4 महीने का बच्चा

Question: mam mari beti ke aankh aayi hai or bhot tejz jhukham bhi hua hai kya karu

1 Answers
सवाल
Answer: छोटे बच्चों को ऑय में इन्फेक्शन बहुत जल्दी होती है क्युकी हम उन्हें प्यार करने के लिए अक्सर अपना मुह उनके पास ले जाते हैं और बच्चा हमेशा अपना हाथ से आँखों को मलता है जिससे हमारे मुह या उनके हाथों से आई इन्फेक्शन हो सकता है । ऐसे स्थिति मेंं बच्चे के हाथ साफ एंटीबैक्टीरियल सोप से धुला कर रखे ।। आप उन्हें बाजार मे मिलने वाले हाथों मे पहनने वाला मोजा भी लगाकर दे सकती है ।।।आप उनके आँखों को अच्छे साफ कॉटन के कपड़े से साफ करे और इन्फेक्शन से दूर रखें ।।।ज्यादा तकलीफ हो तो जरूर डॉ को दिखाए।। वह बच्चे के आँखों को देखकर सलाह देंगे। छोटे बच्चे को सर्दी खांसी बहुत ही जल्दी लगती है आप भी बीच में बच्चे की गीली नैपकिन बदलते रहिए आप उन्हें ज्यादा से ज्यादा अपना दूध पिलाई है। अब बच्चे को सर्दी से संक्रमित व्यक्ति से दूर रखने की कोशिश कीजिए आप उनके कपड़ों को किसी अच्छे एंटीबैक्टीरियल शॉप में धोकर एंटीबैक्टीरियल पानी में डुबोकर धोकर फिर धूप में अच्छे से सुखा कर रखिए और यूज कीजिए। आप बच्चे के सीने में सरसों के तेल में 3... 4 कड़ियां लहसुन की kadka कर तेल को गर्म करके ठंडा करके अच्छे से सीने में मसाज कर सकती इससे बच्चे को सर्दी और खांसी में थोड़ा आराम मिलेगा। आप बच्चे को भाप दे सकती है पर छोटे बच्चों को भाप देने के लिए आप गर्म आप बाथरूम में गर्म पानी टब में ऑन कर दीजिए। थोड़ी देर के लिए बाथरूम को बंद करके रखे जिससे बाथरूम में बाप भर जाएगा और अपने छोटे बच्चे को आप लेकर थोड़ी देर के लिए बैठ जाइये। जिससे उनको सीने में कफ नहीं जमेगा और खांसी और सर्दी में थोड़ा आराम मिलेगा। आप बच्चे का सिर हल्का सा ऊपर रखकर ने दूध pilaiye और सुलाएं जिससे उन्हें खांसी काम आएंगी सिर का पोजीशन थोड़ा सा ऊपर होना चाहिए इसके लिए आप पतला तकिया कभी यूज कर सकती है। ज्यादा तकलीफ है या आपको आराम नहीं मिलता है तो आप डॉक्टर के पास जाइए और बच्चे का इलाज करवाइए बच्चे की खांसी सर्दी देखकर सीने को चेक करके आपको बेहतर सलाह देंगे। आप डॉक्टर की सलाह जरूर लीजिए।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera abhi second month chalu hi hua hai par mujhe khanshi jhukham or fever hai or back pain bhi hai kya karu
उत्तर: हेलो डियर प्रेग्न्सी में कोई भी मेडिसन आप बिना डॉक्टर के सलाह के ना ले ऐसा करना आपके और बेबी के लिए रिस्की हो सकता है आपको सर्दी खासी है और फीवर जैसे फील हो रहा है मौसम में बदलाव से bachne के लिए आप ऐसे कपड़े पहनें की गर्माहट बनी रहें आप आराम करे आप जितना आराम करेगी उतना जल्दी रिकवर करेगी आप भाप ले आप गुनगुना पानी पीये गरम वेजिटेबल और चिकन सूप पीये आप एक साफ़ अदरक का टुकडे को चुस सकती है आपको खासी से राहत मिलेगी आप गुड खायें गुड सर्दी को रोकने में हेल्पफूल है आप अदरक के रस को शहद के साथ ले खासी में कमी आएगी आप सरसों के ऑयल में लहसुन हीङ्ग मिला कर गरम करे और अपने चेस्ट बैक और तलवो की मालिश करे आपको सर्दी से राहत मिलेगी आप कुछ देर धूप में बैठे सूर्य के प्रकाश से मिलने वाले विटामिन डी से आपको सर्दी से राहत मिलेगी आप रात में हल्दी डाल कर गुनगुना मिल्क पीये और सोते समय सर हल्क उंचा कर सोएं सर्दी में आपको नाक बन्द से राहत मिलेगी प्रॉब्लम ज़्यादा लगें तो डॉक्टर से सलाह ले . प्रेग्नेन्सी में back में दर्द होना तो समान्य है इसके लिए आप प्रॉपर सपोर्ट लें के बैठे lलंबे टाइम के लिए ना बैठे l रेस्ट करे , धीरे धीरे हलकी हलकी एक्सर्साइज करे l कमर और पैरों मे सरसों के ऑयल से हलकी मालिश भी लें सकती है आपको आराम मिलेगाl आराम करे lआप गरम पानी की बॉटल से सीकाइ भी कर सकती है आपको आराम मिलेगा सोते समय सपोर्ट ले के सोएं और तकिया ना लगायें एक ही postion में ना सोएं करवट बदलते रहे कमर पर कम दबाव पडें, इसके लिए अपने घुटनों के नीचे तकिया लगाकर सोएं, अपने घुटनों के बीच तकिया लगाकर सोने से भी आप कमर दर्द से बच सकते हैं इसी के साथ हाई हील चप्‍पलें या जूते भी कमर की मांसपेशियों पर असर डालते हैं, जिस कारण दर्द होता hai.हेवी saaman ना उठा ये हलकी हलकी एक्सर्साइज करे जिसके कारण आपको बैक पेन में राहत मिलेगी सूर्य के प्रकाश में 10 से 15 मिनट बैठे सन रेज से मिलने वाले विटामिन डी आपके बैक पेन और बच्चे के विकास में हेल्पफूल है पानी भरपूर पीये स्ट्रेस ना ले
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mam phele mari beti jhukham tha ab mujhe ho gya hai kya karu
उत्तर: जैसे ही महिलाएं गर्भवती होती हैं उन्हें जल्दी इन्फेक्शन हो जाता है। क्योंकि उनकी बॉडी बहुत ही सेंसिटिव हो जाती है प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है 1) सर्दी खांसी से खुद को बचाने और गर्भावस्था में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए आपको अपने डायट में ताजे फल सब्जियां और साबुत अनाज शामिल कर सकती हैं। 2) तरल पदार्थों का अधिक से अधिक सेवन करना चाहिए जैसे अदरक वाली चाय हर्बल चाय और फलों का जूस 3) ज्यादा थके नहीं आराम करें आप जितने आराम से रहेंगे आपको इन्फेक्शन उतना ही कम होगा 4)खासी आने पर ईलायची मुंह में लेखर चुसें। उपाय-- सर्दी होने पर अक्सर नाक बंद हो जाता है तो आप गर्म पानी गर्म पानी का मशीन से भाप ले सकती हैं इसमें आप दो तीन बूंद नीलगिरी का तेल डाल ले इससे सिर के ऊपर तो लिया ढक कर अपना सर बर्तन के ऊपर झुकाकर भाप लें इससे आपकी बंद नाक खुल जाएगी और सर दर्द कम हो जायेगा और सर्दी से भी राहत मिलेगी साथ ही अगर गले में भी दरद या टांसील हो तो गरम पानी में नमक डालकर दीन में चार पांच बार तो राहत मिलेगी आप तुलसी अदरक का रस आधा आधा चम्म्च लेकर शहद मीलाकर पी सकती हैं।इससे सर्दी खांसी में राहत मीलेगी। गुनगुने गर्म पानी में शहद और नींबू डालकर आप इसे पी सकती हैं अगर आपकी सर्दी खांसी ठीक नहीं हो रही है और आप को तेज बुखार है तो आप को बिल्कुल भी देर नहीं करना चाहिए डॉक्टर से कंसल्ट करें और अपनी मर्जी से कोई भी दवाई ना ले
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mairi beti ko bhut khansi or jhukham hai dawei yai laiti nahi kat karu
उत्तर: हेलो डियर ,,,मौसम में बदलाव या बेबी की प्रतिरोधक क्षमता में कमी होने के कारण बच्चों को बार बार सर्दी खांसी की समस्या बनी रहती है ,सर्दी खांसी को दूर करने के लिए आप कुछ घरेलू उपाय अपना सकते हैं | बेबी को अपना दूध पिलाते रहिए ,मां के दूध में प्रतिरोधक क्षमता होती है अजवाइन की पोटली बनाकर उसे बेबी के छाती ,पीट ,पैर और हाथ के तलवों को धीरे-धीरे मसाज कीजिए | अगर baby ka nose जाम है तोआप बेबी के नाक में नोजल ड्रॉप डाल सकते हैं नोजल ड्रॉपDr. द्वारा recommended Ho...| लहसुन को गर्म सरसों तेल में डालकर गर्म कर ले ,इसी तेल से बेबी की हल्की हल्की मालिश कीजिए | सेंधा नमक को सरसों तेल में मिलाकर बेबी की मालिश कर सकते हैं | सरसों तेल या नारियल तेल में तुलसी की पत्तियों को पीसकर milyeऔर इस से बेबी की malis kre..| सोते समय बेबी का सर ऊंचा रखें इसे बेबी को सांस लेने में आसानी होगी | बेबी को भाप दिलाने के लिए कमरे या बाथरूम में गर्म पानी डालकर पूरे कमरे मे स्टीम भर ले और इसी कमरे में बेबी को 10 से 15 मिनट बैठाकर रखें बेबी के कफ एंड कोल्ड में राहत मिलेगी| बेबी की साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें बेबी को जब भी छुए हाथ धोकर छुए ,नहीं तो बेबी को इन्फेक्शन का खतरा बढ़ सकता है |
»सभी उत्तरों को पढ़ें