30 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mam mujhe right side sona acha lgta h mujhe kon si side sona chahiye mera 7th mnth chlrha h

1 Answers
सवाल
Answer: हेलों प्रेगनेंसी में आप जैसे सोने में कम्फर्टेबल हो वैसे सोएं लेकिन   कमर के बल पूरा जोर लगाकर सोना सही नहीं है। गर्भवती महिला को किसी एक ओर हल्‍की करवट से सोना चाहिए। इससे उसे किसी प्रकार की कोई समस्‍या नहीं hogi.हमारा हार्ट लेफ्ट साइड होता है ऐसे में बाएं ओर करवट लेकर सोना सबसे ज्‍यादा सही रहता है। इससे पेट पर भी ज्‍यादा जोर नहीं पड़ता, हार्ट बीट भी सही रहती है और ब्‍लड़प्रेशर भी कंट्रोल रहता है प्रेग्नेंसी के शुरुआती दिनों में अगर आप पीठ के बल सोती हैं तो चिंता की कोई बात नहीं है लेकिन जैसे-जैसे महीने बीतते जाते हैं वैसे-वैसे शरीर का अगला हिस्सा भारी होने लग जाता है. गर्भ बढ़ने के साथ ही पीठ पर भी बल पड़ने लगता है. जब गर्भवती महिला पीठ के बल लेटती है तो गर्भाशय का पूरा भार शरीर के दूसरे अंगों पर पड़ता है. इससे ब्लड सर्कुलेशन भी बिगड़ सकता है. आप जब भी सोएं लेफ्ट साइड कर के सोएं अगर आप सोते सोते राइट साइड करवट ले लेती है तो कोई प्रॉब्लम नही होगी
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera 7th chl rha j mujhe right side acha lgta h sb bolte h left side sona chahiye koi pro. to nhi h na
उत्तर: आपको जिस तरह से भी सोने मे आराम मिलें आप वैसे हि सोएं . कोई प्रॉब्लम नही होगी . ज़्यादा कोशिश करे लेफ्ट सोने का. प्रेग्नेंसी में आप जितना भी लेफ्ट करवट सो सके सोए. इससे आपको और आपके पेट मे पल रहे बच्चे को स्वस्थ बनाता है. लेफ्ट तरफ सोने से आपके और आपके शिशु की body मे रक्त का प्रवाह सही तरीके से होता है. जिससे आप के बेबी को भरपूर ऑक्सीजन और पोषण मिलता है| इससे आपके शरीर के अंदरूनी अंगो मे कम से कम दबाब पड़ता है. लेफ्ट करवट  मे सोने से बच्चे को कोई भी चोट लगने के कम से कम chances होते है.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mam is tym kon si side sona thik hoga
उत्तर: hello शरीर में यूट्रस का पोजीशन लेफ्ट साइड पर होता है और बेबी शुरुआत से ही लेफ्ट साइड पर रहता है। इसलिए बेबी का मूवमेंट ज्यादातर लेफ्ट साइड पर ही फील होता है और लेफ्ट साइड ज्यादा भारी लगता है जैसे जैसे गर्भ में बच्चा बड़ा होता जाता है उसका दबाव शरीर के बाकी अंगों पर पड़ता है। युटेरस की पोजीशन लेफ्ट साइड में होने के कारण लेफ्ट करवट करके सोने से मां और बच्चे दोनों को आराम रहता है। लेफ्ट करवट सोने से बेबी तक ब्लड और ऑक्सीजन सप्लाई अच्छे से हो पाता है। राइट करवट सोने से बेबी का भार शरीर के आंतरिक अंगों पर पड़ता है जिसके कारण मां को तकलीफ होती है। और पीठ के बल या सीधे सोने से बेबी के नाल में फंसने का और पोजिशन खराब होने का खतरा रहता है इसलिए पूरी प्रेगनेंसी के दौरान लेफ्ट करवट करके सोने की सलाह दी जाती है।ज़ज़
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mujhe right side sona chahiye ya left
उत्तर: हेलो डियर ,,aapko 10 week ki preganeci चल रही हैं।आपको सोने में जिस तरह से कंफर्ट फील हो आप उस तरह सो सकती हैं लेकिन प्रेगनेंसी में लेफ्ट करवट लेकर सोना बेहतर होता है क्योंकि इससे आपके ब्लड सरकुलेशन में सीधे-सीधे फायदा पहुंचता है| सीधे सोने से या पीठ के बल सोने से पेट में खिंचाव या दर्द की स्थिति बन सकती है इसलिए करवट लेकर सोना ही बेहतर होता है| बाई करवट लेकर सोने से खाना पचने में आसानी होती है साथ ही साथ कमर दर्द ,पीठ दर्द की समस्या में कमी आती है | इसलिए जहां तक संभव हो सके आप कोशिश करें कि आप बाई करवट लेकर ही सोएं|
»सभी उत्तरों को पढ़ें