33 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mera baby bht week h kya kru i m 8 month pregnent

1 Answers
सवाल
Answer: hello dear बेबी का वेट बढाने के लिए आप निम्न आहार ले सकती है- •मॉर्निंग मैं डॉयफ्रुइट्स पाउडर या फिर नार्मल डॉयफ्रुइट्स के साथ मिल्क लीजिये। •२-३गिलासमिल्क लीजिये •दही लीजिये •पनीर लीजिये •दाल, स्प्रौट्स,सोयाबीन •मोम्स प्रोटीन X लीजिये •फ्रूट्स बानाना एपल्स मैंगोज वाटरमैलोन्स ये सब लीजिये। •ग्रीन वेजटेबल्स ज़्यादा से ज़्यादा खाए •नॉन वेजीटेरियन हैं तो मीट एग्स चिकन ये सब लीजिये। ज़्यादा से ज़्यादा पानी ले, कोकोनट वाटर,फ्रेश फ्रूट जूस लीजिये। हर २घण्टे बाद कुछ कुछ कहते रहिये ।बहुत जल्दी बेबी का वेट और ग्रोथ बढ़ने लगेगी ।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: dr mera 8 month chl ra h baby bht chota h kya kru
उत्तर: यह खाद्य सूची जो आपके अजन्मे बच्चे के लिए भ्रूण वृद्धि में मदद कर सकती है। दूध-प्रति दिन 200-500 मिलीलीटर का न्यूनतम सेवन, भ्रूण भार पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। कैल्शियम का अच्छा स्रोत; आपके बच्चे के लिए एक पोषक तत्व उतना ही महत्वपूर्ण है। दही (दही)।  कॉटेज पनीर (पनीर) या पनीर  दालें- हम कुछ सब्जियों को दाल में जोड़ सकते हैं। बोतल गोरड / टोरी / पालक / चुलाई की तरह। इस तरह का एक संयोजन लौह और प्रोटीन आवश्यकताओं दोनों का ख्याल रख सकता है स्प्राउट्स-ब्लैक चाना / मुंग / लोबिया स्प्राउट्स भी शामिल किए जा सकते हैं क्योंकि वे न केवल प्रोटीन प्रदान करते हैं बल्कि ये लोहा में समृद्ध होते हैं। सोयाबीन मटर, बीन्स- यह आपको प्रोटीन, बी कॉम्प्लेक्स विटामिन, फोलिक एसिड और आयरन, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, पोटेशियम और कॉपर जैसे खनिज प्रदान करेगा। चिकन-चिकन / कम वसा वाली मछली जैसे दुबले मांस शामिल हैं।  अंडे- एक शाकाहारी मां के लिए मांस खाने के बजाय प्रोटीन के समान रूप से अच्छे स्रोत के लिए एक और विकल्प अंडा है। अंडे विशेष रूप से अच्छी गुणवत्ता वाले प्रोटीन और विटामिन ए, डी और लौह जैसे खनिजों का स्रोत हैं। हरे पत्ते वाली सब्जियां - सरसन, चुलाई, बाथुआ, चना साग, फूलगोभी, काले, पत्तियां लोहा में समृद्ध हैं। पालक- पालक फोलिक एसिड का भी अच्छा स्रोत है। भ्रूण के मस्तिष्क के विकास के लिए फोलिक एसिड महत्वपूर्ण है  गाजर, मीठे आलू कद्दू- ये आपके आहार में शामिल होने के लिए सब्जियों का एक और सेट हैं।  खट्टे फल - विशेष रूप से नारंगी विटामिन सी और फोलिक एसिड और आहार फाइबर में समृद्ध है, जो गर्भावस्था में सामान्य कब्ज से बचने में मदद करता है।  नट - बादाम जैसे मूंगफली, मूंगफली भी आपके आहार में जोड़ दी जा सकती है।  दलिया, ब्राउन चावल, मिलेट को गर्भवती महिलाओं के आहार में परिष्कृत अनाज को प्रतिस्थापित करना चाहिए। पूरक - लौह, फोलिक एसिड पूरक शिशु के जन्म भार भी बढ़ा सकता है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hi me 7 week pregnent mother hu mujhe khasi bht aa rahi h kya kru
उत्तर: हाइ मेम प्रेगनेंसी के दौरान ऐसा इसलिए होता है क्योकि इस समय महिलाओ के शरीर में बहुत सारे बदलाव होते है और इसी वजह से भी इम्युनिटी सिस्टम मे भी बदलाव होते है। ये बदलाव कोई न कोई परेशानी का कारण बनता है। इस अवस्था में जितना हो सके घरेलु उपायों से ही खांसी क इलाज करना चाहिए। खाँसी के दौरान गले में न केवल खराश होती है, बल्कि इससे सूजन की समस्या भी उत्पन्न हो जाती है। ऐसे में, इन समस्या से राहत पाने के लिए आप गर्म पानी में १ टी स्पून शहद और नींब कुछ ड्रॉप अदरक का रस मिलाकर पिये, इससे आपको तुरंत राहत मिलेगी। जुकाम के दौरान आप कोशिश करें कि गुनगुने पानी का सेवन करें, क्योंकि यह संक्रमण को रोकने का काम करता है, इसके अलावा नमक के पानी के गरारे भी आपके लिए उपयुक्त होते हैं। फिर भी अगर राहत ना हो तो आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा 8 month chal raha h mera baby ulta h . m kya kru plz
उत्तर: hello डियर """मैं आपकी परेशानी समझ सकती हूं बच्चे का गर्भ में उल्टा होना एक ऐसी पोजीशन है जिसने की बेबी का सिर ऊपर की और हो जाता है इस पोजीशन को ब्रीच पोजीशन कहते हैं बेबी गर्भ के अंदर लगातार मूवमेंट करते रहते हैं इसके कारण पोजीशन चेंज होने की भी संभावना हो सकती है ब्रिज पोजीशन में आप लगातार डॉक्टर के संपर्क में रहें और डॉक्टर द्वारा बताए गए तरीके यह एक्सरसाइज को आप जारी रखें अपने आप को बिल्कुल पॉजिटिव रखें क्योंकि बेबी मूवमेंट से पोजीशन से बाहर आने की संभावना भी हो सकती हैं किसी भी प्रकार का स्ट्रेस लेने से आपके बीपी बढ़ने की संभावना हो सकती है संतुलित आहार, 10 से 12 गिलास पानी और हल्का व्यायाम करें | टेक केयर
»सभी उत्तरों को पढ़ें