22 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: grehan ka tym kya h or kya ye india m bhi dikhega kya

3 Answers
सवाल
Answer: साल 2018 में तीन सूर्य ग्रहण पड़ने थे जिसमें से आखिरी आने वाली 11 अगस्त को शनिवार के दिन पड़ेगा। इससे पहले सूर्य ग्रहण 15 फरवरी और 13 जुलाई को पड़ चुका है। ये वर्ष का अंतिम ग्रहण भारत में दृश्य नहीं होगा। उत्तरी अमेरिका, उत्तर पश्चिमी एशिया, दक्षिण कोरिया, मास्को, चीन आैर लंदन आदि देशों के लोग इसे देख पाएंगे। इसका सर्वाधिक प्रभाव इन्हीं स्थानों पर दिखार्इ पड़ेगा। इन देशों में सूर्यग्रहण सुबह 9 बजे से लेकर 9 बजकर 30 मिनट के बीच प्रारंभ होगा। अगले साल भी तीन ग्रहण हालाकि भारत में इस सूर्यग्रहण का सूतक काल 10 अगस्त की रात 1 बजकर 32 मिनट पर शुरू हो जाएगा, परंतु क्योंकि ये भारत में नहीं दिखेगा, इसलिए यहां सूतक का प्रभाव ना के बराबर ही रहेगा। पंडितों का कहना है कि 2019 में भी तीन ही सूर्य ग्रहण देखने को मिलेंगे। अगले का पहला सूर्य ग्रहण 6 जनवरी को, दूसरा 2 जुलाई को और तीसरा 26 अगस्त को पड़ेगा। इस साल का पहला सूर्य ग्रहण 15 फरवरी को आैर दूसरा 13 जुलाई को पड़ा था। 09 अगस्त को जन्म लेने वालों के लिए शुरू हो गया है अच्छा समय यह भी पढ़ें राशियों पर प्रभाव भले ही ये ग्रहण भारत में दृश्य नहीं है परंतु विभिन्न राशियों पर इसका कुछ ना कुछ प्रभाव अवश्य पड़ेगा। एेसे में जाने किस राशि पर क्या पड़ेगा सूर्य ग्रहण का असर। मेष राशि पर ग्रहण का व्यथा प्रदान करने वाला होगा, वृष राशि वालों को श्री यानि धन की प्राप्ति होगी, मिथंन राशि वालो को इसके विपरीत हानि हो सकती है, कर्क राशि वालों को क्षति होगी, सिंह राशि वालों को किसी भी रूप में घात का सामना करना पड़ सकता है, कन्या राशि वालों को लाभ होगा, तुला वालों को सुख देने वाला, वृश्चिक राशि वालों को मानभंग का सामना करना पड़ सकता है, धनु राशि वालों कष्ट उठाना पड़ सकता है, मकर राशि वालों को स्त्री संबंधि चिंता हो सकती है, कुंभ राशि वालों को सुख आैर मीन राशि वालों को चिंता का सामना करना पड़ सकता है।
Answer:  इस साल का आखिरी और तीसरा सूर्य ग्रहण 11 अगस्त को लगेगा।  यह 11 अगस्त को उत्तरी गोलार्ध में सुबह के शुरुआती समय में  दिखाई देगा। इस बार सूर्य ग्रहण  का समय कुल 3 घंटे 30 मिनट तक होगा। नासा के जारी किए एक जिफ के मुताबिक यह आंशिक सूर्य ग्रहण चीन को कुछ भागों में भी दिखाई देगा।  इसके अलावा नोर्थ कनाडा, नोर्थ ईस्टर्न यूएस, ग्रीनलैंड, साइबेरिया और सेंट्रल एशिया के कुछ भागों में भी ये दिखाई देगा। ग्रीन विच मीन टाइम के अनुसार यह सुबह 9 बजे (1.32 रात्रि IST) शुरू होगा और नोर्थ अमेरिका और ग्रीनलैंड में होता हुआ 12.32 पीएम जीएमटी (5.02 pm IST) पर समाप्त होगा।  आपको बता दें कि इससे पहले 13 जुलाई को लगने वाला सूर्य ग्रहण आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में दिखाई देga 11 अगस्त का सूर्य ग्रहण का भारत में दिखाई नहीं देगा। इसलिए ज्योतिष के मुताबिक इस ग्रहण का प्रभाव भी यहां नहीं पड़ेगा। आपको बतादें कि नासा के अनुसार अगले साल 2019 में भी तीन सूर्य ग्रहण देखने को मिलेंगे। 2019 में पहला सूर्य ग्रहण 6 जनवरी को, दूसरा 2 जुलाई को और तीसरा 26 अगस्त को पड़ेगा। 
Answer: 🙏इसी ऍप में एस्ट्रोलॉजी एप्प में आप ये पूछ सकती उसमे शायद़ आपको अपना जवाब मिल सकता है।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: surya grehan 13 ka hi h? nd isme kya kya precautions hote h bta dijiye ..isme gents ka bhi koi role hota h kya? i mean unke lie bhi koi precaution hota h kya?
उत्तर: jitne der tak grahan hoga utne der tak apko koi bhi knife ka use nhi krna hai. na koi needle se kaam krna hai. grahan ke pure time ap koi granth, ramayan ya geeta ka path krna. grahan k samay sote bhi nhi h. ache s bethke path krte rehna. bahut se log grahan k waqt phne hue kapde daan kr dete hai aur gehu ka daan bhi krte h. in sabse apka baby safe rahega.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: 27 ko grehan h...us din kya pricuations leni chiye
उत्तर: hello dear अगर, आप या आपका परिवार गर्भस्थ शिशु पर ग्रहण के असर को लेकर चिंतित हैं, तो घर के अंदर ही रहने में कोई नुकसान नहीं है। वैसे भी, यह केवल कुछ ही घंटों के लिए होता है। ऐसे में यदि इससे जुड़ी परंपराओं का पालन करके आप और आपके परिवार को मन की शांति मिलती है, तो इसमें कोई बुराई नहीं है। क्योंकि चंद्र ग्रहण देर रात में होता है, इसलिए इससे बचना आसान रहता है, मगर सूर्य ग्रहण के दौरान खुद को सुरक्षित रखना मुश्किल हो सकता है। मगर, यदि आप ग्रहण की अवधि के दौरान घर पर नहीं रह सकतीं और इससे जुड़े आम नियमों का पालन नहीं कर सकतीं या फिर आप ऐसा करना नहीं चाहती हैं, तो भी फिक्र न करें। ग्रहण में बाहर निकलने से जरुरी नहीं है कि आपके शिशु को नुकसान पहुंचेगा या फिर वह किसी जन्मचिह्न के साथ पैदा होगा। कुछ आम नियमों के बारे में यहां बताया गया है: ग्रहण की अवधि के दौरान किसी भी पैनी या नुकीली चीज जैसे कि चाकू, कैंची या सुई के इस्तेमाल की मनाही ग्रहण की अवधि में कुछ भी न खाना ग्रहण के दौरान जितना संभव हो आराम किया जाए खिड़कियों को अखबारों या मोटे पर्दों से ढक देना, ताकि ग्रहण की कोई भी किरण घर में प्रवेश न कर सके ग्रहण से पहले के तैयार भोजन को फैंक देना ग्रहण समाप्त होने पर नहाना कुछ परिवारों का मानना है कि गर्भवती महिला को ग्रहण के दौरान पानी भी नहीं पीना चाहिए। हालांकि, इससे आपको निर्जलीकरण (डिहाइड्रेशन) का खतरा हो सकता है, खासकर कि ग्रहण यदि गर्मियों में हो तो। बहरहाल केवल 2-3 घंटे के लिए खाना न खाने से शायद कोई परेशानी न हो, मगर लंबे समय तक भूखे रहने से सिरदर्द, थकान, एसिडिटीगर्भावस्था में थकानऔर यहां तक कि बेहोशी भी हो सकती है। अगर, आपको इनमें से कोई भी लक्षण महसूस हो, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा पेट abhi bhi nhi dikh raha h kb dikhega
उत्तर: हैलो डियर-- गर्भावस्था में पेट 5से6 महीने के बीच दिखने लगता है लेकिन यह सभी में एक ही समय पर दिखे जरूरी नही है।यह अलग अलग बौडी स्ट्रक्चर पर अलग अलग समय पर दिखना डिपेंड करता है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें