (zinc)  शरीर में एक बहुत ही महत्वपूर्ण काम करता है।  शरीर इस एसिड का इस्तेमाल करता है आहार को ठीक तरह से पचाने के लिए।  शिशु को ऐसे  आहार प्रदान करने से  जो जिंक (zinc) के अच्छे स्रोत हैं,  शिशु की भूख को बढ़ाया जा सकता है।  वह आहार जो जिंक (zinc)  अच्छे स्रोत हैं,  वह यह है -  गेहूं का चोकर,  काजू,  कद्दू का बीज और चिकन। दो आहारों के बीच उचित समय का अंतराल दो आहारों के बीच कम से कम 3 से 4 घंटे का समय अंतराल होना चाहिए।  3 घंटे से पहले अगर आप अपने शिशु को दूसरा आहार देने की कोशिश करेंगे तो वह बे मन से खाएगा।   क्योंकि उसका पेट पहले आहार से भरा हुआ है और अभी उसे भूख नहीं लगी है।  अगर आप शिशु को जबरदस्ती खिलाने की कोशिश करेंगे तो उसका शरीर आहार को ठीक से पचा नहीं सकेगा और फिर शिशु को बहुत देर तक भूख नहीं लगेगी।   संपूर्ण आहार (Whole grains) की वजह से भूख नहीं लगना संपूर्ण आहार (Whole grains) की वजह से भी शिशु को बहुत देर तक भूख नहीं लग सकती है।  ऐसा इसलिए क्योंकि संपूर्ण आहार में फाइबर होता है -  और फाइबर को पचाने के लिए शरीर को समय लगता है।  बहुत ज्यादा दूध या दूध उत्पाद गाय का दूध और दूध पाउडर, दोनों,  शिशु के भूख को कम कर देते है।   इसीलिए कोशिश करें कि बच्चों को दिन भर में दो से तीन बार से ज्यादा दूध ना दिया जाए।  अगर आप का शिशु ठोस आहार ग्रहण करने लगा है,  तो  ठोस आहार पर ज्यादा ध्यान दें। शिशु का भूख बढ़ाने का  घरेलू नुस्खा  यहां हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे आहार, जो आपके शिशु की भूख को बढ़ाने में मदद करेंगे।  अजवाइन अजवाइन बच्चों का भूख बढ़ाने का जाना-माना दवा है।  यह बच्चों के पेट में गैस की समस्या को भी दूर करता है।   बच्चों के लिए यह इतना सुरक्षित है कि आप इसे 6 महीने के बच्चे को भी दे सकते हैं -  लेकिन अजवाइन के पानी के रूप में।   अगर आपका शिशु ठोस आहार ग्रहण करने लगा है तो आहार तैयार करते वक्त,  जैसे पराठा बनाते वक्त आप उसमें अजवायन की थोड़ी मात्रा मिला सकती हैं।  अजवाइन शिशु को सर्दी और जुकाम से भी बचाता है। हींग  बच्चों को गैस की समस्या से बचाने का एक कारगर इलाज है।  बच्चों के लिए जब भी आप भोजन तैयार करें उसमें हिंग की थोड़ी सी मात्रा मिला दे।   तुलसी  तुलसी आहार को पचाने में मदद करता है और बच्चों के भूख को बढ़ाता है।  8  महीने से बड़े उम्र के बच्चे को आप उसके आहार में तुलसी दे सकती हैं।  दालचीनी  दालचीनी सभी उम्र के लोगों के लिए भूख बढ़ाने की अचूक दवा है।  6 महीने से बड़े बच्चों को आप उनके आहार में दालचीनी देना शुरू कर सकती हैं।  च्यवनप्राश च्यवनप्राश सदियों से आजमाया हुआ एक बेहतरीन दवा है बच्चों और बड़ों के भूख को बढ़ाने का।  यह भूख बढ़ाने के साथ-साथ आहार को पचाने में भी मदद करता है।   6 साल से बड़ी उम्र के बच्चों को आप चमनपरास सुरक्षित रूप से दे सकती हैं।  हल्दी शिशु के आहार में जैसे खिचड़ी या दाल में हल्दी मिलाकर खिलाने से शिशु को कई प्रकार के फायदे पहुंचते हैं।   यह शिशु के पेट में कीड़ों को पनपने नहीं देता है,  अपच की समस्या को खत्म करता है,  भूख को बढ़ाता है और शिशु के शारीरिक ताकत को भी बढ़ाता है।   हल्दी को आप शिशु के 6 महीने होते ही देना प्रारंभ कर सकती हैं।  अदरक अदरक  2 साल से बड़े बच्चों के लिए भूख बढ़ाने के लिए बहुत कारगर है।  बच्चों को आप अदरक कई प्रकार से दे सकती हैं उदाहरण के लिए आप उनके बटरमिल्क में या छाज में मिलाकर दे सकती है।   कोशिश करें कि ऐसे आहार जिनमें आप अदरक मिलाएं शिशु को दोपहर तक दे दें। दोपहर के बाद बनने वाले आहार में अदरक ना मिलाएं। मूंगफली मूंगफली में जिंक होता है।  भूख बढ़ाने में मदद करता है।    लेकिन 1 साल से छोटे बच्चों को मूंगफली खाने के लिए नहीं दें।  मूंगफली में कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो 1 साल से छोटे बच्चों में एलर्जी की प्रतिक्रिया शुरू कर सकते हैं।   गाजर का जूस छोटे बच्चों के लिए गाजर बहुत फायदेमंद है।  3 महीने के बच्चों को या उससे बड़े बच्चों को गाजर के छोटे-छोटे टुकड़े चबाने के लिए दे सकती हैं।   खाने से आधा घंटा पहले बच्चों को  आधा कप गाजर का जूस देने से उनका भूख जाग जाता है दही दही के अत्यधिक सेवन से बच्चों का भूख खत्म हो सकता है।  लेकिन उन्हें इसकी थोड़ी मात्रा देने से उनके भूख में बढ़ोतरी होती है अगर आप बच्चों को दही दे रही हैं तो उन्हें कुछ घंटों के लिए दूध ना दे।  दही 8 से 9 महीने से बड़े बच्चों को देना सुरक्षित है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hi everyone mera beta 7month 14di ka h wo kuchh khata pita ni h bot rota h khane me kya kru
उत्तर: आप यह जानने की कोशिश किजिय की उन्हें khane में ज़्यादा क्या पसन्द है फ़िर उसी itom में helthy चीज़ें मिलाकर उन्हें दिजिय .. जेसे अगर उन्हें paraathe पसन्द है तो उसमें कभी कोई सब्ज़ी कभी पनीर कभी सत्तू kabhi alu gobhi . ये सब डाल कर उन्हें खिलाने की कोशिश किजिय... Upma पसंद ही तो आप उसमें सब्जिआ मिलकर बना कर उन्हें खिलाए Aap उनकी फीजिकल ऍक्टिविटी थोड़ी badha दे . . उनको पार्क लेकर जायें उनके साथ खेलें .. जिससे उन्हें भूक ज़्यादा लगेगी और वो खुद खाना खेएंगे . बच्चों को खाना डेकोरेटिव बहुत पसंद आता है, इसलिए आप खाने को थोड़ा सजा कर उनके सामने दीजिए। बच्चों को ऐसा खाना बनाकर दीजिए जिस को वह अपने हाथों से पकड़कर उठाकर आसानी से खा सकते हैं। Aap बाजार से बच्चों के लिए डेकोरेटिव प्लेट्स भी ले सकती जिसमें कार्टून बने हुए रहते हैं इससे भी बच्चे थोड़ा खाना खाने के लिए ज्यादा अट्रैक्ट होंगे।.
»सभी उत्तरों को पढ़ें