26 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mam mera 6th month chal rha h acedity rhti h gale me jalan bhi कोई upay bataiye thanks

1 Answers
सवाल
Answer: अक्सर महिलाओं को पहली बार गर्भावस्था के दौरान एसिडिटी और छाती या पेट में जलन और गैस होती है।गर्भावस्था के दौरान सीने में जलन और दरद एसिडिटी शरीर में हॉरमोनल बदलावों के कारण होती है। तैलीय या चटपटा मसालेदार खाना चॉकलेट, खट्टे फल, चाय और कॉफी, एसिडिटी को बढ़ाते है। एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही लेने से एसिडिटी और जलन में आराम मिलता है। गर्भावस्था मे 12 गिलास पानी पीना चाहीये। एसीडिटि से बचने के लिये सोने से करीब तीन घंटे पहले खाना खा लेना चाहिए जीर्ण भोजन न करें जल्दी पचने वाले हल्के और सुपाच्य भोजन और फल फुल जूस हरी सब्जियां आदि लें। खाना खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही सोना चाहिए जादा परेशानि होने पर डाक्टर से सलाह लें।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mjhe gale m bahut jalan ho rhi h mera 9 month chal rha h kya krun kuch bataiye
उत्तर: jb bhi jalan ho to dhai kha lena or usse bhi shi nhi ho to aap digine syrup le lena fayda ho jayega
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera 5th month chal rha or mere gale me hmesa jalan hota h aisa kyu
उत्तर: सीने और गले में जलन, मुंह में खट्टा और अम्‍लीय स्‍वाद, आदि इसके प्रमुख लक्षण हैं। जैसे-जैसे बच्चे का विकास होने लगता है, वैसे-वैसे वह पेट के अंदर के अंगों को ऊपर की ओर ढकेलने लगता है, जिसके कारण पेट में एसिडिटी और जलन की समस्या शुरु हो जाता है। घरेलू उपचार के जरिये इस समस्‍या का दूर किया जा सकता है।  (1)गर्भावस्‍था के दौरान सीने में होने वाली जलन को दूर करने के लिए बादाम का सेवन कीजिए। प्रोटीनयुक्‍त बादाम में तेल पाया जाता है, जो एसिडिटी की समस्‍या को दूर करने में सहायक है (2)अदरक के सेवन से पाचन शक्ति बढ़ती है। सीने में जलन के इलाज में भी बहुत कारगर यह अदरक। ताजा अदरक को चबाने या अदरक वाली चाय पीने से पेट की समस्‍या दूर होती है   (3)दही पाचन तंत्र में सुधार करता है, जिससे खाना आसानी से पच जता है। इसका सेवन करने से गर्भावस्‍था के दौरान पेट संबंधित समस्‍या होने की संभावना कम रहती ह ै(4)एलोवेरा में सीने की जलन को कम करने और एसिडिटी से तुरन्‍त राहत प्रदान करने की अद्भुत क्षमता पायी जाती है। एलोवेरा जूस को पानी में मिलाकर इसका सेवन कर सकते हैं। इससे पेटमें जलन सभी प्रकार की समस्‍यायें दूर होती हैं। इसका सेवन गर्भावस्‍था के दौरान किया जा सकता  (5)गर्भावस्‍था के दौरान अगर सीने में जलन हो तो नींबू के रस का सेवन कीजिए। एक लीटर पानी में एक छोटा चम्‍मच नींबू का रस और दो चम्‍मच शहद अच्‍छे से मिला लीजिये इससे पाचन क्रिया सुधरती है और एसिडिटी भी नहीं होती। यह सीने की जलन दूर करने का अच्‍छा तरीका है।  (6)सामान्‍यतया सौंफ का सेवन अगर किया जाये तो पेट संबंधी किसी भी प्रकार की समस्‍या नहीं होती है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hello mam mera 9 month chal rha h mere gale me bahut dard ho rha kuch bhi khane se jalan bahut ho rhi kya kru mai .
उत्तर: अक्सर महिलाओं को पहली बार गर्भावस्था के दौरान एसिडिटी और छाती या पेट में जलन और गैस होती है।गर्भावस्था के दौरान सीने में जलन और दरद एसिडिटी शरीर में हॉरमोनल बदलावों के कारण होती है। तैलीय या चटपटा मसालेदार खाना चॉकलेट, खट्टे फल, चाय और कॉफी, एसिडिटी को बढ़ाते है। एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही लेने से एसिडिटी और जलन में आराम मिलता है। गर्भावस्था मे 12 गिलास पानी पीना चाहीये। एसीडिटि से बचने के लिये सोने से करीब तीन घंटे पहले खाना खा लेना चाहिए जीर्ण भोजन न करें जल्दी पचने वाले हल्के और सुपाच्य भोजन और फल फुल जूस हरी सब्जियां आदि लें। खाना खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही सोना चाहिए जादा परेशानि होने पर डाक्टर से सलाह लें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें