28 weeks pregnant mother

Question: Hi ma'am mera 7 month chal rha hai or mere pairo me bhot sujan hai kya kru

सवाल
Answer: हेलो प्रेगनेंसी के दौरान होने वाले हाथ पैरों और चेहरे के सूजन को एडिमा कहते हैं। यह वाटर रिटेंशन के कारण और B P बढ़ने के कारण होता है जैसे-जैसे शिशु बढ़ता है तो उस का दबाव शरीर के निचले अंगों पर ज्यादा पड़ता है जिसके कारण निचले अंगों को ब्लड ले जाने वाली नसे दबती है। नसों के दबने की वजह से ही हाथ पैर चेहरे होंठ ब्रेस्ट नाक कूल्हों और आंखों के नीचे सूजन होता है। यह प्रेगनेंसी की एक आम समस्या है आपको बस थोड़ा एक्स्ट्रा केयर करने की जरूरत है जैसे कभी भी आप बैठे पर लटका कर ना बैठे। सोते समय हमेशा लेफ्ट करवट सोए इससे आपके निचले नसों पर दबाव कम पर पड़ता है। और ब्लड सरकुलेशन अच्छे से होता है। आप जितना ज्यादा पानी पिएंगे आपके लिए उतना ही अच्छा रहेगा। जब सूजन ज्यादा हो जाए तो सरसों के तेल या कोई भी तेल से पैरों की मालिश करवाएं। मालिश करवाते समय ध्यान रहे ऊपर से नीचे मसाज नहीं करना है नीचे से करते हुए ऊपर की डायरेक्शन पर लेकर जाना है। चेहरे पर ज्यादा सूजन होने से थोड़ा सरसो का तेल लगाकर गुनगुने नमक पानी से सेकाई करे । खाने में नमक की मात्रा धीरे धीरे कम करें। सुबह शाम वॉक करें। हल्के एक्सरसाइज भी करें
  • avatar
    Samiya Rwndhawa49 days ago

    Thanks ji

Answer: हेलो डियर पैरों ममे बहुत स्वेलिंग होना प्रेगनेंसी म नार्मल है।१/३ विमेंस को होती है। जब बॉडी को पूरी तरह से पानी नहीं मिलता तब स्वेलिंग की षिकायत ज़यादातर रेहटी है सो इस्सके लिए आप सबसे पहले पानी अच्छे से ले। बाबी की ग्रोथ की वजह से बढ़ता uterus aapke veins को प्रेशर देता है जो की ब्लड फ्लो के लिए प्रॉब्लम क्रिएट करता है। निचे दिए गए टिप्स फॉलो करें:- जयादा से ज़्यादा पानी पीजिये। वेइट चेक करवाते रहे वेट बढ़ने से भी स्वेलिंग की प्रॉब्लम होती ह एक्सेरसीसे करें-आराम से कुर्सी पर बैठकर अपने पैरों को उठाकर एड़ी को 10 मिनट राइट और 10 मिनट लेफ्ट घुमाए ऐसा दिन म ३बार करे। जयादा होने पर डॉक्टर से कंसल्ट ज़रूर करे।
Answer: पैरों में दर्द या सूजन हो जाना एक आम बात है इसकी वजह से ज्यादा चिंतित होने की जरुरत नहीं है आप ये सब कर के देखें आराम मिलेगा नमक में पैर भिगोना अपने पैरों के बीच एक तकिया रखकर अपनी बायीं ओर पर लेटे हुए घुटनों को छाती की ओर उठाने या फैलाने की कोशिश कीजिए एक बर्तन में पानी गर्म करें और इसमें नीम के पत्ते डाल दें और तब तक उबालते रहें जब तक नीम के पत्ते अपना रंग ना छोड़ने लगें अब इस पानी से पत्तियां निकालकर इसमें थोड़ी फिटकरी मिला लें और इस पानी में कुछ देर तक अपने पैरों को डालकर रखें, नीम के अंदर बैक्टीरिया से लड़ने की शक्ति होती है, और यह दर्द निवारक का कार्य भी करता है
Answer: पैरों में दर्द या सूजन हो जाना एक आम बात है इसकी वजह से ज्यादा चिंतित होने की जरुरत नहीं है आप ये सब कर के देखें आराम मिलेगा नमक में पैर भिगोना अपने पैरों के बीच एक तकिया रखकर अपनी बायीं ओर पर लेटे हुए घुटनों को छाती की ओर उठाने या फैलाने की कोशिश कीजिए एक बर्तन में पानी गर्म करें और इसमें नीम के पत्ते डाल दें और तब तक उबालते रहें जब तक नीम के पत्ते अपना रंग ना छोड़ने लगें अब इस पानी से पत्तियां निकालकर इसमें थोड़ी फिटकरी मिला लें और इस पानी में कुछ देर तक अपने पैरों को डालकर रखें, नीम के अंदर बैक्टीरिया से लड़ने की शक्ति होती है, और यह दर्द निवारक का कार्य भी करता है
Answer: हेलो डिअर, प्रेग्नेंसीय के दौरान हार्मोन परिवर्तन की वजह से बॉडी में बहुत से changes होने लगती है जिसकी वजह से बॉडी में सूजन और पैरो में सूजन आ जाती है प्रेजेंसीय के दौरान बॉडी में रक्त प्रवाह बहुत ज्यादा बढ़ जाता है जिसकी वजह से भी पैरो में सूजन आ जाती है जो चलने में दर्द होता है ऐसे में आप कही भी ज्यादा देर तक खड़े न रहे जिसकी वजह से सूजन और बढ़ जाता है , पैरो की गर्म पानी से सिकाई करे ऐसा करने से पैरो की सूजन कम हो जाती है , ऐसे में आप खूब पानी पीते रहे , थोड़ा थोड़ा चले फिर आराम कर ले , पैरो की एक्सरसाइज करें , एक ही मुद्रा में ज्यादा देर तक ना सोये।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera 6th month chal rha hai aur mere pairo me sujan ho gyi hai iske liye mai kya kru..
उत्तर: बहुत से उपाय सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं, लेकिन सबसे सुखद हल्की मालिश ही मानी जाती है। मसाज से ब्लड सर्कुलेशन तेज होता है, जो सूजन को कम करता है। इससे ऐंठन की समस्या भी कम होती हैंगर्भावस्था के दौरन खूब पानी पीना चाहिए। यह आपको गर्भावस्था से संबंधित कई समस्या जैसे सूजन से निपटने में मदद करेगा। आमतौर पर यह माना जाता है कि नमक का ज्यादा प्रयोग सूजन को बढ़ा देता हैं। लेकिन अपने चिकित्सक की सलाह के बिना गर्भावस्था के दौरान नमक में कटौती नहीं करनी चाहिए।अपने पैरों के बीच एक तकिया रखकर अपनी बायीं ओर पर लेटे हुए घुटनों को छाती की ओर उठाने या फैलाने की कोशिश कीजिये। आप अनेक प्रकार के मेटरनिटी तकिया खरीद सकती हैं, हालांकि आप पाएंगी कि आपका आम तकिया भी उतना ही बढि़या काम करता है। अतिरिक्त आराम और सहारे के लिए इन तकियों को अपने पैरों के बीच, अपने नितम्बों के नीचे और अपनी पीठ के पीछे रखिये।अपनी बायीं ओर करवट लेकर सोने की आदत डालिए। बायीं करवट पर सोने से आपके गुदो को भी अपशिष्ट पदार्थों और द्रवों को आपके शरीर से अधिक कुशलतापूर्वक बाहर निकालने में मदद मिलती है। जिससे एडि़यों, पांव और हाथों में सूजन को कम करने में मदद मिलती है। यह सिर्फ रात के लिए ही नही है बल्कि दिन भर में हर एक घंटे के बाद थोड़ी देर आराम करना जरूरी हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera 6 month chal rHa hai or mere pairo me sujan hai is se baby ko koi peoblem to nhi
उत्तर: हेलो डियर आप परेसान ना हों अकसर प्रेग्नेन्सी में पैर में सुजन हो जाते है ऐसे में कुछ उपायो के द्वारा आप सुजन कम कर सकती है अदिक से अदिक पानी पीएं इस अवस्था मे आप जितना अधिक पानी पिएगी उतना ही कम पानी आपका शरीर पतिधारित करेगा नियमित व्यायाम कारें जैसे चलना घूमना ऑर तऐरना सन्तुलित आहार लें ऑर नमक का कम से कम उपयोग करें नमकीन चिप्स ये सब पैकेट वाली चीज़ें ना खाएँ मलीस करवाएं पैरो की ऑर एक ही स्थिति में जादा देर खेड़े ना रहें सरीर को आराम दें जादा काम ना करें और इससे आपके beby को कोई प्रॉब्लम नहीं होगी
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: 7 month chal rha h mera mere pairo m sujan aa rhi h kyu
उत्तर: हैलो डियर आप परेशान न हों हाथ पैरों में सुजन होने पर आप कुछ घरेलु उपाय कर सकती हैं। आप हल्के गुनगुने पानी में थोडा़ नमक डालकर अपना पैर डूबोकर कुछ देर बैठ सकती हैं इससे भी आराम मिलेगा अपने पैरों के बीच और नीचे एक तकिया रखकर सोयें सूजन और दर्द से राहत के लिए आप हीटिंग पैड का भी इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर आप किसी बोतल में गुनगुना पानी भरकर सिकाई भी कर सकती हैं इससे पैरों कर दर्द और सूजन तुरंत कम होने लगेगी. गर्भावस्था में शरीर में सूजन होने पर आप अधिक से अधिक आराम करें पानी और लिक्विड की मात्रा अधिक ले खाने में नमक की मात्रा कम करें कम चलें।गुनगुने पानी से नहायें हो सके तो हल्के गुनगुने तेल की मालिश लें जिससे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन सही ढ़ंग से हो और सुजन कम होगी।
»सभी उत्तरों को पढ़ें