21 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mera 5th month shuru ho gya h meri doctor ne bola k baby ki growth 5th mnth k hisab se kam h.. baby ki ग्रोथ sahi se ho iske liye kya kru??? m khana bhi sahi se khati hu.

1 Answers
सवाल
Answer: आप प्रोटीन वाली खुराक ज्यादा ले. जैसे दूध दही घी मक्कन चीज़ पनीर अंडे डॉयफ्रुइट्स ब्रोकली सभी प्रकार की दाल वगरे. फ्रेश फ्रूट खाये और फ़्रुइ जूस पिए. दूध दिन में कम से कम दो बार ले. नारियल पानी ज्यादा ले.
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मैम आज डॉक्टर ने बोला ह की पानी कम ह ....तो मैं इसके लिए क्या करूं
उत्तर: आप पानी ज़्यादा पिया करें .... लिक्विड्स ज़्यादा ले ..कोकोनट वाटर पिए.... आप खीरा,पालक,मूली,टमाटर,फूलगोभी,ब्रोक्कोली, लेटिष खरबूजे तरबूज़, स्ट्रॉबेरीज खाए.....
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी दही बहुत खाती है 14 महीने की है सही खाना सही है उसके लिए
उत्तर: हेलो डियर आपकी बेबी दही खाते है ं तो ऐसे में कि सी तरह की को ई परेशानी नहीं है क्योंकि बच्चों के लिए दूध और दही बहुत ही अच्छा होता है दही खाने से बेबी की पाचन क्रिया बहुत ही अच्छी रहेगी शरीर को ठंडक भी मिलती है दही में भरपूर मात्रा में कैल्शियम होता है जो कि बेबी के हड्डियों के विकास में बहुत ही अच्छा होता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: doctor ne baby ki growth km btai hkya kru bhut tension ho rhi h growth km se kya meaning h baby k body parts to thik honge na growth k liye kya khana chahiye
उत्तर: हेलो डियर मैं आपकी समस्या समझ सकती हूं. ऐसी चिंताएं प्रेग्नेंसी में बहुत होती हैं. लेकिन आप इस समय चिंताओं में रहेंगे तो वह आपके लिए अच्छा नहीं है .आप आराम से रहें .पौष्टिक आहार ले नींद पूरी aren.पानी खूब पिएं .डॉक्टर की पूरी सलाh maane. दी हुई दवाइयां समय par ले. अच्छा सोचो अच्छा ही होगा... जब आप प्रेगनेंट होती हैं तब यह बहुत जरूरी है कि आप जब आप प्रेगनेंट होती हैं तब यह बहुत जरूरी है कि आप अपना आहार पौष्टिक है. इससे आपको और आपके होने वाले बच्चे को पौष्टिक तत्व मिलेंगे. प्रेग्नेंसी में कुछ अधिक कैलोरी की जरूरत होती है. प्रेगनेंसी में सही आहार का मतलब है -आप क्या खा रही हैं ?ना कि कितना खा रही हैं? जंक फूड का सेवन ज्यादा ना करें. isme कैलोरी ज्यादा है पोष्टिक तत्व कम या ना के बराबर होते हैं. फोलिक एसिड आपको 1 ट्रिमस्टर में ही चालू करदेना चहिये। फ़ोलिक एसिड का होने वाले बच्चे की ग्रोथ में बहुत बड़ा योगदान रहता है। फ़ोलिक एसिड विटामिन है ।विटमिन B 9। ये आपको खाने पिने में फॉलेट नाम से मिलेगा । बाबी के इस्पीनलकार्ड के चारो और पॉलिब पेरत को सही तरीके से बंद करता है।वाहा गप नहीं आने देता। मा के लिए भी बहुत जरुरी है ।विटमिन B 12 के साथ मिलकर हेअल्थी रेड सेल्स बाँटा है। folic acit ke liye ye khaye. ब्रोकली ऐस्पैरागस खट्टे फल हरी पत्तों वाली सब्जियां ओकरा फूलगोभी भुट्टा गाजर 1) दूध और डेयरी के ले सकती हैं. मलाई वाला दूध दही छाछ घर का पनीर इन सब में कैल्शियम प्रोटीन और विटामिन बी12 बहुत होता है. 2) सभी अनाज ,दालें . इन सब में प्रोटीन बहुत अच्छा होता है. 3) पेय पदार्थों में आप पानी bahut piyen.खास करके आप साफ पानी joki फ़िल्टर किया हुआ. ताजे फलों का रस ले. डिब्बाबंद juis nahi le. इसमें शक्कर की मात्रा बहुत ज्यादा होती है. 4) वसा और तेल . वेजिटेबल ऑयल का वसा एक अच्छा स्रोत है क्योंकि इसमें संतृप्त वसा अधिक होता है. इन सभी चीजों के साथ आप डॉक्टर की सलाह मानें .जो भी टेस्ट किए हैं दिए गए हैं उन्हें करवाएं समय पर. दवाइयां समय पर ले और नींद पूरी. खाना जो भी खाएं अच्छे से चबाकर खाएं. प्रेगनेंसी के समय मिल्क प्रोडक्ट calcium और प्रोटीन बहुत जरुरी होता है। डेयरी प्रोडक्ट प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए सबसे बेहतर होता है। जैसे अंडा, चीज, दूध, दही और पनीर मां और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद होता है। कैल्शियम भी पर्याप्त मात्रा में होती है जो फीटस के बोन टिशू के विकास के लिए आवश्यक होता है। प्रोटीन की मात्रा काम होने से बच्चे की ग्रोथ में बहुत अंतर आता है। प्रोटीन जरूरी पौशाक तत्वों में से है। बच्चे का विकास और एम्निओटिक टिशू का कार्य प्रोटीन पर निर्भर करता है। गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन की kaam मात्रा बच्चे के sahi विकास में बाधा पहुंचा सकती है और इससे शिशु का वजन भी कम हो सकता है। यह बच्चे के बढ़ते मस्तिष्क पर नकारात्मक प्रभाव भी डाल सकता है।  बस एक मुट्ठी नट्स प्रोटीन की अपनी दैनिक आवश्यकताओं को पूरा कर सकता है। नट्स जैसे बादाम, मूंगफली, काजू, पिस्ता, अखरोट और नारियल में उच्च मात्रा में प्रोटीन की मात्रा होती है जो बच्चे के विकास के लिए जरूरी होता है। बीज जैसे कद्दू, तिल और सूरजमुखी में भी प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में होती है।  इनमें से कई ऐसे हैं जिनमें प्रोटीन की मात्रा बहुत अधिक होती है जैसे- मूंग, काले और फवा बिन्स, मसूर, मटर और चना. ओट्स में प्रोटीन बहुत उच्च मात्रा में पाई जाती है .
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी 15 महीने की है वो खाना नहीं खाती बहुत कम खाती है और कमजोर भी बड़ी है एम क्या करूँ उसके लिए
उत्तर: बच्चे को खा ना ा ा खिलाने के लिए उनकी मनपसन्द शेप, या खाने के उपर कि सी प्रका र का डिजाइन या डिफरेंट डिजाइन के बाउल में खाना परोस सकती हैँ। इससे यकीनन बच्चे खाने की तरफ आकर ्षित होंगे। बच्चे के लिए खाना बनाते समय एक बार में दो से ज्यादा टेस्ट मिक्स न करेँ। आप अपने बच्चे की ईटिंग हैबिट्स को ध्यान में रखकर एक बार में मीठा और चरपरा या मीठा और नमकीन टेस्ट सर्व कर सकती हैँ। बच्चे को दिन में तीन बार खाने की आदत जरूर डालें। उसके खाने में हैल्दी स्नैक्स जरूर दें ं। जब बच्चा दिन में तीन बार खाना शुरू करेंगा तो यही ं उसकी आदत बन जाएगी और उसे भूख भी अधिक लगेगी।  बच्चे हर बार एक ही तरह का खाना खाकर ऊब जाते हैं इसलिए हमेशा उनके खाने में बदलाव करते रहे लेकिन ध्यान रखें कि खाना स्वादिष्ट होने के साथ -साथ पोषक तत्वों की भरपूर मात्रा भी होनी चाहिए । बच्चों को कभी भी एक-साथ ज्यादा खाना न दें। उन्हें पहले खाने की थोड़ी मात्रा दें। ऐसा करने से उनकी भूख भी बढ़ेगी और वह खाने से बोर भी नहीं होगे बच्चे को जब भूख लगे, तभी उसे खाना खिलाएं। इसके अलावा अगर भूध लगने पर खाना नहीं खाता तो उसे फल, हैल्दी सूप, जूस खाने को दे बच्चों को पहले ही उतना खाने को दो, जितना वह खा सकें। जबरदस्ती खूब सारा ना खिलाएं  
»सभी उत्तरों को पढ़ें