7 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mam mai kya kha skti hu or kya nahi travel kr skti hu kya

2 Answers
सवाल
Answer: हेल्लो डीयर गर्भावस्था के दौरान आपको संतुलित और स्वस्थ आहार लेने पर खास ध्यान देना चाहिए | इस समय आप सिर्फ अपने लिए नहीं बल्कि अपनी कोख में पल रहे बच्चे के लिए भी आहार ले रही है | दूध और डेयरी उत्पादों का सेवन प्रतिदिन जरूर करें, जैसे दूध, दही, आइसक्रीम, छाछ व पनीर | अगर आप को दूध पसंद ना हो या पचता ना हो तो आप ज्यादा कैल्सियम वाली चीज़ों का सेवन करे जैसे कि छोले, सोया दूध और बादाम आदि | अनाज जैसे रोटी, ब्रेड, चावल आदि का सेवन करे | रोजाना हरी सब्जियों और फलों का सेवन जरूर कर | प्रेग्नन्सी के दौरान आप निम्न चीज़ो का सेवन ना करे - शराब और धूम्रपान से दूर रहे। चाय और कॉफी का सेवन कम करें। फलों मे पपीता ,पाइन एप्पल और काले अन्गूर ना खाए। आप fish ना खाए | प्रेगनेंसी के शुरू के 3 महीने और आखिरी के 3 महीने आपको यात्रा करने से बचना चाहिए ।यात्रा के दौरान लगने वाले झटको से आपके बेबी को नुकसान पहुंच सकता है। इसलिए ध्यान रखें कि आप शुरू में तो कम से कम यात्रा करने के बारे में सोचे। अगर बहुत जरूरी हो तो अपने डॉक्टर से सलाह लेकर ही यात्रा करें।
Answer: डियर आपको अपने आहार में प्रोटीन, विटामिन और मिनरल्स को शामिल करना चाहिए। आपका आहार ऐसा होना चाहिए जिसमें पर्याप्‍त मात्रा में आयरन और फॉलिक एसिड हो। खाने में ताजे फल, दाल, चावल, हरी सब्जियां, रोटी आदि खाना चाहिए। बच्चे के दिमाग के विकास के लिए ओमेगा-3 और ओमेगा-6 बहुत जरूरी है। फिश लिवर ऑयल, ड्राइफ्रूट्स, हरी पत्तेदार सब्जियों और सरसों के तेल में यह अच्छी मात्रा में मिलते हैं। आयरन और फोलिक एसिड की गोलियां खाना भी शुरू कर दें। इससे शरीर में खून की कमी नहीं होती है। ज्यादा तला-भुना और मसालेदार खाना न खाएं। इससे गैस और पेट में जलन हो सकती है। जो भी खाएं, फ्रेश खाएं। बाहर के खाने से इंफेक्शन होने का खतरा होता है, इसलिए बाहर खाने से बचें। यदि प्रेगनेंसी में कोई कलिकेशन नहीं हैं तोह आप बिलकुल ट्रेवल कर सकते हैं बाकि डॉक्टर से भी एक बार पूछ लें डॉक्टर का नंबर हमेशा फ़ोन में रखें और कुछ दवा जैसे की गैस होने पर एसिडिटी होने पर हेडाचे पेट दर्द और सप्लीमेंट्स जो की डॉक्टर ने दिया हैवो अपने पास हैंडी रखें ताकि कोई प्रॉब्लम न हो :)
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mam kya mai 9 month me travel kr skti hu ???
उत्तर: हेलों 9 मंथ में ट्रैवल आप अवोइड करे क्योकी इस समय आपका और बेबी का आकार bdha हुआ होता है 37 वीक के बाद डिलिवरी कभी भी हो सकती है ट्रैवल के समय कोई प्रॉब्लम होने पर ये रिस्की हो सकता है अगर आपको ट्रेवल करना बहुत ज़रूरी है तब आप डॉक्टर से सलाह ले क्योकी वो आपकी और बेबी की हेल्थ कण्डिशन बेहतर जानती है अगर आप ट्रैवल करती है तब कपड़े और शू कम्फर्टेबल पहनें अपना खाना पानी ले कर chale और ज़्यादा देर लगातार ना बैठे बीच बीच में ऍक्टिव रहें भीड़ वाली जगह ना जायें यूरिन ना रोकें कोशिश करे कोई आपके साथ ट्रैवल करे जैसे फैमिली मेम्बर या फ्रेंड जिससे आप जरूरत पड़ने पर हेल्प ले सकती है दवाइयों का किट साथ रखें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hii mam mai kuch din se pregnent hu kya mai travel kr skti hu by train
उत्तर: हेलो डियर प्रेगनेंसी के शुरू के 3 महीने और आखिरी के 3 महीने आपको यात्रा करने से बचना चाहिए यात्रा के दौरान लगने वाले झटको से आपके बेबी को नुकसान पहुंच सकता है। इसलिए ध्यान रखें कि आप शुरू में तो कम से कम यात्रा करने के बारे में सोचे। अगर बहुत जरूरी हो तो अपने डॉक्टर से सलाह लेकर ही यात्रा करें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: kya mai travel kr skti hu
उत्तर: प्रेग्नेंसी के दौरान यात्रा करना उन महिलाओं के लिए हानिकारक हो सकता है, जिन्हें हाई रिस्क प्रेग्नेंसी है या जिन्हें डॉंक्टर ने पूरी तरह से आराम करने की सलाह दी है। इन महिलाओं को यात्रा के दौरान काफी समस्या हो सकती है, जैसे- सफर का लंबा समय, सड़क खराब होना, सफर के दौरान चिकित्सा सुविधाओं का अभाव आदि कुछ ऐसे परेशानियां हैं, जिनसे प्रेग्नेंसी पर असर पड़ता है। •लंबा सफर करने से बचें। •यदि आप ट्रैवल कर भी रहे हैं तो अपने साथ पानी की पूर्ण सुविधा रखें जिससे पानी की कमी न होने पाएं। •कहीं भी जाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें और डॉक्टर के निर्दशों का पालन करें। •ट्रैवल पर जाते समय डॉक्टर के निर्देशों का पालन करते हुए सभी दवाइयों को अपने साथ रखें और अपने डॉक्टर के पेपर्स और डॉक्टर का नंबर हमेशा अपने साथ रखें। जिससे आपातकालीन में आप उसका उपयोग कर पाएं। •गाड़ी में यात्रा के दौरान खिड़की खोल कर रखें और सीट बेल्ट को पेट के नीचे बांधे। •कार में बहुत ज्यादा सिकुड़ कर न बैठे बल्कि पैर फैलाते हुए ऐसे बैठे जिससे आप आसानी से पैर हिला सकें और ऐंठन या अकड़न होने पर आपको अपना पोस्चर बदलने में दिक्कत न हो। •सीट पर पीछे की तरफ कमर ऐसे टिका कर बैठे जिससे कोई दर्द न हो। •सफर पर जाने से पहले वहां के माहौल और मौसम की पूरी जानकारी ले लें और उसी हिसाब से कपड़े लेकर जाएं। •बहुत ज्यादा फैशन के चक्कर में टाइट कपड़े या फिर हील वाली सैंडल इत्यादि का इस्तेमाल न करें। •ट्रैवल के दौरान कोई भी समस्या होने पर अपने मन से कोई दवा न खाए ं अपने डॉक्टर या फिर नजदीकी किसी डॉक्टर से जरूर कसंल्ट कर लें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें