8 months old baby

Question: mare baby ko kabaj huwa क्या karu jise

1 Answers
सवाल
Answer: आप उसके लिए बेबी को पपीता पैर प्रून अनार जैसे फ्रूट ज्यादा खिलाये. थोड़े दिन के लिए केला और सफरजन न दे. उससे स्टूल हार्ड होता है. उसे किशमिश खिलाये. किशमिश रात को पानी में भिगोकर उसे वो भी खिला सकते हो. ये सब से उसको स्टूल ठीक से होगा.
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: Mare to 1 said feeding kam aata he... To kya karu... Jise milk batha sake
उत्तर: मेथी मेथी की चाय नई मांओं को दिया जाने वाला एक लोकप्रिय पेय है। मेथी वैसे भी कई व्यंजनों में डाली जा सकती है, विशेषकर सब्जियों और मांस के व्यंजनों में। इसे आटे में मिलाकर परांठे, पूरी या भरवां रोटी भी बनाई जा सकती है। मेथी, पौधों के उसी वर्ग से संबंध रखती है, जिसमें मूंगफली, छोले और सोयाबीन के पौधे भी शामिल हैं। इसलिए, अगर आपको इनमें से किसी के भी प्रति एलर्जी है, तो आपको मेथी से भी एलर्जी हो सकती है। सौंफ सौंफ भी स्तन दूध की आपूर्ति बढ़ाने का एक अन्य पारंपरिक उपाय है। शिशु को गैस और पेट दर्द की परेशानी से बचाने के लिए भी नई माँ को सौंफ दी जाती है। इसके पीछे तर्क यह है कि पेट में गड़बड़ या पाचन में सहायता के लिए वयस्क लोग सौंफ का इस्तेमाल करते हैं, इसलिए स्तनदूध के जरिये सौंफ के फायदे शिशु तक पहुंचाने के लिए यह नई माँ को दी जाती है। हालांकि, इन दोनों धारणाओं के समर्थन के लिए कोई शोध उपलब्ध नहीं है, मगर बहुत सी माताएं मानती हैं कि सौंफ से उन्हें या उनके शिशु को फायदा मिला है। सौंफ का पानी और सौंफ की चाय प्रसव के बाद एकांतवास के पारंपरिक पेय हैं। लहसुन लहसुन में बहुत से रोगनिवारक गुण पाए जाते हैं। यह प्रतिरक्षण प्रणाली को फायदा पहुंचाता है और दिल की बीमारियों से बचाता है। इसके साथ-साथ लहसुन स्तन दूध आपूर्ति को बढ़ाने में भी सहायक माना गया है। हालांकि, इस बात की प्रमाणिकता के लिए कोई ज्यादा शोध उपलब्ध नहीं है। अगर, आप बहुत ज्यादा लहसुन खाती हैं, तो यह आपके स्तनदूध के स्वाद और गंध को प्रभावित कर सकता है। एक छोटे अध्ययन में पाया गया कि जिन माताओं ने लहसुन खाया था, उनके शिशुओं ने ज्यादा लंबे समय तक स्तनपान किया। यानि कि हो सकता है शिशुओं को स्तन दूध में मौजूद लहसुन का स्वाद पसंद आए। हालांकि, यह अध्ययन काफी छोटे स्तर पर था और इससे कोई सार्थक परिणाम नहीं निकाले जा सकते। वहीं, कुछ माएं यह भी कहती हैं कि अगर वे ज्यादा लहसुन का सेवन करती हैं, तो उनके शिशुओं में पेट दर्द हो जाता है। लहसुन का दूध प्रसव के बाद स्तनपान कराने वाली मांओं को दिया जाने वाला एक लोकप्रिय पारंपरिक पेय है। हरी पत्तेदार सब्जियां हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक, मेथी, सरसों का साग और बथुआ आदि आयरन, कैल्श्यिम और फोलेट जैस खनिजों का बेहतरीन स्त्रोत हैं। इनमें बीटाकैरोटीन (विटामिन ए) का एक रूप और राइबोफ्लेविन जैसे विटामिन भी भरपूर मात्रा में होते हैं। इन्हें भी स्तन दूध बढ़ाने में सहायक माना जाता है। स्तनपान कराने वाली मांओं को प्रतिदिन एक या दो हिस्से हरी पत्तेदार सब्जियां खाने की सलाह दी जाती है। आप इन सब्जियों को मसालों के साथ पका सकती हैं या फिर थेपला, विभिन्न सब्जियां डालकर पोहा या इडली जैसे नाश्ते भी बना सकती हैं। जीरा दूध की आपूर्ति बढ़ाने के साथ-साथ माना जाता है कि जीरा पाचन क्रिया में सुधार और कब्ज, अम्लता (एसिडिटी) और पेट में फुलाव से राहत देता है। जीरा बहुत से भारतीय व्यंजनों का अभिन्न अंग है और यह कैल्शियम और राइबोफ्लेविन (एक बी विटामिन) का स्त्रोत है। आप जीरे को भूनकर उसे स्नैक्स, रायते और चटनी में डाल सकते हैं। आप इसे जीरे के पानी के रूप में भी पी सकती हैं
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: baby ko daant nikalne per kabaj ho rahi h kya karu
उत्तर: हेलो डिअर आपके बेबी को अगर कब्ज है ऐसे में पोट्टी teit होती है जिसकी वजह से पोट्टी करते समय ब्लड भी आ सकता हैं तो आप घर पर इस तरह से ठीक करने की कोशिश करे अपने बेबी की कब्ज होने पर पेट की हल्की मॉलिश तेल से क्लॉक वाइज और एंटी क्लॉक वाइज रोज करे और मॉलिश करने के बाद बेबी के पैरो को अच्छे से साइकिल की तरह चलाने की एक्सरसाइज कर दे इससे आपके बच्चे को आराम मिलेगा अपने बच्चे को ज्यादा से ज्यादा पानी पिलाये और पानी मे आप नमक चीनी भी डालकर पिला सकती है इसे कब्ज में आराम मिलेगा आप अपने बच्चे को आलूबुखारा को प्योरि बना कर दे इससे भी आराम मिलेगा और आप कोई भी फल जैसे सेब , लीची , किसमिस, रसभरी कुछ भी दे तो प्योरि बना कर खिलाये ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Baby ko kabaj hai kya du
उत्तर: हेलो आपका बेबी 10 महीने की है और बेबी को कब्ज़ है आप के बच्चे को बी कोमप्लेक्स की कमी हो सकती है आप कोई अच्छा बी कोमप्लेक्स डॉक्टर की सलाह ले कर ले जिसमें ज़िन्क हो तो और अच्छा ये आपके बच्चे का कब्ज़ ठीक करेगा और पाचन इम्प्रुव करेगा आप बच्चे को गुनगुना पानी पीने को दे .बच्चे को रोज गुनगुने पानी में शहद डालकर पीने को दें। इससे कब्ज की समस्या से राहत मिलती है बच्चे को पालक का सूप बना कर पिलाएं। यह सूप कब्ज में फायदेमंद है.कब्ज में अंजीर भी बहुत फायदेमंद होती है। बच्चा कब्ज से परेशान है तो टब में गुनगुना पानी भर कर इसमें बच्चे को 15-20 मिनट के लिए बिठाएं। अंजीर को रातभर पानी में भिगो दें और फिर सुबह-सुबह बच्चें को खाने के लिए दें।.आप बच्चे को मिल्क में थोड़ी मात्रा में इसबगोल की भुसि मिला कर भी दे सकती है बच्चे को फाइबर से भरपूर खाना दे साथ ही बच्चे को दही खाने में दे किशमिश को 3-4 दाने पानी में भिगो दें और बच्चे को इसका पानी पिलाएं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें