22 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: main प्राइवेट जॉब करती हु . to शाम को hi aram करती hu टु kbhi baby movement km hoti to कभी shi लगता ... कोई prob है एस.एम.जे.एच. nhi आ rha

2 Answers
सवाल
Answer: hello आपके बेबी के मूवमेंट कम होने का कारण आपका ज्यादा एक्टिव होना भी हो सकता है अगर आप ज्यादा काम करेंगे चलेंगें या आराम नहीं करेंगे तो आपकी बेबी का मूवमेंट कम होता है। आराम करते समय या सोते समय ही बेबी का मूवमेंट ज्यादा होता है।इसलिए जब आपको बेबी का मूवमेंट कम लगे आप कुछ मीठा खाकर ठंडा पानी पी कर लेफ्ट करवट करके लेट जाएं। मूवमेंट होने लगेगा
Answer: mere sath वी yhi prob है private job h to aaram sirf sham ko 1ghnte hi kr pati hu . movement km feel hiti h
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा 5तो मंथ चल रहा है बच्चा कम कभी कभी मोम्मेन्त करता ह कोई बात तो नहीं कभी कभी टु ये लगता ह की कुछ है ही नहीं
उत्तर: हेलो डिअर बच्चे की मूवमेंट होती रहती है पर हम धयान नहीं दे पाते आप कुछ मीठा और गरम ले कर लेफ्ट करवट हो कर आराम करें देखिएगा बच्चे की मूवमेंट होने लगेगी कभी कभी ऐसा लगता है की बेबी की मूवमेंट नहीं हो रही पर ऐसा होता नहीं है :)बाकी अआप्के अल्ट्रासाउंड में सब ठीक है तोह चिंता नहीं 1 दिन में कम से कम 10 से 15 बार मोमेंट होना जरूरी है इस बात का जरूर खास खयाल रखें यदि कम लगे तो डॉक्टर से जरूर का एक बार कंसल्ट करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मुझे अपना पेट बहुत भरा हुआ लगता है कभी कभी लगता है ki pet fool rha ho or m time par fresh bhi nhi hoti hu
उत्तर: पेट में गैस की समस्या को दूर करने के लिए आप फाइबर युक्त भोजन को अपने आहार में शामिल करें। एक या 2 घंटे में थोड़ा-थोड़ा खाएं जरूर। गर्भावस्‍था के दौरान तनाव नहीं लें. टेंशन होने से पेट में दर्द और ऐंठन हो सकती है. गर्भावस्‍था में शरीर में पानी की कमी हो जाती है और इस कारण पेट फूल जाता है. ऐसे में समय-समय पर पानी पीते रहें. गर्भावस्था में कब्ज होने के सबसे आम कारण हैं: प्रेग्नेंसी हॉर्मोन प्रोजेस्टीरोन, जो कि पाचन तंत्र से भोजन के गुजरने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है। आप अपने आहार और जीवनशैली में कुछ बदलाव कर सकती हैं, जो कि कब्ज से राहत दे सकते हैं: हर रोज उच्च फाइबर युक्त भोजन खाएं जैसे कि सीरियल्स और दलहन (राजमा, छोले, रागी), साबुत अनाज की ब्रेड जैसे कि पूर्ण अनाज की चपाती और ताजा फल व सब्जियां। फल जैसे कि अमरूद, सब्जियां जैसे कि गाजर और फूलगोभी में उच्च मात्रा में फाइबर होता है। अगर आप पहले से कम फाइबर वाले आहार का सेवन करती रही हैं, तो धीरे-धीरे अपने आहार में फाइबर की मात्रा बढ़ाएं, ताकि आपका शरीर इस बदलाव के लिए तैयार हो सके। अचानक से उच्च फाइबर युक्त आहार लेने से आपको शायद पेट में मरोड़ हो सकते हैं और आपको फुलावट महसूस हो सकती है। जब आप अधिक फाइबर वाले भोजन खाती हैं, तो यह भी महत्वपूर्ण है कि आप पर्याप्त मात्रा में तरल पदाथ लें, वरना इससे कब्ज और बढ़ सकती है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें