16 महीने का बच्चा

Question: mera baby bhut weak h usko healthy banane k liye kya khilau abi 14 mnths ka h

1 Answers
सवाल
Answer: आप बच्चे के खाने में यह सब इंक्लूड करें बच्चे का वेट बढ़ेगा बच्चे के खाने में आलू ,banana इंक्लूड करें अगर बच्चे यह नहीं खाता है तब आप बच्चे के लिए उसकी पसंद के अनुसार कस्टर्ड बना सकते हैं जिसमें आप मलाई वाला दूध ले फुल फैट मिल्क ले साथ में उस में ड्राई फ्रूट्स डालें और कुछ फल फ्रूट जैसे कि केला ,एप्पल डालें और खिलाएं इससे बच्चे का वेट पड़ेगा अगर नॉन वेजिटेरियन है तब आप बच्चे के खाने में अंडा चिकन यह सब include कर सकते हैं यह सभी बच्चे के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होगा आप बच्चे के खाने में दाल शामिल करें अगर बच्चा दाल नहीं खाता है तो आप दाल को आटे में मिक्स करके रोटी बना सकती हैं यह रोटी बच्चे ko khilaye अगर बच्चा दूध पीने से मना करता है तो आप आप कुछ दूध का पनीर बना सकते हैं उस पनीर के आप डिशेज बनाकर बच्चे को दे सकती हैं आप बच्चे के चावल दाल में थोड़ा घी डालें जिससे बच्चे का वजन बढ़ेगा बच्चों में सब्जियां खाने की भी आदत डालने, सब्जियों खाने से भी बच्चों का वजन बढ़ता है अगर बच्चे सब्जी नहीं खा रहे हैं तो आप सब्जियों का सूप भी बना सकते हैं ,सबसे ज़रूरी की आप बच्चे को खुली जगह पर या धूप में खेलने दे फिजिकल एक्टिविटी अच्छी होने से बच्चों में भूख बढ़ती है और बच्चे अच्छी तरह से खाते है जिससे बच्चों का वजन आसानी से बढ़ता है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera ladka 1 sal 1 mahine ka ho gaya hai uska weight 8 kg hai use healthy banane k liye kya khilau
उत्तर: बच्चे का वजन बढ़ाने के लिए आप बच्चे के भोजन में निम्नलिखित तत्वों को और शामिल करें जैसे कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन युक्त भोज्य पदार्थों का सेवन अधिक कराएं इसके लिए आप बच्चे को फुल क्रीम का दूध दही छाछ पनीर आदि दे। अंडा और दालों का सेवन कराये। केला,मौसमी फल,हरी सब्जियां,रागी,घी और फलों के ताजे जूस ,ड्राई फ्रुइट का पाउडर बना कर रख ले प्रतिदिन 1 चम्मच वो भी किसी खाने या दूध के साथ दे। इन सब के सेवन से आपके बच्चे का वजन अवश्य पड़ेगा और वह हेल्थी भी रहेगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: muje abi month chal rha h baby healthy hone k liye kya khana chaihiye
उत्तर: जब आप प्रेगनेंट होती हैं तब यह बहुत जरूरी है कि आप अपना आहार पौष्टिक है. इससे आपको और आपके होने वाले बच्चे को पौष्टिक तत्व मिलेंगे. प्रेग्नेंसी में कुछ अधिक कैलोरी की जरूरत होती है. प्रेगनेंसी में सही आहार का मतलब है -आप क्या खा रही हैं ?ना कि कितना खा रही हैं? जंक फूड का सेवन ज्यादा ना करें. isme कैलोरी ज्यादा है पोष्टिक तत्व कम या ना के बराबर होते हैं. फोलिक एसिड आपको 1 ट्रिमस्टर में ही चालू करदेना चहिये। फ़ोलिक एसिड का होने वाले बच्चे की ग्रोथ में बहुत बड़ा योगदान रहता है। फ़ोलिक एसिड विटामिन है ।विटमिन B 9। ये आपको खाने पिने में फॉलेट नाम से मिलेगा । बाबी के इस्पीनलकार्ड के चारो और पॉलिब पेरत को सही तरीके से बंद करता है।वाहा गप नहीं आने देता। मा के लिए भी बहुत जरुरी है ।विटमिन B 12 के साथ मिलकर हेअल्थी रेड सेल्स बाँटा है। folic acit ke liye ye khaye. ब्रोकली ऐस्पैरागस खट्टे फल हरी पत्तों वाली सब्जियां ओकरा फूलगोभी भुट्टा गाजर 1) दूध और डेयरी के ले सकती हैं. मलाई वाला दूध दही छाछ घर का पनीर इन सब में कैल्शियम प्रोटीन और विटामिन बी12 बहुत होता है. 2) सभी अनाज ,दालें . इन सब में प्रोटीन बहुत अच्छा होता है. 3) पेय पदार्थों में आप पानी bahut piyen.खास करके आप साफ पानी joki फ़िल्टर किया हुआ. ताजे फलों का रस ले. डिब्बाबंद juis nahi le. इसमें शक्कर की मात्रा बहुत ज्यादा होती है. 4) वसा और तेल . वेजिटेबल ऑयल का वसा एक अच्छा स्रोत है क्योंकि इसमें संतृप्त वसा अधिक होता है. इन सभी चीजों के साथ आप डॉक्टर की सलाह मानें .जो भी टेस्ट किए हैं दिए गए हैं उन्हें करवाएं समय पर. दवाइयां समय पर ले और नींद पूरी. खाना जो भी खाएं अच्छे से चबाकर खाएं. प्रेगनेंसी के समय मिल्क प्रोडक्ट calcium और प्रोटीन बहुत जरुरी होता है। डेयरी प्रोडक्ट प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए सबसे बेहतर होता है। जैसे अंडा, चीज, दूध, दही और पनीर मां और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद होता है। कैल्शियम भी पर्याप्त मात्रा में होती है जो फीटस के बोन टिशू के विकास के लिए आवश्यक होता है। प्रोटीन की मात्रा काम होने से बच्चे की ग्रोथ में बहुत अंतर आता है। प्रोटीन जरूरी पौशाक तत्वों में से है। बच्चे का विकास और एम्निओटिक टिशू का कार्य प्रोटीन पर निर्भर करता है। गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन की kaam मात्रा बच्चे के sahi विकास में बाधा पहुंचा सकती है और इससे शिशु का वजन भी कम हो सकता है। यह बच्चे के बढ़ते मस्तिष्क पर नकारात्मक प्रभाव भी डाल सकता है।  बस एक मुट्ठी नट्स प्रोटीन की अपनी दैनिक आवश्यकताओं को पूरा कर सकता है। नट्स जैसे बादाम, मूंगफली, काजू, पिस्ता, अखरोट और नारियल में उच्च मात्रा में प्रोटीन की मात्रा होती है जो बच्चे के विकास के लिए जरूरी होता है। बीज जैसे कद्दू, तिल और सूरजमुखी में भी प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में होती है।  इनमें से कई ऐसे हैं जिनमें प्रोटीन की मात्रा बहुत अधिक होती है जैसे- मूंग, काले और फवा बिन्स, मसूर, मटर और चना. ओट्स में प्रोटीन बहुत उच्च मात्रा में पाई जाती है .
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mere bete k daat aarahe h wo bhut preshan h m kya du usko wo abi 5.5 डेज ka h
उत्तर: हेलो डियर आप बार बार बेबी ke हाथ साफ करते रहें kyunki दांत निकलने के time बच्चों को दांत में खुजली होती है जिस से अपनी उंगली मुँह में daalte हैं और हाथ अगर साफ ना हो तो सारे germs पेट में जा कर gadbad कर देते हैं फिर बच्चे को potty होने लग जाती हैं प्लास्टिक या रबर के टीथर की बजाय अगर नैचुरल टीथर का प्रयोग करें तो ये आपके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा रहेगा। नैचुरल टीथर में गाजर, मूली या फिर चुकंदर का छोटा टुकड़ा रखकर आप अपने बच्चे को चबाने के लिए दे सकते हैं। आप अपने बच्चे के मसूड़े की भी मसाज कर सकते हैं। अपनी उंगली से बच्चों के मसूड़े को हल्का-हल्का दबाने पर भी बहुत राहत मिलती है बच्चे के pass ज़्यादा रहें ब्रेअस्त्फीद ज़्यादा दें
»सभी उत्तरों को पढ़ें