32 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: heloo...mera 8 मंथ chal raha h ... kya me kesar vala दूध pi sakti हु ?

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो हाँ आप केसर वाला मिल्क पी सकती है इसका यूज़ सिमित मात्रा में करे केसर की 2 से 3 रेशे ही मिल्क में पर्याप्त है इसका अधिक सेवन करने से गर्भवती महिला और उसके बच्चे को नुकसान भी हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान शरीर में हार्मोन में बदलाव आने की वजह से उन्हें हैवी फूड नहीं पच पाता जिस वजह से अक्सर महिलाओं का पेट खराब रहता है। ऐसे में केसर वाला दूध पीने से पाचन मजबूत होती है प्रैग्नेंसी के दौरान महिलाओं को तनाव की वजह से ब्लड प्रेशर की समस्या हो जाता है। केसर दूध का सेवन करने से ब्लड प्रेशर संतुलित रहता है l
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: Mera 8 month chal raha hai kya me kesar vala dudh pi sakti hu
उत्तर: हेलो डियर आप केसर दूध पी सकती है इसके काई फ़ायदे होते है प्रेग्नेन्सी में जैस की इसके उपयोग से बेबी गोरा होता है ऑर प्रेगनेट लेडीज का बॉडी स्वस्थ रह्ता है आँखों की प्रॉब्लम भि दूर होती है जैस की नीन्द पुरी ना होने के वज्ह से आँखों में जो तनाव दिखता है लाल ऑर सुजन आ जाती है वो सब प्रॉब्लम नही होती केसर के उपयोग से प्रेग्नेन्सी में पाचन क्रिया की बहुत प्रॉब्लम होती है जैसे की पेट में दर्द होना खाना ना पचना गेस की प्रॉब्लम इन सब में आराम मिलता है इसके सेवन से बी.पी. भि नॉर्मल रहता है आप एक दिन में दूध के साथ 4 केसर के रेसे ले सकती है इस्से जादा दिन भर में उपयोग ना करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Hi.mam mera 13 week chal raha hai kya me kesar vala dudh pi sakti hu.aur kab pi sakti hu.
उत्तर: गर्भावस्था केसर दूध कब लें----केसर के फायदे अनेक हैं ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है पाचन तंत्र मजबुत बनाता है बच्चे की त्वचा सुंदर होता है।और गर्भवती महिलाएं 6वें महीने के बाद केसर लेना शुरु कर सकती है। गर्भावस्था केसर के सेवन का उपयुक्त समय है  इसको सुबह शाम गर्म दूध के साथ लिया जाना चाहिये। एक ग्लास दूध में एक चुटकी केसर काफ़ी होती है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mera 8 week chal raha he kya me anjir vala dudh pi sakti hu?
उत्तर: hello dear आप अन्जीर खा सकती है।अंजीर को दूध में उबालकर आपको खाना चाहिए। इससे गर्भावस्था में शरीर में लौह तत्व की कमी दूर होती है। लेकिन ध्यान रखे अन्जीर का सेवन्ं उचित मात्रा मे ही करे।इसका प्रोयोग 2 त्रीमीस्तेर में करना ज़्यादा अच्छा होता है ।क्यूकी ये बहुत गरम होती है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें