22 weeks pregnant mother

Question: kya pregnancy me chaye piskte h ise buby ko to koi dikat to nhi hogi n

2 Answers
सवाल
Answer: चाय में कैफीन होता है इसलिए ज्यादा मात्रा में पीना अच्छा नहीं है. आप रोज के एक या दो छोटे कप चाय पि सकते हो.
Answer: Pregnancy Mai chay avoid hi Karana chahiye fir bhi aapka man hai to AAP dinbhur Mai 1 ya 2 time hi pijiye
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera pet thoda tayit rhta h night ko me kya karu koi dikat to nhi hogi
उत्तर: प्रेग्रेंसी मे बॉडी मे बहुत तरह के शारीरिक परिवर्तन होते हैं .Uterus का साइज भी लगभग 200 गुना बड़ा हो जाता हैं ,बॉडी मे हॉर्मोन का level aur रक्तः संचार भी बढ़ जाता हैं ,जैसे जैसे बेबी का वजन बढ़ता हैं uterus पर बहुत जोर पड़ता हैं .इसी कारण abdominal muscle (नीचे के पेट के आस पास )हार्ड हो जाता है ,और टाइट फील होता है ,ऐसा होना एकदम नार्मल है ,आप कोशिश करें की बाई करवट सोये इससे आपको आराम मिलेगा और बेबी के बॉडी मे ऑक्सीजन का संचार अच्छा होगा अगर आपको सोने मे ज़्यादा प्रॉब्लम हो तो आप प्रेगनेंसी pillow का bhi use कर सकते है ,ये बहुत आरामदायक होता है सोने के लिए
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: dr aaj subah me mere pet ke lefat said bahut hi dard ho rha h ise baby ko to dikat nhi hogi n
उत्तर: इसमें बच्चे को कोई प्रॉब्लम नहीं है. प्रेगनेंसी में कभी कभी पेट में और आपकी छाती में या स्तन में दर्द होना आम बात है| प्रेग्नेंसी के दौरान आपका गर्भाशय बड़ा हो रहा है जिसकी वजह से डायाफ्राम पर भी प्रेशर आता है| डायाफ्राम पेट और छाती को अलग करने वाली एक पतली सी झिल्ली है| तो इस वजह से आपको ब्रेस्ट में थोड़ा पेन हो सकता है| प्रेग्नेंसी के दरमियान ब्रेस्ट का कद भी थोड़ा बढ़ता है और इस प्रक्रिया के दरमियान भी थोड़ा दर्द होता है| प्रेगनेंसी में पेट और छाती या ब्रेस्ट में दर्द का दूसरा कारण इनडाइजेशन या गैस की समस्या हो सकता है| प्रेगनेंसी में कई चीजों खाने से इनडाइजेशन हो सकता है और जिससे गैस की समस्या से कारण पेट या तो फिर छाती में दर्द या जलन होता है| ऐसा ना हो इसके लिए आप खाने में ध्यान रखें| ज्यादा ऑइली य स्पाइसी फूड ना खाएं| और जब भी खाना खाए थोड़ा-थोड़ा करके ज्यादा बार खाए एक बार बहुत सारा खाना ना खाए|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mughe hlka cold hua h aaj isse mere baby ko koi dikat to nhi hogi na
उत्तर: जैसे ही महिलाएं गर्भवती होती हैं उन्हें जल्दी इन्फेक्शन हो जाता है। क्योंकि उनकी बॉडी बहुत ही सेंसिटिव हो जाती है प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है 1) सर्दी खांसी से खुद को बचाने और गर्भावस्था में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए आपको अपने डायट में ताजे फल सब्जियां और साबुत अनाज शामिल कर सकती हैं। 2) तरल पदार्थों का अधिक से अधिक सेवन करना चाहिए जैसे अदरक वाली चाय हर्बल चाय और फलों का जूस 3) ज्यादा थके नहीं आराम करें आप जितने आराम से रहेंगे आपको इन्फेक्शन उतना ही कम होगा 4)खासी आने पर ईलायची मुंह में लेखर चुसें। उपाय-- सर्दी होने पर अक्सर नाक बंद हो जाता है तो आप गर्म पानी गर्म पानी का मशीन से भाप ले सकती हैं इसमें आप दो तीन बूंद नीलगिरी का तेल डाल ले इससे सिर के ऊपर तो लिया ढक कर अपना सर बर्तन के ऊपर झुकाकर भाप लें इससे आपकी बंद नाक खुल जाएगी और सर दर्द कम हो जायेगा और सर्दी से भी राहत मिलेगीसाथ ही अगर गले में भी दरद या टांसील हो तो गरम पानी में नमक डालकर दीन में चार पांच बार तो राहत मिलेगी आप तुलसी अदरक का रस आधा आधा चम्म्च लेकर शहद मीलाकर पी सकती हैं।इससे सर्दी खांसी में राहत मीलेगी। गुनगुने गर्म पानी में शहद और नींबू डालकर आप इसे पी सकती हैं अगर आपकी सर्दी खांसी ठीक नहीं हो रही है और आप को तेज बुखार है तो आप को बिल्कुल भी देर नहीं करना चाहिए डॉक्टर से कंसल्ट करें और अपनी मर्जी से कोई भी दवाई ना लेऔर सबसे इम्पोर्टेन्ट बात की आपके ख़ासी सर्दी से बेबी को कोई असर नहीं होता है इसलिए इस बात को लेकर बिलकुल चिंता ना करें .
»सभी उत्तरों को पढ़ें