कुछ दिनों का बच्चा

Question: mam मेरा beta 5 days का है उसको piliya है 15 mg दोकतोर बोलता कम है but दवा दी है but आप mujy btaye mai kya kru ki bby ko aaram mile jaldi

1 Answers
सवाल
Answer: नवजात बच्चों में पीलिया एक आम समस्या है छोटे बच्चों में बड़ों की तुलना में लाल रक्त कोशिकाओं का प्रभाव अधिक होता है इसके परिणाम स्वरुप बच्चों में बिलीरूबिन का उत्पादन भी बहुत ज्यादा होता है बिलीरुबिन का उत्पादन रक्त प्रवाह में होता है और जो छोटे बच्चे होते हैं उनका लीवर इतना ज्यादा परिपक्व नहीं होता जिससे कि इससे छुटकारा पा सके जिसके कारण बिलीरूबिन का कंसंट्रेशन रक्त मैं बढ़ने लगता है औरhyperbilirubinemia हो जाता है छोटे बच्चों में कुछ कारणों की वजह से पीलिया होता है अगर बच्चे समय से पहले जन्म लेते हैं जिसके वजह से लीवर का अच्छे से विकास भी नहीं हो पाता लीवर का विकास अच्छे से नहीं हो पाने के कारण वह बिलीरुबिन का निष्कासन नहीं कर पाते जब बच्चे को मां का दूध पर्याप्त मात्रा में नहीं मिलता तो भी पीलिया होता है कभी-कभी मां और बच्चे का ब्लड ग्रुप एक जैसे नहीं होते जिसके कारण से बच्चे का आरबीसी मां के द्वारा शरीर में उत्पादित एंटीबॉडीज द्वारा नष्ट कर दिए जाते हैं इसके कारण बच्चे के रक्त में बिलीरुबिन की मात्रा बढ़ जाती है इसकी वजह से बच्चों में बहुत सारे लक्षण दिखाई देते हैं जो सबसे पहला लक्षण है बच्चे की त्वचा का गाना पीला हो जाना बच्चे का पीलिया का पता आपको 72 घंटे के बाद ही ज्यादा पता चलता है अगर बच्चा बहुत ज्यादा सोता है और तेज होता है तो उनको पीलिया की परेशानी होती है अगर बच्चा सही तरीके से दूध नहीं पीता है तो भी उसको पीलिया की परेशानी होती है यदि बिलीरुबिन का देवल 25 ग्राम से ज्यादा हो जिसकी वजह से बच्चे का झंडा इमेज और मृत्यु भी हो सकती है इस अवस्था में बच्चे को फोटो थेरेपी में रखा जाता है इसलिए अगर आप घर पर हो और पता चलता है कि बच्चे को पीलिया है तो उसे तुरंत हॉस्पिटल लेकर जाना चाहिए यह फोटो थेरेपी एक प्रकार की ऐसी therepy पर होती है जिस पर नीली और हरी लाइट होती है जो यार लाइट बिलीरूबिन के अणुओं के आकार और संरचना को संशोधित करती है जिसके कारण बच्चे लैट्रिंग और सुसु करने लगते हैं फिर इसके द्वारा बिलीरुबिन की मात्रा बाहर निकल जाती है और अगर बच्चे की piliya बहुत गंभीर समस्या में हो तो उस समय बच्चे का थोड़ा सा ब्लड लिया जाता है और मां के रक्त में उपस्थित बिलीरुबिन और एंटीबॉडी स्कोर पतला करके से बच्चे की शरीर में डाला जाता है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा beta 5 महिने का हो गया है वो अभी तक पलtता bhi nhi,mai kya kru?
उत्तर: आप बच्चे की मालिश प्रतिदिन 2 बार करें और सरसों या जैतून के तेल से ही करें यदि आपका बच्चा अभी तक पलटना नहीं सीख पाया है अभी आपके बच्चे का पांचवा महीना चल रहा है तो आपको एक बार डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेटा 15 दिन का हुआ है और उसको सर्दि और खासी और गले मे कफ hai bhut paresan hai koi solution btaye jaldi
उत्तर: ऐसे में आप कुछ घरेलू उपाय कर सकते हैं जिससे आप अपने बच्चे का बचाव कर सकें आप गर्म सरसों का तेल लें और इसे गर्म करें लहसुन की कलियां वे उन्हें हल्का कूटे और सरसों के तेल में डालकर भुने इससे सीने और पांव की मालिश करें इससे बच्चे को काफी आराम होगा केसर के कुछ धागे इसका पेस्ट बनाएं रात में बच्चे के पांव और माथे पर थोड़ा सा इसको लगाएं केसर बच्चे के माथे पर जमा पानी सोख लेता है आप सहजन के पत्ते यूज कर सकती हैं इसके लिए आप सहजन के कोमल हरी पत्तियां ले एक पैन में नारियल का तेल गर्म करें उसमें पत्तियां डाल दें जब तेल ठंडा हो जाए तो बच्चे को की तेजस तेल से मालिश करें मौसम के अनुसार कपड़े पहनाकर रखें अपना और अपने बच्चे का हाथ साफ करके रखें आप अपना ध्यान रखें कभी आप अपने बच्चे का ध्यान रख सकते हैं ब्रेस्ट फीडिंग कराते रहें इसमें एंटीबॉडीज होते हैं जो कि आपके बच्चे की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाएगा बच्चे को आराम पहुंचाने के लिए आप नीचे दिए गए कुछ उपाय यूज कर सकते हैं बच्चे को भाप युक्त कमरे में रखें उसे भाप दिलाएं भाप लेने से उसकी नाक और छाती खोलने में मदद मिलेगी बाथरूम में गर्म पानी का शाबर चला ले और बच्चे को अंदर ले कर बैठ जाए करीब 15 मिनट बाहर आने के बाद उसके कपड़े change कर सूखे कपड़े पहना दे गद्दे का सिरआना ऊंचा उठा देने से बच्चे को सांस लेने में आसानी होगी बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग कराएं इससे cough nd cold से निपटने में मदद मिलेगी
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मम मेरा beta 17 दिन का है उसके face mai lal dane ho gye hai jaise ki ghamoriya ho mai kya kru kuch samj nhi aa rha yai harmons change k krke hai ya mujy doctor ko dhikhana chaye
उत्तर: हेलो आपके बेबी को शायद किसी चीज से एलर्जी हो गई है वो इनमें से कुछ भी हो सकता है जैसे मालिश करने वाला तेल क्रीम साबुन या कोई लोशन जो आप बच्चे के लिए यूज कर रही हो। कभी-कभी बच्चों को नए कपड़ों से भी एलर्जी हो जाती है बच्चों को लगाने वाले पाउडर से भी एलर्जी होती है घर में होने वाले पालतू जानवर भी बच्चों मैं एलर्जी के कारण होते हैं। आप बच्चे को डॉक्टर को जरूर दिखा ले
»सभी उत्तरों को पढ़ें