10 weeks pregnant mother

mam mujhe bahot kamjori or thakan ho rahi h ऐसे mai mujhe kya krna chahiye

सवाल
आप टेन्शन मत लो इस टाइम ये सब नॉर्मल है आप बस आपके खान पान का ध्यान रखें
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: hlo doctor mujhe bahot khasi ho rahi h aur sar v bahot dard kr raha h kamjori v bahot ho gye h me kya kru
उत्तर: aap khansi ki koi medicine dr se puchh kr lijiye .ya fir aap sahad, अदरक ka rs, हल्दी ,or kali मिर्च ka powder mix krke 1 ,1 spoon dono time lijiye or half hour rest kijiye khansi minto me dur ho jayegi sir drd ke liye gungune pani ka sevn kijiye
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: meri delivery sijeriyan thi or 4 mahine 24 din baad bhi kamjori mhsus hoti h mujhe kya krna chahiye jisse ki meri kamjori dur ho ske
उत्तर: आपको जो यह थकान महसूस होती है उसका एक बहुत बड़ा कारण आयरन की कमी भी हो सकती है या खून की कमी हो सकती है अपना ब्लड टेस्ट करवाएं और अगर खून की कमी है तो आप आर्यन की टेबलेट ले सकती हैं एक दाल होती है जिससे चुड़खानी दाल कहते हैं आप वह भी खा सकते हैं उसमें भरपूर मात्रा में आयरन होता है फलों में आप सेब और अनार खा सकते हैं जिससे आपका ब्लड बढ़ेगा पर अपने डॉक्टर से भी जरूर कंसल्ट करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: pregnancy mai weekness or thakan na ho iske liye kya krna chahiye ऑरkhane माई क्या क्या शामिल करना चाहिए
उत्तर: हेलो डियर आप बिल्कुल परेशान ना हो .प्रेगनेंसी के 3 मंथ me जो भी आपको बहुत weekness लगती है तो उसके लिए आप ताकत वाली चीजें khaye.jisse बहुत ताकत मिलती है| आप गुड़ खाए चने खाए . अनार और सेब ले| dry fruits.प्रेगनेंसी में आप सभी प्रकार के ड्राई फ्रूट्स खा सकती हैं .बस आप ध्यान रखें कि बहुत ज्यादा मात्रा में ना खाएं .बहुत ज्यादा है कैलोरी ठीक नहीं है . काजू किशमिश बादाम अखरोट पंजीरी आप सब खा सकती हैं. आप पिंड खजूर दिखा सकते हैं .pista थोड़ा कम खाएं. मखाने भी खा सकते हैं. dudh. egg pindkharoor डॉक्टर के बताए हुए जो भी सप्लीमेंट्स और दवाइयां हैं उन्हें समय पर प्ले. जब आप प्रेगनेंट होती हैं तब यह बहुत जरूरी है कि आप अपना आहार पौष्टिक है. इससे आपको और आपके होने वाले बच्चे को पौष्टिक तत्व मिलेंगे. प्रेग्नेंसी में कुछ अधिक कैलोरी की जरूरत होती है. प्रेगनेंसी में सही आहार का मतलब है -आप क्या खा रही हैं ?ना कि कितना खा रही हैं? जंक फूड का सेवन ज्यादा ना करें. isme कैलोरी ज्यादा है पोष्टिक तत्व कम या ना के बराबर होते हैं. फोलिक एसिड आपको 1 ट्रिमस्टर में ही चालू करदेना चहिये। फ़ोलिक एसिड का होने वाले बच्चे की ग्रोथ में बहुत बड़ा योगदान रहता है। फ़ोलिक एसिड विटामिन है ।विटमिन B 9। ये आपको खाने पिने में फॉलेट नाम से मिलेगा । बाबी के इस्पीनलकार्ड के चारो और पॉलिब पेरत को सही तरीके से बंद करता है।वाहा गप नहीं आने देता। मा के लिए भी बहुत जरुरी है ।विटमिन B 12 के साथ मिलकर हेअल्थी रेड सेल्स बाँटा है। folic acit ke liye ye khaye. ब्रोकली ऐस्पैरागस खट्टे फल हरी पत्तों वाली सब्जियां ओकरा फूलगोभी भुट्टा गाजर 1) दूध और डेयरी के ले सकती हैं. मलाई वाला दूध दही छाछ घर का पनीर इन सब में कैल्शियम प्रोटीन और विटामिन बी12 बहुत होता है. 2) सभी अनाज ,दालें . इन सब में प्रोटीन बहुत अच्छा होता है. 3) पेय पदार्थों में आप पानी bahut piyen.खास करके आप साफ पानी joki फ़िल्टर किया हुआ. ताजे फलों का रस ले. डिब्बाबंद juis nahi le. इसमें शक्कर की मात्रा बहुत ज्यादा होती है. 4) वसा और तेल . वेजिटेबल ऑयल का वसा एक अच्छा स्रोत है क्योंकि इसमें संतृप्त वसा अधिक होता है. इन सभी चीजों के साथ आप डॉक्टर की सलाह मानें .जो भी टेस्ट किए हैं दिए गए हैं उन्हें करवाएं समय पर. दवाइयां समय पर ले और नींद पूरी. खाना जो भी खाएं अच्छे से चबाकर खाएं. प्रेगनेंसी के समय मिल्क प्रोडक्ट calcium और प्रोटीन बहुत जरुरी होता है। डेयरी प्रोडक्ट प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए सबसे बेहतर होता है। जैसे अंडा, चीज, दूध, दही और पनीर मां और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद होता है। कैल्शियम भी पर्याप्त मात्रा में होती है जो फीटस के बोन टिशू के विकास के लिए आवश्यक होता है। प्रोटीन की मात्रा काम होने से बच्चे की ग्रोथ में बहुत अंतर आता है। प्रोटीन जरूरी पौशाक तत्वों में से है। बच्चे का विकास और एम्निओटिक टिशू का कार्य प्रोटीन पर निर्भर करता है। गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन की kaam मात्रा बच्चे के sahi विकास में बाधा पहुंचा सकती है और इससे शिशु का वजन भी कम हो सकता है। यह बच्चे के बढ़ते मस्तिष्क पर नकारात्मक प्रभाव भी डाल सकता है।  बस एक मुट्ठी नट्स प्रोटीन की अपनी दैनिक आवश्यकताओं को पूरा कर सकता है। नट्स जैसे बादाम, मूंगफली, काजू, पिस्ता, अखरोट और नारियल में उच्च मात्रा में प्रोटीन की मात्रा होती है जो बच्चे के विकास के लिए जरूरी होता है। बीज जैसे कद्दू, तिल और सूरजमुखी में भी प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में होती है।  इनमें से कई ऐसे हैं जिनमें प्रोटीन की मात्रा बहुत अधिक होती है जैसे- मूंग, काले और फवा बिन्स, मसूर, मटर और चना. ओट्स में प्रोटीन बहुत उच्च मात्रा में पाई जाती है .
»सभी उत्तरों को पढ़ें