18 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: mam doctor ne kha hki baby bahut niche h tomujhe kiya sabdhani baratni chahiye

1 Answers
सवाल
Answer: apko jyada jyada rest krna chahiye sidhiya nhi chadna chahiye aur jyada kaam bhi nahi krna
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mem mera19 week or doctor ne rest bola h muzhe tention hki koi problm naho h
उत्तर: हेलो डियर , आपकी प्रेग्नेन्सी में किसी तरह की कॉम्प्लिकेशन होगी इसलिए आपके डॉक्टर आपको रेस्ट करने के लिए कहें है आपको ऐसे में डॉक्टर की ऍड्वाइज को मानना चाहिये , और अगर आपको कोई भी सन्देह लगता है तो आप अपने डॉक्टर से क्लियर कर सकती है !
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hello mam mujhe twin pregnency h mujhe kya khana chahiye or kya sabdhani bartni chahiye
उत्तर: हेलो डियर ज्यादातर गर्भ में जुड़वा बच्चे होने मॉर्निंग सिकनेस की परेशानी सामान्य महिलाओं की तुलना में अधिक होती हैं इस अवस्था में अधिक भूख प्यास और थकावट लग सकती है ।जुड़वा गर्भावस्था में वजन सामान्य गर्भावस्था की तुलना में अधिक होता है गर्भावस्था के 9 वें सप्ताह में जुड़वा बच्चों की धड़कन अलग अलग सुनी जा सकती है और कभी-कभी सुन पाना मुश्किल भी होता है जुड़वा गर्भावस्था में नॉर्मल डिलीवरी की संभावना कम और समय से पहले होती है अक्सर जुड़वा गर्भावस्था में डिलीवरी 36 या 37 सप्ताह के बीच हो सकती है।आप अपने डायट में यह सब शामील कर सकती हैं।अनाज, गेहूं का आटा, जई, कॉर्न फ्लैक्‍स, ब्रेड और पास्ता लें।  सूखे फल खासकर अंजीर, खुबानी और किशमिश, अखरोट और बादाम लें।राजमा, सोयाबीन, पनीर, पनीर, टोफू, दही आपकी कैल्शियम की जरूरतों को पूरा करेगा।टोन्‍ड दूध ।हरी सब्जियां जैसे पालक, ब्रोकोली, मेथी, सहजन की पत्तियां, गोभी, शिमला मिर्च, एमाटर, आंवला और मटर।विटामिन सी के लिए संतरे, स्ट्रॉबेरी, चुकंदर, अंगूर, नींबू, टमाटर, आम और नींबू पानी का सेवन बढ़ाएं।स्‍नैक्‍स में - भुना बंगाली चना, उपमा, सब्जी इडली या पोहा ले सकती हैं। .
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hello mam mujhe twin pregnency h mujhe kya khana chahiye or kya sabdhani bartni chahiye plz help me
उत्तर: हेलो डियर अगर आपके गर्भ में ट्विंस बेबी हैं तो आपको इस समय आपना बहुत ध्यान रखना चाहिए ।इस समय आपके साथ-साथ आपके पेट में दो नन्ही जाने पल रही हैं ।अपने खान-पान पर ध्यान देना चाहिए ।संतुलित और पौष्टिक भोजन खाना चाहिए ।ज्यादा से ज्यादा मात्रा में पानी पीना चाहिए।तनाव मुक्त रहना चाहिए ।वजन नहीं उठाना चाहिए ।ज्यादा उछल कूद नहीं करनी चाहिए। कहीं पर भी ज्यादा देर खड़े और बैठे नहीं रहना चाहिए रात में सोते समय करवट ले करके सोना चाहिए। जहाँ तक हो सके अपने आप को खुश रखना चाहिए ।सीढ़ियां नहीं चध्नी चाहिए ।आप अपना समय समय पर डॉक्टर से नियमित जांच करवाते रहें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें