35 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मैम मेरे गले में बहुत दर्द हो रहा है.क्यों उपाय करूँ बताइए मैं पानी भी नहीं पी पा रही हूं प्लीज रिप्लाई

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर आप शहद खा कर देखिए आपको आराम मिलेगा या फिर एक गिलास पानी में थोड़ा सा अजवाइन डालकर उसे उबर लीजिए और ठंडा हो ने पर उसे पी लीजिए अगर फिर भी आपको ठीक नहीं लगता है तो एक बार डॉक्टर को दिखाएं गले का इंफेक्शन हो सकता है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mam mere gle me bhut jln ho rhi h pani bhi bhut pi rhi hu fir bhi thik nhi ho rha h mai kya kru
उत्तर: सीने और गले में जलन, मुंह में खट्टा और अम्‍लीय स्‍वाद, आदि इसके प्रमुख लक्षण हैं। जैसे-जैसे बच्चे का विकास होने लगता है, वैसे-वैसे वह पेट के अंदर के अंगों को ऊपर की ओर ढकेलने लगता है, जिसके कारण पेट में एसिडिटी और जलन की समस्या शुरु हो जाता है। घरेलू उपचार के जरिये इस समस्‍या का दूर किया जा सकता है।  (1)गर्भावस्‍था के दौरान सीने में होने वाली जलन को दूर करने के लिए बादाम का सेवन कीजिए। प्रोटीनयुक्‍त बादाम में तेल पाया जाता है, जो एसिडिटी की समस्‍या को दूर करने में सहायक है (2)अदरक के सेवन से पाचन शक्ति बढ़ती है। सीने में जलन के इलाज में भी बहुत कारगर यह अदरक। ताजा अदरक को चबाने या अदरक वाली चाय पीने से पेट की समस्‍या दूर होती है  (3)दही पाचन तंत्र में सुधार करता है, जिससे खाना आसानी से पच जता है। इसका सेवन करने से गर्भावस्‍था के दौरान पेट संबंधित समस्‍या होने की संभावना कम रहती है(4)एलोवेरा में सीने की जलन को कम करने और एसिडिटी से तुरन्‍त राहत प्रदान करने की अद्भुत क्षमता पायी जाती है। एलोवेरा जूस को पानी में मिलाकर इसका सेवन कर सकते हैं। इससे पेटमें जलन सभी प्रकार की समस्‍यायें दूर होती हैं। इसका सेवन गर्भावस्‍था के दौरान किया जा सकता  (5)गर्भावस्‍था के दौरान अगर सीने में जलन हो तो नींबू के रस का सेवन कीजिए। एक लीटर पानी में एक छोटा चम्‍मच नींबू का रस और दो चम्‍मच शहद अच्‍छे से मिला लीजिये इससे पाचन क्रिया सुधरती है और एसिडिटी भी नहीं होती। यह सीने की जलन दूर करने का अच्‍छा तरीका है।  (6)सामान्‍यतया सौंफ का सेवन अगर किया जाये तो पेट संबंधी किसी भी प्रकार की समस्‍या नहीं होती है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mere kamar m bht dard ho raha h me kya kru koi kam nhi kar pa rhi hu or jhuk bhi nhi pa rhi plz koi solutino btaiye
उत्तर: प्रेग्नेंसीय में हार्मोन्स परिबर्तन के वजह से कई सारी चीजें में बदलाव होने लगता है जब बेबी का आकार बड़ा होने लगता है तब पुरा भार कमर पे आता है जिसकी वजह से कमर दर्द होने लगता है आप कमर दर्द में इस तरह से अपना ध्यान दे सकती है । aap apne kamar ki tel se maalish kare ya fir paani garm karke botal me daal kr uper se kapda lapet de fir sikaai kare issese aapko aaraam ho jayega ज्यादा भारी सामान को उठाने की कोशिश ना करे अगर कोइ सामान उठाना है तो सही तरह से झुक कर सामान उठाये , कमर के बल ना झुके लंबे समय तक खड़ी या बैठी ना रहे , आप स्टूल या आराम करने वाली कुर्सी का प्रयोग कीजिये ज्यादा भारी और मेहनत वाले काम न करे एक तरफ करवट लेकर सोये , सोने के लिए नरम गद्दे का प्रयोग करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hello mam mera 9 month chal rha h mere gale me bahut dard ho rha kuch bhi khane se jalan bahut ho rhi kya kru mai .
उत्तर: अक्सर महिलाओं को पहली बार गर्भावस्था के दौरान एसिडिटी और छाती या पेट में जलन और गैस होती है।गर्भावस्था के दौरान सीने में जलन और दरद एसिडिटी शरीर में हॉरमोनल बदलावों के कारण होती है। तैलीय या चटपटा मसालेदार खाना चॉकलेट, खट्टे फल, चाय और कॉफी, एसिडिटी को बढ़ाते है। एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही लेने से एसिडिटी और जलन में आराम मिलता है। गर्भावस्था मे 12 गिलास पानी पीना चाहीये। एसीडिटि से बचने के लिये सोने से करीब तीन घंटे पहले खाना खा लेना चाहिए जीर्ण भोजन न करें जल्दी पचने वाले हल्के और सुपाच्य भोजन और फल फुल जूस हरी सब्जियां आदि लें। खाना खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही सोना चाहिए जादा परेशानि होने पर डाक्टर से सलाह लें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें