15 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mam m dates kha skti hu mujhe 4th month chal rha hai ???

2 Answers
सवाल
Answer: hello dear आप खजुर खा सकती है।खजूर में फाइबर, पोटेशियम, आयरन अधिक मात्रा में पाए जाते हैं। नियमित रूप से तीसरी तिमाही के दौरान खजूर का सेवन करने से गर्भाशय ग्रीवा की बढने में मदद मिलती है जिससे डेलीवरी में आसानी रहती है।आप 2 से 4 खजुर ही खाये इससे ज्यादा का सेवन ना करे।
Answer: g kha saktii h isse appka hb level b badhegaa.. roj 4 dates khaye
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: kya mai kinu kha skti hu 4th chal rha h
उत्तर: सिट्रस फ्रूट नींबू वंश के फल होते हैं, जैसे कि संतरा, किन्नू, नींबू मौसंबी आदि। ये फल गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत लाभकारी होते हैं। बैंगलोर की सीनियर न्यूट्रीशनिस्ट शोभा शास्त्री कहती हैं, गर्भावस्था में सिट्रस फ्रूट बहुत तरीकों से फायदेमंद साबित होते हैं। एक गर्भवती महिला को दिन में 3 से 4 बार फल खाने चाहिए जिनमें दो बार सिट्रस फल होने चाहिए।’ आइये जानें ऐसे ही 4 सिट्रस फ्रूट्स जो गर्भवती महिलाओं को ज़रूर खाने चाहिए। 1) संतरा संतरे विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत है और ये तत्व आयरन, ज़िंक और कैल्शियम को शरीर में अवशोषित होने में मदद करता है। इतना ही नहीं, संतरे के छिलके में संतरे से दो गुना ज्यादा विटामिन सी होता है। डॉक्टर शोभा शास्त्री कहती है, संतरे के छिलके के छिलके को घिसकर या पीसकर शिकंजी और मीठी चीज़ों में मिलाकर खाया जा सकता है, इससे नैचुरल फ्लेवर भी मिलता है।’ वो कहती हैं, अध्ययनों में ये बात सामने आई है कि संतरा खाने से मां को कम ऐलर्जी होती है और बेबी का मस्तिष्क अच्छी तरीके से काम करता है।’ 2) कीवी फॉलिक एसिड का अच्छा स्रोत होने के अलावा, कीवी फल में पोटैशियम, फास्फोरस और कॉपर जैसे कई दूसरे पोषक तत्व भी होते हैं। डॉक्टर शोभा कहती हैं, इस फल का फाइबर मां का ब्लड ग्लूकोज़ स्तर सही बनाए रखता है जिससे कि शिशु के शरीर में मैक्रोसोमिक (macrosomic) का निर्माण होने से बच जाता है। गर्भावस्था में होने वाली आम समस्या जैसे कि कब्ज़, ब्लॉटिंग और अन्य पाचन संबंधी समस्याओं में राहत पाने के लिए भी ये फल अच्छा है।’ 3) ग्रेपफ्रूट ये एक प्रकार की नारंगी होती है जिसे चकोतरा भी कहते हैं। इसमें फॉलिक एसिड और बायोफ्लेवोनॉइड्स जैसे कि लिमिनॉइड्स (liminoids), लाइपोसीन (lycopene), विटामिन ए, विटामिन बी5, पोटैशियम और फाइबर होता है। डॉक्टर शोभा कहती हैं, इस फल में मौजूद बायोफ्लेवोनॉइड्स कनेक्टिव टिशू (connective tissues) को मजबूत करते हैं, जलन कम करते हैं, और ऐसा करके मां और गर्भस्थ शिशु दोनों को कई ऐलर्जी से बचा लेते हैं।’ 4) मौसंबी विटामिन सी का अच्छा स्रोत होने के अलावा, मौसंबी को फॉलिक एसिड और एंटीऑक्सीडेंटेस का भी पावरहाउस कहा जाता है जो शिशु के विकास के लिए अच्छे हैं। डॉक्टर शोभा कहती हैं, गर्भावस्था में मौसंबी पीने से कब्ज़, गैस, मतली, बजहज़मी और पैरों में सूजन जैसी समस्याओं में राहत पाई जा सकती है।’
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mujhe 5th month chal rha h . kya m banana kha skti hu kya
उत्तर: हैलो dear ગર્ભાવસ્થા के douran केला खाना बहुत ही फायदेमंद होगा केले में बहुत ज्यादा मात्रा में मेगनिशियम होता है जो कि प्रेग्नेंट महिला को खाना पचाने में मदद करता है केले खाने से गर्भ में पल रहे बच्चे का विकास बहुत सही तरीके से होता है यदि गर्भवती महिला प्रेगनेंसी के दौरान केला खाती है तो उसे मितली जैसी समस्याओं से भी छुटकारा मिलता है केले में कार्बोहाइड्रेट में पाया जाता है जो की प्रेग्नेंट महिला के लिए बहुत जरूरी होता है इसलिए प्रेग्नेंट महिला को शुरू से ही kela खाना चाहिए
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hlo mam mera 4th month chal rha hai ... mai puchna chahti hu k mai besan kha skti hu .??
उत्तर: हेलो डियर,आप का फोर्थ मंथ चल रहा है आप बिल्कुल बेसन खा सकती है आपको बेसन से कोई भी नुकसान नहीं है बट इतना ध्यान रखें कोई भी चीज ज्यादा मात्रा में नहीं खानी है क्योंकि ज्यादा बेसन खाने से आपको लूज मोशन हो सकते तो जब भी खाए बहुत थोड़ी सी मात्रा में खाएंl
»सभी उत्तरों को पढ़ें