24 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mam mjhe sine me bht jalan rheti h ... m kya kru ?

1 Answers
सवाल
Answer: इसके लिए आप खाना एक बार में बहोत सारा न खाये. थोड़ा थोड़ा करके ज्यादा बार खाइये. अगर आपको कोई कॉम्प्लीकेशन्स नहीं है तो आपसे हो सके उतना वाकिंग करे. ज्यादा पानी पिए. ये सब से आपको रहत मिलेगी. आप खाने के बाद आधा चम्मच अजवाइन पानी के साथ ले इससे भी आपको रहत होगी.
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: madam mere sine m jalan bhut hoti h kya kru
उत्तर: अक्सर महिलाओं को पहली बार गर्भावस्था के दौरान एसिडिटी औरपेट फुलने , छाती या पेट में जलन दरद और गैस होती है।गर्भावस्था के दौरान सीने में जलन और एसिडिटी शरीर में हॉरमोनल बदलावों के कारण होती है।तैलीय या मसालेदार खाना चॉकलेट, खट्टे फल, चाय और कॉफी, एसिडिटी को बढ़ाते हैं। तो कुछ समय के लिए इन से परहेज करें एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही लेने से एसिडिटी और जलन का इलाज होता है गर्भावस्था के दौरान आठ से 12 गिलास पानी पीना जरुरी होता है,हो सके तो रात को सोने से करीब तीन घंटे पहले खाना खा ले। रात को खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही लेटें। तकिये लेकर सोएं, ताकि आपके कंधे आपके पेट से ऊंचे रहें।जादा परेशानि होने पर डाक्टर से सलाह लें। हेलो डियर-अक्सर महिलाओं को पहली बार गर्भावस्था के दौरान एसिडिटी और छाती या पेट में जलन दरद और गैस होती है।गर्भावस्था के दौरान सीने में जलन और दरद एसिडिटी शरीर में हॉरमोनल बदलावों के कारण होती है। तैलीय या चटपटा मसालेदार खाना चॉकलेट, खट्टे फल, चाय और कॉफी, एसिडिटी को बढ़ाते है। एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही लेने से एसिडिटी और जलन में आराम मिलता है।गर्भावस्था मे 12 गिलास पानी पीना चाहीये।एसीडिटि से बचने के लिये सोने से करीब तीन घंटे पहले खाना खा लेना चाहिए जीर्ण भोजन न करें जल्दी पचने वाले हल्के और सुपाच्य भोजन और फल फुल जूस हरी सब्जियां आदि लें।खाना खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही सोना चाहिए जादा परेशानि होने पर डाक्टर से सलाह लें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: sine M JALAN hoti h kiya kru
उत्तर: प्रेगनेन्सी मे पाचन क्रिया स्लो हो जाती है जिसकी वजह से ऍसिडिटी गैस होता है , एक खाना से दूसरे खाना के बीच लंबा अंतराल होने से भी एसिडिटी बनने लगती . एसिडिटी की वजह से हार्टबर्न हो सकता है ठंडा दूध या एक कटोरी दही का एसिडिटी और हार्टबर्न का इलाज है, एक कप अदरक की चाय भी राहत पहुंचा सकती है, केला खाने से भी इसमें फायदा होता है. थोड़ी मात्रा में, लेकिन बार-बार भोजन खाती रहें खाना को अच्छी तरह चबाकर खाएं, रोजाना आठ से 12 गिलास पानी पीना जरुरी है, कोशिश करें कि रात को आप सोने से करीब तीन घंटे पहले अपना खाना खा लें,कई बार लेटने से भी छाती में जलन होने लगती है. खुब पानी पिय .
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: sine m bht jalan ho rhii h kyaa kru uskee liAa
उत्तर: 🙏 अक्सर महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान एसिडिटी और छाती या पेट में जलन और गैस होती है।गर्भावस्था के दौरान सीने में जलन और एसिडिटी शरीर में हॉरमोनल बदलावों के कारण होती है।ऐ तैलीय या चटपटा मसालेदार खाना चॉकलेट, खट्टे फल, चाय और कॉफी, एसिडिटी को बढ़ाते है। एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही लेने से एसिडिटी और जलन में आराम मिलता है। गर्भावस्था मे 12 गिलास पानी पीना चाहीये। एसीडिटि से बचने के लिये सोने से करीब तीन घंटे पहले खाना खा लेना चाहिए जीर्ण भोजन न करें जल्दी पचने वाले हल्के और सुपाच्य भोजन और फल फुल जूस हरी सब्जियां आदि लें। खाना खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही सोना चाहिए जादा परेशानि होने पर डाक्टर से सलाह लें। Take care💐
»सभी उत्तरों को पढ़ें